Categories
आओ कुछ जाने

वैदिक सृष्टि संवत : एक वैज्ञानिक प्रक्रिया का प्रतीक

सभी मित्रों को भारतीय सृष्टि संवत एक अरब 96 करोड़ 8 लाख 53हजार 125 और विक्रम संवत 2081 की हार्दिक शुभकामनाएं। प्रत्येक प्रकार की वनस्पति में चहुं ओर नवस्फुटन, प्रकृति में छाई हुई एक निराली छटा, प्रत्येक प्राणीमात्र के शरीर में एक नई ऊर्जा का होता हुआ संचार , सूर्य भी अपनी सात किरणों के […]

Categories
वैदिक संपत्ति

*वैदिक सम्पत्ति – 313* [चतुर्थ खण्ड] जीविका , उद्योग और ज्ञानविज्ञान

(यह लेख माला हम पंडित रघुनंदन शर्मा जी की वैदिक सम्पत्ति नामक पुस्तक के आधार पर सुधि पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं ।) प्रस्तुति: – देवेंद्र सिंह आर्य ( चेयरमैन ‘उगता भारत’ ) गताक से आगे … अब अगले मन्त्र में वेद उपदेश करते हैं कि परमात्मा सर्वत्र मौजूद है। इवं जनासो विवथ […]

Categories
इतिहास के पन्नों से

वीर शिरोमणि मराठा शूर शिवाजी की 344 वें महापरिनिर्वाण दिवस पर विशेष आलेख

आज के महाराष्ट्र में नागपुर व उसके आसपास के क्षेत्र के राजा गुर्जर जाति के थे जो शिवाजी के वंशज थे। शिवाजी का गोत्र बैंसला था। जिसको आज बहुत से साथियों ने बिगाड़ करके बंसल कहने का प्रयास किया हैं। आप मैं से बहुत से लोग इस ऐतिहासिक तथ्य को पढ़कर गर्व की अनुभूति होगी […]

Categories
वैदिक संपत्ति

वैदिक संपत्ति 312 [चतुर्थ खण्ड] जीविका , उद्योग और ज्ञानविज्ञान

* (यह लेख माला हम पंडित रघुनंदन शर्मा जी की वैदिक सम्पत्ति नामक पुस्तक के आधार पर सुधि पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं ।) प्रस्तुति: – देवेंद्र सिंह आर्य ( चेयरमैन ‘उगता भारत’ ) गताक से आगे …* उस न्यायकारी, दयामय और कारणों के भी कारण परम पिता परमात्मा का वर्णन वेदों में […]

Categories
वैदिक संपत्ति

वैदिक संपत्ति 311 [चतुर्थ खण्ड] जीविका , उद्योग और ज्ञानविज्ञान

(यह लेख माला हम पंडित रघुनंदन शर्मा जी की वैदिक सम्पत्ति नामक पुस्तक के आधार पर सुधि पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं ।) प्रस्तुति: – देवेंद्र सिंह आर्य ( चेयरमैन ‘उगता भारत’ ) गताक से आगे … इसके आगे इस सृष्टि के तीसरे कारण प्रकृति का वर्णन इस प्रकार है- अदितियॉरिितरन्तरिक्षमदितिर्माता स पिता […]

Categories
धर्म-अध्यात्म

अंत:करण चतुष्टय और बाह्यकरण किसे कहते हैं

तन्मात्रा किसे कहते हैं? अंतःकरण चतुष्टय अथवा कितने होते हैं? बाहृय करण क्या होते हैं? प्रकृति के तीन तत्व( पदार्थ, द्रव्य, चीज, वस्तु) सत ,रजस तमस होते हैं। प्रकृति से इन तत्वों को लेकर परमात्मा ने सर्वप्रथम महतत्व अर्थात बुद्धि का निर्माण किया। दूसरे नंबर पर अहंकार को बनाया। तीसरे नंबर पर पांच ज्ञानेंद्रियां ,पांच […]

Categories
वैदिक संपत्ति

वैदिक सम्पत्ति – 310 (चतुर्थ खंड) जीविका , उद्योग और ज्ञानविज्ञान

(यह लेखमाला हम पंडित रघुनंदन शर्मा जी की वैदिक सम्पत्ति नामक पुस्तक के आधार पर सुधि पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं ) प्रस्तुति – देवेंद्र सिंह आर्य ( चेयरमैन -‘उगता भारत ‘ ) इस सृष्टि को देखकर किसी भी विचारवान् मनुष्य के हृदय में जो सबसे पहले स्वाभाविक प्रश्न उत्पन्न होता है, उसको […]

Categories
वैदिक संपत्ति

वैदिक सम्पत्ति -309* *(चतुर्थ खण्ड) जीविका, उद्योग और ज्ञानविज्ञान*

* (ये लेखमाला हम पं. रघुनंदन शर्मा जी की ‘वैदिक संपत्ति’ नामक पुस्तक के आधार पर सुधि पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं। प्रस्तुतिः देवेन्द्र सिंह आर्य (चेयरमैन ‘उगता भारत’) गतांक से आगे… इसके आगे फिर वेद उपदेश देते हैं कि- अग्निः प्रियेषु धामसु कामो भूतस्य भव्यस्य । सम्राडेको विराजति ।। (यजु० १२।११७) अर्थात् […]

Categories
पर्व – त्यौहार

जहां नारियों का सम्मान होता है वहां देवता वास करते हैं

मनुस्मृति का श्लोक है कि ” पूज्यते यत्र नार्यस्तु रमंते तत्र देवता” आज 8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस एवं महर्षि दयानंद के बोध दिवस के अवसर पर हम भारत की सन्नारियां, वीरांगनाओं को नमन करते हैं। स्त्री शिक्षा पर जितना जोर स्वामी दयानंद ने दिया उतना किसी अन्य महापुरुष ने नहीं दिया। वेदों की शिक्षा […]

Categories
वैदिक संपत्ति

वैदिक सम्पत्ति – 308 वेदमंत्रों के उपदेश

    (ये लेखमाला हम पं. रघुनंदन शर्मा जी की ‘वैदिक संपत्ति’ नामक पुस्तक के आधार पर सुधि पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहें हैं ) प्रस्तुतिः देवेन्द्र सिंह आर्य (चेयरमैन ‘उगता भारत’) गताँक से आगे…. इस प्रकार से आवश्यकता पड़ने पर लड़नेवाला राजा अपने युद्धोपकरणों को मिट्टी के घरों में न रक्खे । इसके […]

Exit mobile version