Categories
पर्यावरण

वेदों में पर्यावरण विज्ञान

लेखक- स्वर्गीय डॉ रामनाथ वेदालंकार प्रस्तोता- प्रियांशु सेठ सहयोगी- डॉ विवेक आर्य (आज 5 जून “विश्व पर्यावरण दिवस” पर विशेष रूप से प्रकाशित) वेद का सन्देश है कि मानव शुद्ध वायु में श्वास ले, शुद्ध जल को पान करे, शुद्ध अन्न का भोजन करे, शुद्ध मिट्टी में खेले-कूदे, शुद्ध भूमि में खेती करे। ऐसा होने […]

Categories
पर्यावरण

महर्षि दयानन्द का पर्यावरण चिंतन

महर्षि दयानन्द जी ने अपनी पुस्तक गौकरूणानिधि नामक पुस्तक पर्यावरण की रक्षा के विषय में लिखते हैं– इसीलिये आर्यावर्त्तीय राजा, महाराजा, प्रधान और धनाढ़्य लोग आधी पृथ्वी में जंगल रखते थे कि जिससे पशु और पक्षियों की रक्षा होकर औषधियों का सार दूध आदि पवित्र पदार्थ उत्पन्न हों, जिनके खाने पीने से आरोग्य, बुद्धि-बल, पराक्रम […]

Categories
पर्यावरण

बिगड़ते पर्यावरण के लिए केवल और केवल मानव जिम्मेदार

      — सुरेश सिंह बैस “शाश्वत”          विश्व की सभी महाशक्तियां और ताकतवर देश संयुक्त राष्ट्र संघ एवं सुरक्षा परिषद द्वारा बनाएं नियम तो हैं ही, लेकिन प्रकृति के नियमों का भी उल्लंघन और अवहेलना कर रहे हैं ये शक्तिशाली देशों के नित परमाणु परीक्षणों, विस्फोटों के कारण अतिवृष्टि, अनावृष्टि और दूषित वायुमंडल हमें चेतावनी […]

Categories
पर्यावरण

ग्राम समुदाय की सहभागिता से संभव है पर्यावरण संरक्षण

दिलीप बीदावत बीकानेर, राजस्थान दुनिया भर में पर्यावरण एक अहम मुद्दा बनता जा रहा है. यह वह मुद्दा है जिस पर क्रियान्वयन कम और संपूर्ण सृष्टि पर इसका प्रभाव अधिक नजर आ रहा है. थार का पर्यावरण भी अति संवेदनशील है. जरा सी नकारात्मक छेड़छाड़ अथवा सकारात्मक पहल का प्रभाव बड़ा होता है. विकास के […]

Categories
पर्यावरण

गहराता जल संकट, बना सबसे बड़ी समस्या

– ललित गर्ग – मानवीय गतिविधियों और क्रिया-कलापों के कारण दुनिया का तापमान बढ़ रहा है और इससे जलवायु में होता जा रहा परिवर्तन अब मानव जीवन के हर पहलू के साथ जलाशयों एवं नदियों के लिए खतरा बन चुका है। जलवायु परिवर्तन का खतरनाक प्रभाव गंगा, सिंधु और ब्रह्मपुत्र सहित प्रमुख जलाशयों और नदी […]

Categories
पर्यावरण

किसानों की जरूरत और पराली संकट का समाधान

फूलदेव पटेल मुजफ्फरपुर, बिहार “हम लोग बहुत मजबूर हैं, समयानुसार खेतों की जुताई-बुआई करनी पड़ती है. खेतों में सिंचाई तो स्वयं कर लेते हैं, लेकिन तैयार फसलों की कटाई के समय बहुत दिक्कत होती है. एक मजदूर को कम-से-कम चार सौ रुपये चुकाना पड़ता है. मजदूर केवल फसलों की कटाई करके चले जाते हैं और […]

Categories
पर्यावरण

तपती गर्मी में खारा पानी की सज़ा

आरती लूणकरणसर, बीकानेर राजस्थान “जैसे जैसे गर्मी बढ़ रही है गांव में पानी की समस्या भी बढ़ती जा रही है. जो स्रोत उपलब्ध हैं उसमें इतना खारा पानी आता है कि हम लोगों से पिया भी नहीं जाता है. यदि मजबूरीवश पी लिया तो पेट में दर्द और दस्त होने लगते हैं. पिता जी और […]

Categories
पर्यावरण

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक एशिया पर रहा जलवायु ,मौसमी आपदाओं का सबसे अधिक दुष्प्रभाव

निशान्त संयुक्त राष्ट्र की संस्था विश्व मौसम विज्ञान संगठन की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, साल 2023 में एशिया ने मौसम, जलवायु, और पानी से संबंधित खतरों का ऐसा खामियाजा भुगता कि यह दुनिया का सबसे अधिक आपदा प्रभावित क्षेत्र बन गया। विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्ल्यूएमओ) की एशिया में जलवायु स्थिति – 2023 रिपोर्ट […]

Categories
पर्यावरण

जलवायु कार्यवाही और ग्लोबल साउथ की भूमिका

निशान्त दुनिया में चल रहे भू-राजनी‍तिक संघर्षों को देखते हुए जलवायु परिवर्तन पर ध्‍यान केन्द्रित रखना बेहद महत्‍वपूर्ण है। इस काम में ग्‍लोबल साउथ की भूमिका बहुत अहम है। विशेषज्ञों का मानना है कि पिछले साल भारत में जी20 के बाद अगली जी21 की अध्यक्षता भी ग्‍लोबल साउथ के पास ही है। ऐसे में वह […]

Categories
पर्यावरण

जलवायु परिवर्तन और दिव्यांगता

दीपमाला पाण्डेय साल 2023 में पृथ्वी की औसत भूमि और महासागर की सतह का तापमान 20वीं सदी से 2.12 डिग्री फ़ारेनहाइट (1.18 डिग्री सेल्सियस) अधिक था। यह आंकड़ा साल 1850 से अब तक रिकॉर्ड किया गया उच्चतम वैश्विक तापमान है। इसने, इससे पहले अब तक के सबसे गर्म वर्ष, 2016 को 0.27 डिग्री फ़ारेनहाइट (0.15 […]

Exit mobile version