Categories
विशेष संपादकीय

बुराई को खण्डहर बना दो

विवाहों के समय हमारे समाज में फिजूलखर्ची बढ़ती ही जा रही है। डी.जे., बैंड, आतिशबाजी, अपेक्षा से अधिक लोगों को आमंत्रित करना आदि की बीमारी अपने अपने सामाजिक रूतबे को दिखाने के लिए वर पक्ष और कन्या पक्ष दोनों ही कर रहे हैं। सचमुच यह बीमारी अपेक्षा से अधिक बढ़ चुकी है। समाज के गंभीर […]

Categories
विशेष संपादकीय

कर्नाटक ने दिखाया नाटक

कर्नाटक का चुनाव भाजपा के कलह की हार है और कांग्रेस भाजपा की विकल्पहीनता की स्थिति में चुन ली गयी है। कर्नाटक में कांग्रेस 120 सीटें जीतकर स्पष्ट बहुमत प्राप्त करने में सफल रही है, कुल सीटों में से 40 सीटें जीतकर भाजपा को अपने अंतर्कलह का फल मिल गया है। प्रदेश की जनता ने […]

Categories
विशेष संपादकीय

मनमोहन जी देखो, तुम्हें पूर्वज तुम्हारे देखते हैं स्वर्ग से

फिर एक हकीकत धार्मिक उन्माद के कारण फांसी चढ़ गया है। सरबजीत हमारे बीच नही हैं, अब उनकी शहादत की यादें हमारे बीच हैं, और बहुत देर तक रहेंगी। पंजाब सरकार ने आज के इस ‘हकीकत’ को ‘शहीद’ की उपाधि देने में कोई देर नही की। यह अच्छी बात हो सकती है, लेकिन शहीद की […]

Categories
विशेष संपादकीय

सभ्य संसार की परिकल्पना

जिस प्रकार भौतिकवाद सभ्यता का उद्गम स्रोत होता है उसी प्रकार अध्यात्मवाद संस्कृति का उदगम स्रोत होता है। जिस समाज अथवा राष्ट्र में नैतिकता अथवा उच्च संस्कारों का अभाव होता है और अनैतिकता एवम तुच्छ संस्कारों का बोल बाला होता है, वहां संस्कृति नही होती वहां या तो पाशविकता होती है अथवा फिर जंगली राज्य। […]

Categories
विशेष संपादकीय

मुशर्रफ को पाप फल मिल रहा है

महामति चाणक्य ने कहा है कि दुष्ट लोग मन की दुष्टता को छुपाए रखते हैं और केवल जीभ से अच्छी बातें करते हैं। मन से परपीड़न आदि के उपाय सोचते हैं और वाणी से परोपकार, देश-सेवा, साधुता आदि का बखान करते हैं। भारत के पड़ोस में एक ऐसा ही व्यक्ति परवेज मुशर्रफ के नाम से […]

Categories
विशेष संपादकीय

मानव जीवन का उद्देश्य

स्वामी संकल्पानंद जी महाराज ने मानव जीवन के लक्ष्य पर प्रकाश डालते हुए बड़ा सुंदर कहा है-श्रण्वन्तु विश्वे अमृतस्य पुत्रा: (ऋग्वेद 10-13-1) मानव जीवन अतीव, पवित्र एवं श्रेष्ठ है। मनुष्य कर्मयोगी है, इस कारण मानव जीवन पाकर मनुष्य ऋषि, पितर और देवपद भी पा सकता है और राक्षस पद भी। बस, यह बात कर्मयोगी के […]

Categories
विशेष संपादकीय

ऐसे बढ़ते हैं अंधविश्वास

राजस्थान के सवाई माधोपुर में होली के पर्व पर एक ही परिवार के पांच सदस्यों ने जहरीला मादक पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली। इस परिवार का मानना था कि शिव जी इस मादक पदार्थ से प्रसन्न होकर हमारे घर आएंगे और हमारी जान बचा लेंगे। लेकिन शिव तो नही आए, हां यमदूत अवश्य आ गये […]

Categories
विशेष संपादकीय

होली का अर्थ और वैश्विक महत्व

वर्तमान सृष्टि संवत 1, 96, 08, 53, 113 का अंतिम पर्व होली देशवासियों के लिए मंगलमय हो। होली का ये पावन पर्व प्राचीन काल में नवान्नेष्टि पर्व के नाम से मनाया जाता था। नवान्नेष्टि की संधि विच्छेद करने से नव+अन्न+इष्टि ये तीन शब्द हमें प्राप्त होते हैं। इनका अभिप्राय है कि यह पर्व नये अन्न […]

Categories
विशेष संपादकीय

बिना नीतीश सब सून

आज का बिहार नीतीश का बिहार है। यह सच है कि नीतीश के शासन काल में बिहार ने बहुत कुछ पाया है। लालू-राबड़ी के राज में बिहार ने जिस प्रकार अपने वैभव को गंवाया उसे नीतिश ने पुन: लौटाया है। इस बात को आम बिहारी ही नही पूरे देशवासियों के साथ नीतीश कुमार के विरोधी […]

Categories
विशेष संपादकीय

मां की यादों को नमन

18 मार्च, अर्थात ‘उगता भारत’ परिवार की पूज्यनीया माताश्री श्रीमती सत्यवती आर्या जी की पुण्यतिथि, अर्थात बीते हुए कल की बातों को कुरेदने का दिन, अर्थात मां के साथ बीते हुए पलों को याद करने का दिन है। जब 18 मार्च 2006 को माताश्री गयीं थीं तो वह दिन जीवन भर के लिए गमगीन यादों […]

Exit mobile version