Categories
मुद्दा

भ्रष्टाचार की पोल खोलते ढहते हुए पुल

– ललित गर्ग – बिहार में एक पखवाड़े के भीतर लगभग एक दर्जन छोटे-बड़े पुलों के ध्वस्त होने की घटनाएं हैरान करने के साथ-साथ चिंतित करने वाली हैं। जैसी खबरें हैं, अकेले बुधवार, यानी 3 जुलाई को ही राज्य के विभिन्न हिस्सों में पांच पुल-पुलिया धराशायी हो गए। इनमें सिवान में छाड़ी नदी पर बने […]

Categories
मुद्दा

गांव तक सड़क पहुंची मगर परिवहन की सुविधा नहीं

गोल्डी कुमारी गया, बिहार हमारे देश में पिछले कुछ दशकों में जिन बुनियादी ढांचों पर सबसे अधिक ज़ोर दिया गया है, उसमें सड़क प्रमुख है. वर्ष 2000 में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (पीएमजीएसवाई) के लांच होने के बाद से गांव के सड़कों की स्थिति में काफी सुधार आया है. इसका सीधा असर ग्रामीण जनजीवन और […]

Categories
मुद्दा

हाथरस में हुई मौतों का आखिर जिम्मेदार कौन ?

ललित गर्ग – उत्तर प्रदेश के हाथरस में मंगलवार को एक सत्संग के समापन के बाद मची भगदड़ में एक सौ इक्कीस लोगों के मरने एवं सैकड़ों लोगों के घायल होने की हृदयविदारक, दुःखद एवं दर्दनाक घटना ने पूरे देश को विचलित किया है। ऐसी घटनाएं न केवल प्रशासन की लापरवाही एवं गैर जिम्मेदारी को […]

Categories
मुद्दा

वरिष्ठ नागरिकों की केंद्र सरकार से अपेक्षाएं*

(सत्यशील अग्रवाल – विनायक फीचर्स) हमारे देश की सरकार देश के सभी बुजुर्गों का भरण पोषण करने में (सरकारी कर्मचारियों को छोड़ कर) असमर्थ होते हुए भी अन्य अनेक ऐसे उपाय कर सकती है जो बुजुर्गों के लिए लाभदायक सिद्ध हो सकते हैं और सरकार के राजकोष पर अधिक बोझ भी नहीं पड़ेगा जो निम्न […]

Categories
मुद्दा

शहर भी तरस रहा है पानी के लिए

दिनेश कुमार जयपुर, राजस्थान देश में लगातार बढ़ते तापमान के साथ ही पीने के पानी की समस्या भी बढ़ी है. इससे राजधानी दिल्ली और अन्य महानगर भी अछूते नहीं हैं. ऐसी स्थिति में ग्रामीण क्षेत्रों और शहरी इलाकों में आबाद कच्ची बस्तियों के हालात को बखूबी समझा जा सकता है. जहां आज भी पीने के […]

Categories
मुद्दा

आखिर क्यों ढ़हा भाजपा का मजबूत किला*

(शिव शरण त्रिपाठी-विनायक फीचर्स) यदि भाजपा 2024 के आम चुनाव में अपने बलबूते बहुमत न हासिल न कर सकी तो इसका मुख्य कारण उत्तर प्रदेश में भाजपा का किला ढहना माना जा रहा है। जिस उत्तर प्रदेश में भाजपा ने 2014 के आम चुनाव में 71 सीटे जीती हो और 2019 के आम चुनाव में […]

Categories
मुद्दा

नरेंद्र मोदी : हिंदूवाद से सत्तावाद की ओर

✍️मनोज चतुर्वेदी “शास्त्री आदरणीय मोहन भागवत और श्री इंद्रेश जी के बयानों के पश्चात मीडिया और राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा ज़ोर पकड़ने लगी है कि क्या राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के बीच “खटपट” चल रही है? यहां यह प्रासंगिक है कि श्री नरेन्द्र मोदी ने सर्वप्रथम 2014 में “हिंदूवाद” के मुद्दे […]

Categories
मुद्दा

भाजपा कहीं हार गई तो कहीं हारते हारते बची है ,आखिर क्यों

क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि विकास के कारण भी हार हो सकती है? अर्थात, कोई नेता या पार्टी इसीलिए हार जाए क्योंकि उसने विकास किया? सुनने में ये अजीब और हास्यास्पद जरूर लगे… लेकिन, अपने भारत के संदर्भ में ये बिल्कुल सच है। असल में इस चुनाव से कुछ पहले मेरा देवघर जाना […]

Categories
मुद्दा

बाल श्रम की अंधी गलियां और कानून

-ललित गर्ग- पूरी दुनिया में बाल श्रम एक ज्वलंत समस्या है, कैसा विरोधाभास है कि हमारा समाज, सरकार और राजनीतिज्ञ बच्चों को देश का भविष्य बताते हुए नहीं थकते लेकिन क्या इस उम्र के लगभग 25 से 30 करोड़ बच्चों से बाल मजदूरी के जरिए उनका बचपन और उनसे पढने का अधिकार छीनने का यह […]

Categories
भयानक राजनीतिक षडयंत्र मुद्दा

दुनिया चकित है केरल के महाज्ञानी छात्रों के नम्बर देख कर

विश्व मे ये पहला उदाहरण है। दुनिया चकित है केरल के महाज्ञानी छात्रों के नम्बर देख कर। आज TV पर बताया गया कि केरल बोर्ड से 100% नम्बर लेकर आये 4000से ज्यादा छात्र -छात्राओं ने दिल्ली वि वि मे फार्म भरा। एक ही कॉलेज में। इनमें से इतिहास में 38, भूगोल में 34, गणित में […]

Exit mobile version