Categories
आज का चिंतन

● यह सब गड़बड़ घोटाला प्रभु के स्वरूप को ठीक से न समझने के कारण ही हुआ है ●

पण्डित शिवकुमार शास्त्री (भूतपूर्व संसद्-सदस्य) परमात्मा सर्वशक्तिमान्, सर्वव्यापी और अन्तर्यामी है, अतएव यह निराकार है। हेतु यह है कि साकार वस्तु सीमाबद्ध रहेगी और जो चीज सीमित होगी उसके गुण और कर्म भी सीमित ही रहेंगे । जिसकी शक्ति सीमा में होगी वह सर्वशक्तिमान् कैसे हो सकता है? यह ठीक है कि प्रत्येक निराकार सर्वशक्तिमान् […]

Categories
आज का चिंतन

वैदिक विवेक के साथ जीने वाला व्यक्ति समाज के लिए क्या कर सकता है?

जीवन का अन्तिम लक्ष्य क्या है? एष प्र पूर्वीरव तस्य चम्रिषोऽत्यो न योषामुदयंस्त भुर्वणिः। दक्षं महे पाययते हिरण्ययं रथमावृत्या हरियोगमृभ्वसम्।। ऋग्वेद मन्त्र 1.56.1 (एषः) वह, दाता तथा इन्द्रियों का नियंत्रक (प्र – उदयंस्त से पूर्व लगाकर) (पूर्वीः) पूर्ण रूप से (अव – उदयंस्त से पूर्व लगाकर) (तस्य) उसके लिए (परमात्मा की अनुभूति के लिए) (चम्रिषः) […]

Categories
आज का चिंतन

🌷ओ३म् जप से एकाग्रता और विघ्नों का नाश🌷

‘योगदर्शन’ में तो अतिशीघ्र मन की एकाग्रता प्राप्त करने का सरल सीधा साधन ओ३म् का जप और ओ३म् के अर्थ का चिन्तन बतलाया है। ‘योगदर्शन’ के समाधिपाद में लिखा है: तज्जपस्तदर्थभावनम् । ―(योगदर्शन १ । २८ ) ‘उस ओ३म् का जप और उस ओ३म् के अर्थभूत ईश्वर का पुन:-पुन: चिन्तन करना चाहिये।’ इस ओ३म् का […]

Categories
आज का चिंतन

वैदिक विवेक से परिपूर्ण जीवन के आधारभूत लक्षण क्या होते हैं?

कलियुगी जीवन का विनाशकारी उपभोक्तावाद क्या है? दानाय मनः सोमपावन्नस्तु तेऽर्वांचा हरी वन्दनश्रुदा कृधि।। यमिष्ठासः सारथयो य इन्द्र ते न त्वा केता आ दभ्नुवन्ति भूर्णयः।। ऋग्वेद मन्त्र 1.55.7 (दानाय) दान देने के लिए, कल्याण के लिए (मनः) मन (सोम पावन) शुभ गुणों, महान् दिव्य ज्ञान का पान करने वाला (अस्तु) हो (ते) आपका (अर्वांचा) अन्तर्मुखी […]

Categories
आज का चिंतन

वैदिक विवेक धारण करने वाला व्यक्ति किस प्रकार के जीवन का आनन्द लेता है?

वैदिक विवेक धारण करने वाला व्यक्ति किस प्रकार के जीवन का आनन्द लेता है? कलियुग में अपनी सम्पदा और ज्ञान का प्रयोग कैसे करें? अप्रक्षितं वसु बिभर्षि हस्तयोरषाळहं सहस्तन्वि श्रुतो दधे। आवृतासोऽ वतासो न कतृभिस्तनूषु ते क्रतव इन्द्र भूरयः।। ऋग्वेद मन्त्र 1.55.8 (अप्रक्षितम्) क्षय रहित, नाश न होने योग्य (वसु) सम्पदा (बिभर्षि) धारण करता है […]

Categories
आज का चिंतन

हमें सुनने के योग्य कौन बना सकता है? परमात्मा के विस्तृत ज्ञान और गतिविधियों को अनुसरण करने का क्या उद्देश्य है?

हमें सुनने के योग्य कौन बना सकता है? परमात्मा के विस्तृत ज्ञान और गतिविधियों को अनुसरण करने का क्या उद्देश्य है? ज्ञान, कर्म और उपासना का दिव्य पथ क्या है? स हि श्रवस्युः सदनानि कृत्रिमा क्ष्मया वृधान ओजसा विनाशयन्। ज्योतींषि कृण्वन्नवृकाणि यज्यवेऽव सुक्रतुः सर्तवा अपः सृजत्।। ऋग्वेद मन्त्र 1.55.6 (सः) वह (हि) केवल (श्रवस्युः) हमें […]

Categories
आज का चिंतन

भिक्षा फलीभूत*

स्टोरी -डॉ डी के गर्ग –५। ५ । २०२४ * चुनाव का बिगुल बज चुका है, नेताओं ने अपनी अपनी तरह से शतरंज की बिसात बिछा दी है,मुद्दे गर्म है, जनता और देश के विकास के लिए नेता अपने बिलों से निकलकर सड़क पर आ गए हैं और घर घर जाकर हाथ जोड़कर सेवा का […]

Categories
आज का चिंतन

ब्राह्मण का जन्म ब्रह्मा के मुख से हुआ?*

भाग 1 डॉ डी के गर्ग निवेदन : कृपया अपने विचार बताये। एक पौराणिक मान्यता है की ब्राह्मण ब्रह्मा के मुख से पैदा हुए। किस ब्राह्मण के विषय मे ये कहा गया है,इसका कोई उत्तर किसी के पास नही है,वर्तमान में जो ब्राह्मण समाज है उसके लिए ये कहावत ठीक नहीं है, फिर क्या उनके […]

Categories
आज का चिंतन

ब्रह्मा जी के मन से उत्पन्न हुए थे महान ऋषि मारीच

आचार्य डॉ. राधे श्याम द्विवेदी सृष्टि के शुरुवाती दिनों में मरीचि नाम के एक महान ऋषि हुए थे । वे ब्रह्मा के मानस पुत्र तथा सप्तर्षियों में से एक थे। ये ब्रह्मा जी के मन से उत्पन्न हुए थे। मरीचि का शाब्दिक अर्थ चंद्रमा या सूर्य से आने वाली प्रकाश की किरण है । और […]

Categories
आज का चिंतन

पौराणिक और आर्य समाजी में अन्तर

======================== बहुत से लोग हमसे पूछते हैं कि सनातनी पौराणिक हिन्दू और एक आर्य समाजी में क्या अंतर होता है ? तो उनके लिये हम ये मुख्य विचारधारा का अंतर यहाँ पर दिखा रहे हैं :- (१) पौराणिक हिन्दू १८ पुराणों को वेद से ऊपर मानता है और आर्य समाजी वेद को ही ईश्वरीय ज्ञान […]

Exit mobile version