Categories
मुद्दा

आम आदमी की भावनाओं को समझना भाजपा का संकल्प पत्र

-डॉ. सौरभ मालवीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अपने व्यक्तित्व एवं कृत्तिव से भारतीय राजनीति में अपनी एक ऐसी पहचान स्थापित की है जिसका कोई अन्य उदाहरण दिखाई नहीं दे रहा है। उन्होंने भाजपा को निरंतर दस वर्ष केंद्र की सत्ता में बनाए रखा। भाजपा की प्राय: सभी पुरानी घोषणाओं विशेषकर अयोध्या में राम जन्मभूमि […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

भावनाएं ,शब्द और भारतीय संविधान

केवल कृष्ण पनगोत्रा भारतीय संविधान में 26 जनवरी 1950 के बाद सौ से अधिक संशोधन हो चुके हैं। इनमें अब तक का सबसे महत्त्वपूर्ण 42वां संशोधन अधिनियम, 1976 है। इसे लघु संविधान के रूप में जाना जाता है। इसके तहत कुछ अन्य अत्यंत महत्त्वपूर्ण संशोधन भी किये गए हैं। प्रमुखत: इस संशोधन के तहत भारतीय […]

Categories
राजनीति

नेताओं के बिगड़े बोल और कानून की पाबंदी

ललित गर्ग लोकसभा चुनाव का प्रचार उग्र से उग्रतर होता जा रहा है। जैसे-जैसे चुनाव की तिथियां नजदीक आती जा रही है, प्रचार-अभियान में नफरती सोच एवं हेट स्पीच का बाजार बहुत गर्म है। राजनीति की सोच ही दूषित एवं घृणित हो गयी है। नियंत्रण और अनुशासन के बिना राजनीतिक शुचिता एवं आदर्श राजनीतिक मूल्यों […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

प्रधानमंत्री मोदी के तीसरे काल की आर्थिक चुनौतियां

शिवेश प्रताप पिछले कुछ समय से तमाम अंतरराष्ट्रीय आर्थिक पंडितों को धता बताते हुए भारत, वैश्विक अपेक्षाओं से भी उत्कृष्ट प्रदर्शन कर रहा है। इसी के फलस्वरुप पूरी दुनिया अब भारत को निर्विवाद रूप से सबसे तेजी से प्रगति करने वाली अर्थव्यवस्था मान चुकी है। इसी क्रम में भारत विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था […]

Categories
संपादकीय

राहुल गांधी की नकारात्मक राजनीति और चुनावी दौर

राजनीतिज्ञ को वर्तमान परिस्थितियों में अपना स्वार्थ सिद्ध करना प्राथमिकता पर दिखाई देता है। जबकि राजनेता को राष्ट्रहित दिखाई देता है। राजनीतिज्ञ अपने निहित स्वार्थ की राजनीति करता है। जब कि राजनेता देश के और राष्ट्र के भविष्य निर्माण की योजना में निमग्न रहता है। यही कारण है कि जहां राजनीतिज्ञ छोटी-छोटी बातों को तूल […]

Categories
आज का चिंतन

*दुख और चिंतन का विषय*

Dr DK Garg बचपन में महाशय मामचंद भजनीक एक भजन सुनाया करते थे अखिल विश्व कल्याणकारी,वेद सभा घर घर हो, ओम पताका फैराए जो, आर्य समाज अमर हों मुझे पिताजी अपने साथ पारायण यज्ञ में ले जाया करते थे और गुरुकुल के ब्रह्मचारियों का वेद पाठ मुझे प्रभावित करता था,इसी आलोक में मैं पीछे 18 […]

Categories
धर्म-अध्यात्म समाज

देवी हिडिम्बा मंदिर* 

(स्वामी गोपाल आनन्द बाबा – विभूति फीचर्स) हिमाचल प्रदेश की अत्यन्त मनोरम वादी मनाली व कुल्लू घाटी की महादेवी व इस क्षेत्र के शासकों की कुलदेवी हैं. हिडि़म्बा। जिनका सुप्रसिद्ध मंदिर मनाली में है। हि =अम्बा, डि=वनी और अम्बा = दुर्गा अर्थात् वन दुर्गा हैं हिडिम्बा। उक्त मंदिर विशाल प्राचीनता लिए हुए हैं। वर्तमान मंदिर […]

Categories
आओ कुछ जाने

इस तरह खोज हुई विटामिन ‘ई’ की

डॉ. गुलाबचंद कोटडिय़ा- विभूति फीचर्स विटामिन साधारणतया 4 प्रकार के ही अभी चिन्हित किए गए है। ए.बी.सी और डी। इन चारों में सारी शक्तियां व गुण समाहित होते हैं जिन्हें मनुष्य अपने शरीर के लिए चाहता है। इन विटामिनों की द्रव्य या गोलियां बनी बनाई बाजार में उपलब्ध है। इसके अलावा मजाक में एक और […]

Categories
धर्म-अध्यात्म

*बहुकुंडीय यज्ञ करना चाहिए या नहीं?*

उत्तर — जी हां, अवश्य करना चाहिए। जब किसी संस्था में वार्षिक उत्सव आदि अवसर पर 100 / 200 व्यक्ति उपस्थित हो जाते हैं, और आप उन्हें भोजन खिलाते हैं, तो उस समय वे सभी लोग क्या एक ही थाली में भोजन खाते हैं? या सबके लिए अलग-अलग 100 / 200 थालियां लगाई जाती हैं? […]

Categories
मुद्दा

बढ़ने लगी है सरकारी योजनाओं तक वंचित समुदाय की पहुंच

मोहन लाल गमेती उदयपुर, राजस्थान “हमें हर महीने की पहली से तीन तारीख के बीच राशन मिल जाता है. यदि कभी लेट होता है तो मेरे पोता और पोती राशन डीलर से नहीं मिलने का कारण पूछते हैं. मुझे तो कुछ नहीं पता है लेकिन मेरे घर की नई पीढ़ी बहुत जागरूक है. बच्चों ने […]

Exit mobile version