Categories
महत्वपूर्ण लेख

राष्ट्र और समाज के निर्माण में हमेशा ही नारी शक्ति की अहम भूमिका रही है

ब्रह्मानंद राजपूत हम विश्व में लगातार कई वर्षों से अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाते आ रहे हैं, महिलाओं के सम्मान के लिए घोषित इस दिन का उद्देश्य सिर्फ महिलाओं के प्रति श्रद्दा और सम्मान बताना है। इसलिए इस दिन को महिलाओं के आध्यात्मिक, शैक्षिक, आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक उपलब्धियों के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। नारी […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

मध्य प्रदेश : लोकतंत्र जीत गया, लोकतंत्र हार गया

मध्यप्रदेश में जो कुछ भी हुआ है , वह अप्रत्याशित नहीं है। वर्तमान राजनीति से इससे अधिक कुछ अपेक्षा भी नहीं की जा सकती कि यह प्रतिशोध , प्रतिरोध और क्रोध के जंगल में लगी आग से बाहर निकल कर भी कुछ सोचेगी । यह नहीं कहा जा सकता कि इसके लिए जिम्मेदार कौन है […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

मनुष्य का कर्तव्य धर्म पालन सहित सरकार के अच्छे कार्यों का समर्थन है

ओ३म् =========== परमात्मा ने हमारे पूर्वजन्म के कर्मों के आधार पर हमें इस जन्म में मनुष्य बनाया है। हम सब अपनी अपनी आयु के कुछ सोपान पार चुके है। जीवन का जो समय बीत गया वह वापिस नहीं आ सकता परन्तु जो वर्तमान व भविष्य का समय है उस पर विचार व चिन्तन कर हम […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

निशाने पर समस्त भारतीय धर्म ग्रंथ

निशाने पर समस्त भारतीय धर्मग्रंथ मनोज ज्वाला पश्चिम के मजहबी झण्डाबरदारों ने प्राचीन भारतीय शास्त्रों-ग्रन्थों के विकृतिकरण का अभियान-सा चला रखा है। इसके लिए भारतीय वाङ्ग्मय में घुसने का सुराख तमिल साहित्य में सेंध मारकर बनाया गया है। जबकि वेदों का उल्टा-पुल्टा अनुवाद करने वाले षड्यंत्रकारी मैक्समूलर के ‘द्रविड़वाद’ को सेंधमारी के लिए औजार के […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

राष्ट्र की समस्या का समाधान प्रत्येक हिंदू का व्यक्तिगत लक्ष्य

राष्ट्र शब्द का प्राचीनतम प्रयोग सृष्टि के उषाकाल की पहली पुस्तक ऋग्वेद में आया है। राजनैतिक रूप से पचीसों राज्यों में विभक्त होने पर भी मोटे तौर पर अफ़ग़ानिस्तान, पाकिस्तान, बाँग्लादेश, वर्तमान भारत, नेपाल, थाइलैंड, बर्मा, मलेशिया, इंडोनेशिया आदि को भारत या हिन्द समझा जाता रहा है। 712 ईस्वी में भारत के एक राज्य सिंध […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

पूरी तरह वीरान बाग में तब्दील हो गये शाहीन बाग के हंगामे के बाद रह गए कुछ अनुत्तरित प्रश्न

गाजियाबाद । मैं न्यूज़ चैनल न के बराबर देखता हूँ। सामाजिक सरोकारों की पत्रकारिता के नाम पर जिन्हें पहले बड़ा ईमानदार एंकर-पत्रकार मानते थे, उनके एकतरफा आलापों ने पूरे देश को ही निराश किया है। उनकी सेक्युलर सच्चाई उजागर हो चुकी है। फिर भी कभी-कभार चैनलों पर ताका-झाँकी कर लेता हूँ। कल रात नौ बजे […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

ऑनर किलिंग के खिलाफ आवाज उठाती हुई देश की बेटियां

शालू अग्रवाल दुनिया भर में महिला दिवस के अवसर ढ़ेरों बातें की जाती हैं और हज़ारों संकल्प पत्र जारी किया जाता है, जिसमें महिलाओं की आज़ादी और उनके सशक्तिकरण पर ज़ोर देने की बात की जाती है। कन्या भ्रूण हत्या को रोकने, लिंगानुपात के अंतर को कम करने, यौन शोषण को रोकने और बालिका शिक्षा […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

हम सुरक्षित हो सकते हैं यदि हम अपनी रक्षा के सभी संभव उपाय करें

ओ३म् ============ मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। वह अकेला रहकर जीवनयापन नहीं कर सकता। उसे समान विचारों तथा अपने शुभचिन्तकों की आवश्यकता होती है जो उसकी चिन्ता करें, उससे प्रेम करें व उससे स्नेह करें। ऐसे वातावरण में ही मनुष्य सुरक्षित रह सकता है। आज के संसार की विडम्बना यह है कि ज्ञान व विज्ञान […]

Categories
Uncategorised महत्वपूर्ण लेख

कश्मीर के पंडितों का हठ , दुराग्रह , अंधविश्वास ,पाखंड ,कायरता और मूर्खता भी उनके पतन व पलायन का एक कारण है

काश ! ऋषि दयानन्द जी कश्मीर जा पाते तो जो कश्मीर का इस्लामीकरण हो गया है, जो कश्मीर समस्या देश के लिए घातक बनी हुई है वह न होती। कश्मीर के नरेश महाराजा रणवीर सिंह स्वयं ऋषि से मिलना चाहते थे इसलिए उन्होनें अपने मन्त्री नीलाम्बर बाबू और दीवान अनन्त राम को स्वामी जी के […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

गजवा ए हिंद की पूरी कहानी

प्रस्तुति ज्ञान प्रकाश वैदिक 1. *अल तकिय्या:-* ये चरण जब अपनाया जाता हैं, तब मुस्लिम कम सँख्या में होते हैं। इसमें काफिरों से झूठ बोलना, धोखा देना जायज माना जाता। अल तकिय्या का मुख्य उद्देश्य इस्लाम से जुड़ी सच्चाई, जानकारी को काफिरों से दूर रखना एवम छुपाना हैं। यही कारण पिछले 65वर्षो तक भारत मे […]

Exit mobile version