Categories
विविधा

टीवी मीडिया का टीआरपी घोटाला

डॉ. पवन सिंह मलिक आम धारणा है कि टीआरपी देश के सभी टीवी वाले घरों का प्रतिनिधित्व करती है पर यह सच नहीं है। टीआरपी की इस ठगी के बारे में बाकी सबको तो छोड़िए, अपने आपको बहुत चतुर मानने वाला मीडिया भी बहुत इज्जत देता है। चौबीस घंटे सबकी खबरें देने वाले टीवी न्यूज़ […]

Categories
व्यक्तित्व

‘लोकनायक’ जयप्रकाश नारायण

डॉ अजय खेमरिया जेपी के महान व्यक्तित्व को लोग कैसे स्मरण में रखना चाहेंगे यह निर्धारित करने की जबाबदेही असल मे उनके राजनीतिक चेलों की ही थी। जेपी का मूल्यांकन उनके वारिसों के उत्तरावर्ती योगदान के साथ की जाए तो जेपी की वैचारिकी का हश्र घोर निराशा का अहसास ही कराता है। आजादी के स्वर्णिम […]

Categories
आज का चिंतन

सावधान ! बहुत जल्दी खत्म हो जाएगी हमारे बीच से यह पीढ़ी

आने वाले 10/15 साल में एक पीढी,संसार छोड़ कर जाने वाली है, . कड़वा है,लेकिन सत्य है। इस पीढ़ी के लोग बिलकुल अलग ही हैं… रात को जल्दी सोने वाले, सुबह जल्दी जागने वाले,भोर में घूमने निकलने वाले। आंगन और पौधों को पानी देने वाले, देवपूजा के लिए फूल तोड़ने वाले, पूजा अर्चना करने वाले, […]

Categories
आओ कुछ जाने

ईश्वर के निज नाम ओ३म के बारे में कुछ प्राथमिक जानकारियां

1. ‘ओम्’ (Om/Aum) ईश्वर (परमात्मा, परमेश्वर, ब्रह्म) का सर्वश्रेष्ठ, सर्वोत्तम नाम है। ‘ओम्’ का ठीक से उच्चारण हो सके इसलिए उसे *‘ओ३म्’ लिखा जाता है । कई बार लोग ‘ओम्’ को *‘ॐ’ इस संकेत रूप में भी लिख देते हैं। ‘ओ३म्’ में जो तीन की संख्या “‘३’”का समावेश है उसका तात्पर्य यह दर्शाने का है […]

Categories
विविधा

हिंदू धर्म दुनिया का सबसे सहिष्णु धर्म

अनिल जोशी (कल्चरल अटेची, भारत सरकार) हम बचपन से ही सुनते आए थे कि भारत एक सहिष्णु देश है, हिंदू धर्म दुनिया का सबसे सहिष्णु धर्म है। एकाएक उल्टी गंगा बह चली। भारत की असहिष्णुता की चर्चा दुनिया भर में हुई। चर्चा चलाने वाले भारत के बौद्धिक और लेखक ही थे। गहराई से विचार करने […]

Categories
इतिहास के पन्नों से

पूर्वोत्तर की वीरांगनाएं

डॉ. राजश्री देवी भारत के स्वतंत्रता संग्राम के समय पूर्वोत्तर से भी ऐसे अनेक वीर योद्धा और वीरांगना हुए, जिन्होंने इस देश के लिए अपना जीवन न्योछावर किया। कितनों से सीने में गोलियां खाईं और कितने ही वीर फांसी के तख्ते पर चढ़ गए। किंतु राष्ट्रीय धरातल पर ऐसे वीरों और वीरांगनाओं की कोई खास […]

Categories
हमारे क्रांतिकारी / महापुरुष

गुरु गोविंद सिह जी का अवतरण सोये हुए समाज को झकझोर गया

तुफैल चतुर्वेदी सामान्य व्यक्ति और महापुरुष में एक बडा अंतर यह भी है कि महापुरुष की दृष्टि वर्तमान के साथ-साथ अतीत और भविष्य पर भी भरपूर सजगता के साथ होती है। वस्तुतः अतीत की घटनाओं की सामूहिक परिणति ही तो वर्तमान है और वर्तमान के कार्यकलाप ही तो भविष्य तय करते हैं। अतः अतीत का […]

Categories
भारतीय संस्कृति

प्राचीन भारत में मंदिर धार्मिक केंद्र होने के साथ-साथ मजबूत आर्थिक केंद्र भी रहे

अजीत कुमार हिंदू मंदिर सदा से ही समाज तथा भारतीय सभ्यता के केंद्रबिंदु के रूप में स्थापित रहे हैं। मंदिर आध्यात्मिक तथा अन्य धार्मिक गतिविधियों के साथ-साथ विविध प्रकार के समाजोपयोगी गतिविधियों के भी प्रमुख केंद्र रहे हैं। इतिहास बताता है कि प्राचीन काल से लेकर अट्ठारहवीं और उन्नीसवीं शताब्दी तक ये मंदिर ज्ञान-विज्ञान, कला […]

Categories
आतंकवाद राजनीति

मजहबी तालीम पर रोक लगाने का असम सरकार ने लिया ऐतिहासिक और अनुकरणीय फैसला

सरकार की ओर से मजहबी तालीम दिए जाने की संविधान विरोधी भावना पर रोक लगाने का असम सरकार ने देश के अन्य राज्यों के लिए अनुकरणीय और ऐतिहासिक फैसला लिया है । ज्ञात रहे कि हमारा संविधान धर्म, जाति, लिंग और संप्रदाय के आधार पर किसी भी प्रकार के भेदभाव की मनाही करता है। परंतु […]

Categories
साक्षात्‍कार

प्रधानमंत्री श्री मोदी के साथ काम करना सचमुच सौभाग्य की बात, उन्हीं के नेतृत्व में बनेगा भारत विश्व गुरु : केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र देवेंद्र प्रधान

गाजियाबाद । ( ब्यूरो डेस्क)जब देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का देहांत हुआ था तो विपक्ष के नेता अटल बिहारी बाजपेई ने अपने शोक संवेदना संदेश में कहा था कि भारत माता की गोद खाली है लेकिन कोख खाली नहीं है । कहने का अभिप्राय है कि मां भारती के पास एक से […]

Exit mobile version