Categories
देश विदेश

पाक नीति में न सावधानी हटे और न दुर्घटना घटे

पाकिस्तान के विरुद्ध मोदी सरकार की कड़ी नीतियों और सफल कूटनीतिक उपायों के परिणाम अब दिखाई देने लगे हैं । पाकिस्तान इतना कभी भी असहजतापूर्ण अपमानजनक स्थिति में नहीं रहा जितना इस समय है । भारत के कूटनीतिक दबाव ने इस्लामाबाद को सारी दुनिया में अलग थलग करने में अप्रत्याशित सफलता प्राप्त की है । […]

Categories
देश विदेश विविधा

भारतीय सेना में जासूसी

योगेश कुमार गोयल भारतीय सेना में जासूसी के मामले बढ़ते जा रहे हैं, जो देश की सुरक्षा की दृष्टि से गहन चिंता का विषय हैं। पहले वायुयेना का एक वरिष्ठ अधिकारी अरूण मारवाह और अब थलसेना का एक अधिकारी सेना में जासूसी के आरोप में दबोचा गया है। हालांकि एक देश द्वारा दूसरे देश की […]

Categories
देश विदेश

जाधव मामला: एक और पाकिस्तानी प्रहसन

भारत के बारे में पाकिस्तान कैसा सोच रखता है, इसका खुलासा एक बार फिर हो चुका है। कई अवसरों पर पाकिस्तान की यह मानसिकता विश्व के सामने आ चुकी है, इसके बाद भी पाकिस्तान किसी भी प्रकार से सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। पाकिस्तान की मंशा पर उठ रहे सवालों के बाद भी […]

Categories
देश विदेश

चीन की फितरत को समझना होगा

हाल में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अरुणाचल प्रदेश की यात्रा से बीजिंग क्रोधित हो उठा है। चीन व भारत शायद ही कभी इस बात पर सहमत हुए हों कि वास्तविक सीमा रेखा कहां है। बीजिंग ने 1962 में भारत पर उस समय आक्रमण कर दिया, जब नई दिल्ली  ने अपना क्षेत्र वापस लेने की […]

Categories
देश विदेश महत्वपूर्ण लेख मुद्दा

दोकलाम-विवाद: मोदी और शी बात करें

पिछले लगभग एक माह से भारत और चीन की फौजें आमने-सामने हैं। उन्होंने एक-दूसरे की सीमाओं का उल्लंघन नहीं किया है बल्कि भूटान के दोकलाम नामक एक पठार को लेकर दोनों देशों के फौजियों के बीच धक्का-मुक्की और कहा-सुनी हुई है। गनीमत है कि तोपें और बंदूकें नहीं चली हैं। भारत और चीन की सीमाएं […]

Categories
आतंकवाद देश विदेश महत्वपूर्ण लेख राजनीति विधि-कानून

अविश्वास की गहरी खाई

एक क्षण के लिए मान भी लें कि जाधव भारत का जासूस है, लेकिन वह कैसी जासूसी कर सकता था। आज उपग्रहों के आने से तकनीक इतनी विकसित हो चुकी है कि आप गाडिय़ों की नंबर प्लेट पर लिखे अंकों तक को आकाश से पढ़ सकते हैं। इसलिए जाधव पर दोष मढक़र पाकिस्तान कोई और […]

Categories
देश विदेश

ब्रिटेन में नस्लीय भेदभाव की वापसी

नागरिकता छीनने संबंधी  कानून 2005 में हुए विस्फोटों के बाद उपजी स्थितियों को ध्यान में रखते हुए 2006 में  लागू किया गया था। इन विस्फोटों में 52 लोगों की मृत्यु हो गई थी और 700 लोग घायल हो गए थे। लागू होने के बाद के चार वर्षों में इसका केवल चार बार उपयोग किया गया, […]

Categories
देश विदेश महत्वपूर्ण लेख संपादकीय

ट्रम्प की सुरक्षा नीति और भारत

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ट्रम्प ने अपनी नियुक्ति के तुरंत बाद सबसे पहला कार्य अपने देश में सात मुस्लिम देशों के नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश पर रोक लगाने का किया है। उन्होंने कहा है कि यह रोक फिलहाल 90 दिन के लिए रहेगी। जिसे बाद में बढ़ाया भी जा सकता है। ट्रम्प के प्रशासन […]

Categories
देश विदेश संपादकीय

अमेरिका चीन और विश्व शांति

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के अपने पद भार संभालने के दिन से ही वैश्विक राजनीति के समीकरणों में जोरदार परिवर्तन देखे जा रहे हैं। बराक ओबामा के काल में जहां रूस और अमेरिका के संबंधों में कुछ नरमी के संकेत देखे जा रहे थे वहीं चीन से भी अमेरिका कुछ दूरी पर रहकर ही […]

Categories
आओ कुछ जाने देश विदेश संपादकीय स्वर्णिम इतिहास

क्या है ‘गणराज्य’ या गणतंत्र?

संविधान के अधीन सभी प्राधिकारों का स्त्रोत भारत के लोग हैं। भारत एक स्वाधीन राज्य है और अब वह किसी बाहरी प्राधिकारी के प्रति निष्ठावान नहीं है। हमारे देश का राष्ट्रपति अप्रत्यक्ष रूप से जनता द्वारा निर्वाचित राष्ट्रपति है। अब इस पद सहित किसी भी पद पर भारत के नागरिक की नियुक्ति होना संभव है। […]

Exit mobile version