Categories
संपादकीय

‘गोरी’ का ‘पृथ्वी’ से करो सामना

भारत में नशीली दवाओं के व्यापार से पैदा किया गया पैसा पिछली शताब्दी के अंतिम दशक में ही भारत की खुफिया एजेंसीज के लिए चिंता का विषय बन चुका था। यह हमारा दुर्भाग्य है कि हम अपने देश की अर्थव्यवस्था को विध्वंस करने और नशीली दवाओं के माध्यम से अपनी युवा पीढ़ी को नष्टï करने […]

Categories
संपादकीय

मोदी जी! संगीन हकीकत है दुनिया

पाकिस्तान लखवी की आवाज के नमूने देने से मुकर गया है। इससे पूर्व पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने उफा में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ हुई अपनी भेंट में यह स्वीकार किया था कि दोनों देशों के बेहतर संबंधों और उपमहाद्वीप की जनता के बेहतर भविष्य के दृष्टिगत वह लखवी की आवाज के […]

Categories
संपादकीय

ग्रामीण भारत : बड़ी चुनौती

1932 के बाद देश में पहली बार सामाजिक, आर्थिक और जातिगत आधार पर जनगणना संपन्न हुई है। जिससे प्राप्त आंकड़ों ने हमारे ग्रामीण विकास की सारी कलई खोलकर रख दी है। जो तस्वीर उभर कर सामने आयी है, उससे पता चलता है कि देश में गरीबी और फटेहाली आजादी से पूर्व की स्थिति से भी […]

Categories
संपादकीय

लाल बहादुर शास्त्री की हत्या का प्रश्न

पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री को ताशकंद में जाकर हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रद्घांजलि अर्पित की है। जब वह यह कार्य कर रहे थे तो टी.वी. चैनलों के माध्यम से उन्हें देखने वाले करोड़ों भारतीयों को गौरवानुभूति हो रही थी। बहुत ही अच्छा लग रहा था। अब पूर्व प्रधानमंत्री के पुत्र सुनील शास्त्री ने उनकी […]

Categories
संपादकीय

भारतीय संस्कृति में मानवाधिकार

अपने राष्ट्र की महान संस्कृति और उसकी मानवाधिकारवादी प्रकृति के प्रति कृतघ्नता का इससे बड़ा प्रमाण और क्या हो सकता है कि लोग अपने देश को जंगलियों का देश मानकर ‘मैग्नाकार्टा’ और यू.एन.ओ. के घोषणापत्रों में मानवाधिकारों का अस्तित्व खोजते हैं। ऐसे लोगों की बुद्घि पर तरस आता है और क्षोभ भी होता है? तरस […]

Categories
संपादकीय

भारत देश का विभाजन और महात्मा गाँधी

अनिल गुप्ता स्व.संघ के वरिष्ठ प्रचारक श्री इन्द्रेश जी, जो पिछले अनेक वर्षों से मुस्लिम समाज के साथ संवाद कायम करने में लगे हैं, के विभाजन और गांधीजी सम्बन्धी बयान पर उबलने वाले कांग्रेसी क्या विभाजन की घोषणा के बाद विभाजन विरोधी गांधीजी का कोई बयान दिखाएंगे? कुछ सवालों के जवाब देश जानना चाहता है […]

Categories
संपादकीय

व्यापमं का व्यापक होता दायरा

राजनीति का घिनौना स्वरूप हमें एक बार फिर ‘व्यापमं घोटाले’ के माध्यम से देखने को मिल रहा है। अपनी गौरवमयी ऐतिहासिक धरोहर और परंपरा के लिए प्रसिद्घ मध्य प्रदेश का नेतृत्व इस समय शिवराज सिंह नामक एक ‘चौहान’ के हाथों में है। पर यह अत्यंत दु:खद तथ्य है कि इस मुख्यमंत्री के रहते ‘व्यापमं घोटाले’ […]

Categories
संपादकीय

कैसे कहूं -‘मेरा भारत महान’

देश की वास्तविकता को बयान करती तस्वीर हमारे सामने आई है। मोदी सरकार ने सामाजिक आर्थिक जनगणना के आंकड़े पेश किये हैं, इससे स्पष्ट हुआ है कि भारत की जनसंख्या का 75 प्रतिशत भाग अभी तक ऐसा है जो पांच हजार रूपये तक की मासिक आय से ही गुजारा कर रहा है। ऐसे लोगों की […]

Categories
संपादकीय

संघ की अवधारणा

भारतीय संविधान भारत को संघ मानता और घोषित करता है। भारतीय संविधान की इस मान्यता और घोषणा का आधार ‘क्रिप्स-मिशन’ बना। क्रिप्स मिशन वेफ प्रस्तावों में भारत को संघ बनाने और उसका विभाजन करने के बीच समझौता कराने का प्रयत्न किया गया। ऊपरी तौर पर क्रिप्स मिशन के प्रस्तावों में मुसलमानों की अलग संविधान सभा […]

Categories
संपादकीय

मोदी जी! बचके रहना रे बाबा….

जो लोग सुनने से पहले अपना निर्णय सुनाने के अभ्यासी होते हैं, वे अच्छे न्यायाधीश और अच्छे वात्र्ताकार नही हो सकते। अच्छा न्यायाधीश और वात्र्ताकार बनने के लिए आपके भीतर दूसरे को सुनने का असीम धैर्य होना चाहिए। सुनवाई का अवसर न्यायालयों में हर पक्षकार को इसीलिए दिया जाता है कि किसी भी पक्षकार को […]

Exit mobile version