Categories
भारतीय संस्कृति

मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम और थाईलैंड की अयोध्या

डॉ. जितेन्द्रकुमार सिंह संजय अयोध्या का नाम लेते ही स्मृति-पटल पर सरयू के किनारे अवस्थित सूर्यवंश के चक्रवर्ती सम्राटों की उस राजधानी का भव्य चित्र मुखरित होता है, जिसकी स्थापना वैवस्वत मनु ने की है। वस्तुत: सरयू के किनारे बसी अयोध्या केवल सूर्यवंशी सम्राटों की राजधानी ही नहीं है, अपितु प्रत्येक हिन्दू के हृदय में […]

Categories
मुद्दा

अखंड भारत एक अव्यहारिक कल्पना

  भारतीय जनता पार्टी के महासचिव राम माधव ने 26 तारीख को अल जजीरा टीवी चैनल पर एक इंटरव्यू दिया था. वैसे तो इससे जुड़ी कई बातों पर विवाद हुए लेकिन सबसे कम संभावना इस बात पर विवाद की थी कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की धारणा के अनुसार भारत, बांग्लादेश और पाकिस्तान को मिलकर एक […]

Categories
इतिहास के पन्नों से

‘पाकिस्तान’ की नींव बंगाल में ही पड़ी थी

शुशोभित 16 अगस्त, 1946 यानी भारत की स्वतंत्रता से ठीक एक साल पहले कलकत्ते में पहला दंगा भड़का और बंगाल के गांवों तक फैल गया. दंगों को मुस्लिम लीग द्वारा जानबूझकर भड़काया गया था. भारत के मजहबी बंटवारे की चर्चा के बीच मैं आपको बंगाल की ‘कलंक-कथा’ सुनाता हूं. वर्ष 1927 में मुस्लिम लीग के […]

Categories
राजनीति व्यक्तित्व

जनसेवा की उत्कृष्ट भावना से ही राजनीति में अपना स्थान बना पाए हैं औरंगाबाद के सांसद सुशील कुमार सिंह

जब राजनीति विश्वास के संकट से गुजर रही हो तब कुछ ऐसे हसीन चेहरे दिखाई देना सचमुच आश्चर्य पैदा करता है जो अपनी विश्वसनीयता के कारण पहचाने जाते हैं । राजनीति में विश्वसनीयता ही वह पायदान है जिस पर चढ़कर कोई भी प्रतिनिधि लोकप्रियता प्राप्त करता है । यदि आपकी कार्यशैली जनहित के विरुद्ध है […]

Categories
भारतीय संस्कृति भाषा

देववाणी संस्कृत सचमुच एक वैज्ञानिक और अतुलनीय भाषा है

ये पोस्ट अद्भुत एवं अतुलनीय है…. क्या आप जानते है विश्व की सबसे ज्यादा समृद्ध भाषा कौन सी है….. अंग्रेजी में ‘THE QUICK BROWN FOX JUMPS OVER A LAZY DOG’ एक प्रसिद्ध वाक्य है। जिसमें अंग्रेजी वर्णमाला के सभी अक्षर समाहित कर लिए गए, मज़ेदार बात यह है की अंग्रेज़ी वर्णमाला में कुल 26 अक्षर […]

Categories
आज का चिंतन

क्या है पुनर्जन्म के बारे में भारतीय वैदिक दृष्टिकोण ?

आज का चिंतन पुनर्जन्म सिद्धान्त समीक्षा :- प्रश्न :- पुनर्जन्म किसे कहते हैं ? उत्तर :- आत्मा और इन्द्रियों का शरीर के साथ बार बार सम्बन्ध टूटने और बनने को पुनर्जन्म या प्रेत्याभाव कहते हैं । प्रश्न :- प्रेत किसे कहते हैं ? उत्तर :- जब आत्मा और इन्द्रियों का शरीर से सम्बन्ध टूट जाता […]

Categories
मुद्दा

अच्छे संस्कारों से रुकेंगे महिलाओं के प्रति अपराध ना कि कानून बनाने से

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा कानूनी प्रावधानों, तत्काल कार्यवाही, सख्त सजा के बावजूद अभी तक कोई सकारात्मक परिणाम नहीं मिल पा रहे हैं। ऐसे में जो सबसे जरूरी बात है वह समाज की मानसिकता में बदलाव की है। दूसरा यह कि हम नई पीढ़ी को जो परोस रहे हैं उसमें बदलाव की आवश्यकता है। राष्ट्रीय अपराध […]

Categories
व्यक्तित्व

एक मजबूत इच्छाशक्ति वाले गृहमंत्री के रूप में अपना स्थान बना चुके हैं अमित शाह

अपने सख्त मिजाज और कड़े फैसले लेने के लिए अपनी पहचान बना चुके अमित शाह इस समय भारत के गृह मंत्री हैं। सरदार पटेल के पश्चात यदि कोई मजबूत इच्छाशक्ति वाला गृहमंत्री देश को मिला है तो वह अमित शाह ही हैं । जिन्होंने 5 अगस्त 2019 को जब धारा 370 को हटाए जाने पर […]

Categories
इतिहास के पन्नों से

जोगेंद्र नाथ मंडल की एक गलती, लाखों हिंदुओं का नरसंहार और धर्म परिवर्तन का कारण बनी

अभिषेक सिंह राव भारत विभाजन अपने आप में असंख्य किस्से-कहानियां समेटे हुए है. बंटवारें के लिए जिन्ना की ज़िद हो या सत्ता के लिए नेहरू की जद्दोजहद, सबकी अपनी-अपनी कहानियां हैं और इन कहानियों में कुछ ऐसी भी हैं कि 70 साल बाद भी नए-नए किस्से-किरदार निकल आते हैं।कुछ किस्से ऐसे हैं कि उन्हें जितना […]

Categories
स्वास्थ्य

चिकित्सा प्रणाली आयुर्वेद और होम्योपैथी

डॉ. देवी दत्त जोशी आधुिनक युग में भारतीय चिकित्सा विज्ञान की ओर विश्व का ज्ञान आकर्षित हो रहा है। आयुर्वेद से लेकर योग, ध्यान,एक्यूप्रथर एक्यूपंचर, सुजोग, रेकी, न्यूरोथेरेपी, रिफलेक्शोलोजी आदि आदि कहीं न कहीं प्राचीन ऋषि मुनियों (जो वैज्ञानिक व चिकित्सक हुआ करते थे) के अनुभव और शोध के परिणाम थे। विदेशी आक्रमणकारियो ने भारत […]

Exit mobile version