Categories
पर्यावरण

मानव स्वास्थ्य, स्वच्छता और पर्यावरण

जिसने है खुद को स्वच्छता से जोड़ा। उसने हरेक बीमारी से नाता है तोड़ा।। स्वच्छता मानव जीवन का सबसे महत्वपूर्ण भाग है। मानव को मानवता की ओर ले जाने का श्रेय स्वच्छता को जाता है क्योंकि यदि मानव के जीवन से स्वच्छता नामक विषय को निकाल दिया जाए तो वह पशु की श्रेणी में गिना […]

Categories
पर्यावरण

पक्षी कलरव क्यों करते हैं*?

* लेखक आर्य सागर खारी 🖋️ दीर्घ समय तक पक्षी विज्ञानियों में यह मान्यता रही की पक्षी अपना शत प्रतिशत परस्पर संवाद शारीरिक भाव भंगिमा से ही करते हैं जैसे पूछ का हिलाना,पंखों का फड़फड़ाना चोंच से अन्य किसी वस्तु को कुरेदना आदि आदि। वही न्याय दर्शन या प्रमाण शास्त्र के भाष्यकार महर्षि वात्स्यायन ने […]

Categories
पर्यावरण

आधुनिकीकरण कहीं पहाड़ों में बेरोजगारी का कारण न बन जाए?

बीना बिष्ट हल्द्वानी, उत्तराखंड “बचपन में हरियाली के बीच बैठकर अक्सर मैं जिस हिमालय पर्वत को देखा करता था, आज कई वर्षो बाद जब में वापस उसे देखने लगा तो मैंने उसमें काफी बदलाव देखे. गांव की सूरत भी पहले से काफी बदल गई है. स्कूलों की हालतों में काफी हद तक सुधार आ गया […]

Categories
पर्यावरण

प्राकृतिक संसाधनों के दोहन से विनाश की तरफ बढ़ता पहाड़

बिना बिष्ट हल्द्वानी, उत्तराखंड विश्व आर्थिक मंच की वैश्विक जोखिम रिपोर्ट 2020 के अनुसार अगले 10 दशकों में शीर्ष जोखिमों में जलवायु परिवर्तन शामिल हो सकते हैं. यह जोखिम मानवजनित, पर्यावरणीय आपदाएं, जैव विविधता हानि व मौसमी घटनाएं हो सकती हैं. दरअसल पारिस्थितिकी तंत्र को संतुलित बनाए रखने के लिए प्रकृति और मानव के बीच […]

Categories
पर्यावरण

संसाधनों के बावजूद क्यों विकसित नहीं है उत्तराखंड?

मंजू धपोला कपकोट, उत्तराखंड किसी भी राष्ट्र या राज्य की उन्नति उसके संसाधनों पर भी बहुत हद तक निर्भर करती है. एक ओर जहां यह आय का प्रमुख स्रोत बनता है वहीं दूसरी ओर नागरिकों के जीवन को भी सुगम बनाता है. इसके बिना विकास की कल्पना अधूरी मानी जाती है. हमारे देश के कई […]

Categories
पर्यावरण

शहरों की तरफ पलायन करता गांव

तानिया चोरसो, उत्तराखंड आज़ादी के अमृतकाल में सभी नागरिकों तक पीने का साफ़ पानी और शौचालय जैसी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें मिलकर प्रयासरत हैं. देश के अधिकतर ग्रामीण क्षेत्र जो बरसों से बुनियादी सुविधाओं के अभाव में जी रहे थे, आज वहां के नागरिकों को सुविधाएं मिलने लगी हैं. […]

Categories
पर्यावरण

अमरपुरवासी अमर कर रहे है, इस पीपल वृक्ष को*।

* लेखक आर्य सागर खारी 🖋️। पीपल का यह 200 वर्ष से अधिक पुराना वृक्ष ग्राम अमरपुर ग्रेटर नोएडा में है। जितना अधिक पुराना यह वृक्ष है उतना ही अनूठा इस वृक्ष के संरक्षण के पीछे का ग्रामीणों का भाव है। यह वृक्ष सार्वजनिक लोक मार्ग से होते हुए एक निजी चार दिवारी पर इसकी […]

Categories
आर्थिकी/व्यापार पर्यावरण

कमजोर मानसून एवं घटते निर्यात से भारत की आर्थिक विकास दर कम प्रभावित होगी

भारत में विभिन्न आर्थिक क्षेत्रों में विकास से सम्बंधित हाल ही में जारी किया गए आंकड़ों का विश्लेषण करने पर ध्यान में आता है कि भारत, दुनिया की सबसे तेज गति से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था बनी हुई है। अप्रेल-जून 2023 तिमाही में भारत के सकल घरेलू उत्पाद में 7.8 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई […]

Categories
पर्यावरण

हिमालय क्षेत्र में अपनी गलतियों का परिणाम भुगतता मानव समाज

ललित गर्ग शिमला की घटनाओं ने अधिक चिन्ता में डाला है। राजधानी एवं अधिक सक्रिय, जनबहुल एवं पयर्टन नगर होने की बजह से शिमला में जो दृश्य देखें गये, वे अधिक डरावने, चिन्ताजनक एवं दहशत भरे थे। शिमला के कृष्णा नगर इलाके में 15 अगस्त को लैंडस्लाइड के चलते यहां कई मकान ढह गए। पहले […]

Categories
पर्यावरण

जलवायु परिवर्तन से प्रभावित होती किशोरियां

भावना रावल गरुड़, उत्तराखंड प्राकृतिक घटनाओं में जिस तरह से एक के बाद एक बदलाव आए हैं, वह जलवायु परिवर्तन का ही परिणाम है. अचानक तूफ़ानों की संख्या बढ़ गई है, भूकंपों की आवृत्ति बढ़ गई है, नदियों में बाढ़ आना आदि घटनाएं पहले से कहीं अधिक बढ़ गई हैं. जिसका सीधा असर मानव जीवन […]

Exit mobile version