Categories
व्यक्तित्व

सदी के महानायक का मौन मुखर व्यक्तित्व

बोलने को तो सभी बोलते हैं। नदी, नाले, समंदर, झरने भी बोलते हैं। पशु-पक्षी भी बोलते हैं। महसूस करें तो विनाश के पूर्व और बाद का सन्नाटा भी बोलता है। किन्तु ये सब सिर्फ बोलते हैं या सिर्फ चुप रहते हैं। इंसान ही ऐसा है जो बोलकर भी चुप रह सकता है और चुप रहकर […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

चलना जरा संभल के कंगना, अंगना टेढ़ा है

डॉ अवधेश कुमार अवध भारत की व्यावसायिक/व्यापारिक राजधानी मुम्बई यूँ तो हमेशा से ही खास रही है। आजकल उद्धव- संजय की नादानियों ने और कंगना की विरुदावलि ने तापमान कुछ ज्यादा ही बढ़ा दिया है। देश की तथाकथित बुद्धिजीवी जनता भी दो खेमों में एक-दूसरे पर गुर्राती नजर आ रही है। केन्द्र में बैठी भाजपा […]

Categories
भाषा

पूर्वोत्तर भारत के साहित्यकारों का हिंदी के विषय में चिंतन

दुनिया में सर्वाधिक लोगों द्वारा बोली जाने वाली हिंदी भाषा अपने ही घर में विमाता बनाई गई है। गणतन्त्र भारत के सत्तर साल होने के बावजूद भी हिंदी को राजभाषा से राष्ट्रभाषा का छोटा सा सफर भी तय न करने दिया गया। दक्षिण और पूर्वोत्तर भारत में राजनीतिक उथल पुथल मचाकर हर बार माँग को […]

Categories
कविता

कैसे हम सच्चाई को जान पाएंगे

जब गजनवी के दरबार से सोमनाथ का आकलन और खिलजी के दरबार से पद्मावती का आकलन, बख्तियार के दरबार से नालंदा का आकलन तथा गोरी के दरबार से पृथ्वीराज का आकलन पढ़ेंगे तो – कैसे हम सच्चाई को जान पाएँगे! जब बाबर के दरबार से राणा साँगा का मूल्यांकन और हुमायूँ के दरबार से सती […]

Categories
कविता

वचन पर्व राखी

थाल सजाकर बहन कह रही,आज बँधा लो राखी। इस राखी में छुपी हुई है, अरमानों की साखी।। चंदन, रोली, अक्षत, मिसरी, आकुल कच्चे-धागे। अगर नहीं आए तो समझो, हम हैं बहुत अभागे।। क्या सरहद से एक दिवस की,छुट्टी ना मिल पायी? अथवा कोई और वजह है, मुझे बता दो भाई ? अब आँखों को चैन […]

Categories
कविता

ईद मुबारक

  चाँद उतरता हो जिस आँगन, उसको ईद मनाने दे । अपनी किस्मत में बस रोजा, रोजा रोज निभाने दे । कब तक देख भरी माँगों को, अपना माथा फोडेंगे – चाँद अड़ा है अपनी जिद पर, हमको भी अड़ जाने दे ।। चाँद देखकर ईद मुबारक- तुम भी बोलो मैं भी बोलूँ। वर्षों तक […]

Categories
कविता

सूर्य पुकार सुनो

सूर्य जगाय रहे जग को उठ रैन गई अब सोवत क्यों? जाग गये सब फूल कली तुम सोकर स्वप्न पिरोवत क्यों? शक्ति अपार भुजा में भरी प्रण आप करो अपने हिय से। काज धरा पर हैं जितने सब आन बने निज निश्चय से।।   प्रात हुआ यहि कारण की निशि के सपने सब पूर्ण करो। […]

Categories
कविता

सोच सको तो सोचो

गिलगित बाल्तिस्तान हमारा है हमको लौटाओ। वरना जबरन ले लेंगे मत रोओ मत चिल्लाओ।। खून सने कातिल कुत्तों से जनता नहीं डरेगी। दे दो वरना तेरी छाती पर ये पाँव धरेगी।। तेरी मेरी जनता कहने की ना कर नादानी। याद करो आका जिन्ना की बातें पुन: पुरानी।। देश बाँटकर जाते जाते उसने यही कहा था- […]

Categories
कविता

कोरोना बनाम मधुशाला

कोरोना बनाम मधुशाला जिनके घर में खाने के भी लाले पड़े हुए हैं। भूखे बच्चे बीवी बाबा साले पड़े हुए हैं। साकी की यादों पर पहरा झेले थे जो कल तक- मधुशाला में आज वही मतवाले पड़े हुए है।। जिनके घर के चुल्हे भी बेबस आँसू रोते हैं। औरों की रहतम पर खाते या भूखे […]

Categories
कविता

कविता : श्रम

कब तक पूर्वज के श्रम सीकर पर यूँ मौज मनाओगे। आज बीज श्रम का रोपोगे तब कल फल को पाओगे। पूर्वज की थाती पर माना पार लगा लोगे खुद को- लेकिन अगली पीढ़ी को बद से बदतर कर जाओगे।। इसीलिए उठ नींद त्यागकर सूरज का दीदार करो। श्रम सीकर की कीमत समझो और कर्म स्वीकार […]

Exit mobile version