Categories
महत्वपूर्ण लेख

भारतीय संविधान की गौरवमयी यात्रा के खूबसूरत 71 वर्ष

संविधान दिवस (26 नवम्बर) पर विशेष – श्वेता गोयल प्रतिवर्ष 26 नवम्बर को देश में संविधान दिवस मनाया जाता है। हालांकि वैसे तो भारतीय संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था लेकिन इसे स्वीकृत 26 नवम्बर 1949 को ही कर लिया गया था। डा. भीमराव अम्बेडकर के अथक प्रयासों के कारण ही भारत का […]

Categories
भयानक राजनीतिक षडयंत्र महत्वपूर्ण लेख

आईएसआईएस का खुरासान मॉड्यूल

  विवेक भटनागर (लेखक इतिहास के शोधार्थी हैं।) आजादी से पूर्व तक भारतीय उपमहाद्वीप के विजय की चाभी अफगानिस्तान के हेरात व कंधार प्रांत को माना गया, जो खुरासान प्रदेश का दक्षिणी हिस्सा था। यही कारण रहा कि विदेशी आक्रांताओं के लिए खुरासान भारत विजय का मोड्यूल रहा। वहीं, भारतीय शासकों ने अपनी प्राकृतिक सीमाओं […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

दक्षिणांचल में बढ़ेगी “मोदी मैजिक” की गति ?

*राष्ट्र-चिंतन* *विष्णुगुप्त* दक्षिणांचल भाजपा की सबसे कमजोर कडी रही है। इसीलिए भाजपा की अब दक्षिणाचंल की ओर दृष्टि लगी हुई है। दक्षिणाचंल में भाजपा के लिए संभावनाएं भी कम नहीं है। नये जोश के साथ भाजपा अब दक्षिणाचंल में सक्रिय ही नहीं हो रही है बल्कि अभियानी भी है। अब भाजपा के पास दो-दो राजनीतिक […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख संपादकीय

हामिद अंसारी के दोगले राष्ट्रवाद का उभरता रोग और उसका उपचार

  स्वतंत्र भारत में धर्मनिरपेक्षता की अवधारणा को जिस प्रकार अपने राजनीतिक चिंतन का मूल केंद्र बनाकर भारत ने आगे बढ़ना आरंभ किया वह हमारे देश के लिए बहुत ही घातक सिद्ध हुआ है । हमारे राजनीतिज्ञों ने स्वाधीनता प्राप्ति के तत्काल पश्चात मुस्लिम तुष्टीकरण का नाम ही धर्मनिरपेक्षता मान लिया । राजनीति के विषय […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख संपादकीय

यदि ओवैसी राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर का विरोध कर सकते हैं तो राष्ट्र की सज्जन शक्ति को उसका समर्थन क्यों नहीं करना चाहिए ?

  हमारे देश के लिए बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण तथ्य है कि यदि सरकारें अच्छा काम करती हैं तो उनका कुछ लोग विरोध करते हैं , परंतु उनके विरोध को शांत करने के लिए सरकार के समर्थन में सड़कों पर उतरना गलत माना जाता है । जबकि देश की मुख्यधारा में विश्वास रखने वाली देश की […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

पाकिस्तान बन चुका है एक ऐसी यूनिवर्सिटी जहां से निकले ग्रेजुएट बनते हैं दुनिया के सबसे बड़े खूंखार आतंकवादी

                                                          दारुल उलूम हक्कानिया (साभार: द डॉन) पाकिस्तान का नाम आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए विश्व भर में कुख्यात है। पाकिस्तान लगातार ऐसे इस्लामी आतंक को […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

विरोध छद्म धर्मनिरपेक्षता का हो या भारतीयता का

  श्रीश देवपुजारी लेखक संस्कृत भारती के अ. भा. मंत्री है विनायक शाह नाम के व्यक्ति ने सर्वोच्च न्यायालय मे याचिका दाखिल कर कहा है कि केंद्रीय विद्यालयों में 1964 से हिंदी-संस्कृत में प्रार्थना हो रही हैं, जो कि पूरी तरह असंवैधानिक हैं। याचिकाकर्ता ने इसे संविधान के अनुच्छेद 25 और 28 के विरुद्ध बताते […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

राष्ट्र निर्माण की गहरी साधना में रत हैं प्रधानमंत्री मोदी

  ललित गर्ग मोदी शासन में सेना बहुत मजबूत हुई है। राफेल विमानों से लेकर हर आधुनिकतम शस्त्र सेना को मिले हैं। मिसाइलें बनाने में तो भारत अब स्वयं सक्षम हो चुका है। दुनिया समझने लगी है कि भारत अपने हितों की कीमत पर रत्ती भर भी समझौता करने वाला नहीं है। राष्ट्र-जीवन को ऊंचाई […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख मुद्दा

योगी सरकार द्वारा इलाहाबाद और अयोध्या का नाम बदले जाने पर प्रोफेसर इरफान हबीब का व्यंग्य

मार्क्सवादी इतिहासकार प्रो. इरफान हबीब ने इलाहाबाद और फैजाबाद के नाम बदलकर प्रयागराज और अयोध्या किए जाने पर व्यंग्य किया है। उनसे आशा थी कि वह इस का स्वागत करेंगे, किंतु आम वामपंथियों की तरह हबीब में भी हिंदू-चेतना का विरोध ही सबसे प्रमुख जिद है। विदेशी आक्रमणकारियों और शासकों द्वारा थोपे गए नाम हटाने […]

Categories
देश विदेश महत्वपूर्ण लेख राजनीति

चीन के नेतृत्व में काम कर रहे आरसीईपी गुट में शामिल न होने से भारत को लाभ या नुकसान ?

त्योहार के इस मौसम में ये पता लगाना दिलचस्प होगा कि भारत ने चीन से कितना माल आयात किया. अमेज़न और फ़्लिपकार्ट पर व्हाइट गुड्स की ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों को अंदाज़ा हो गया होगा कि ऑर्डर किए गए अधिकतर सामान पर ‘मेड इन चाइना’ की मुहर लगी हुई थी. चीन के आंकड़ों के अनुसार, […]

Exit mobile version