Categories
Uncategorised इतिहास के पन्नों से

कितना शक्तिशाली था चोल साम्राज्य,


के वी रमेश

चोलों ने 8वीं-9वीं शताब्दी से 13वीं शताब्दी तक दक्षिण में, मुख्य रूप से तमिल क्षेत्र पर शासन किया ।उन्हें पल्लवों, चेरों और उत्तर के काकतीयों के साथ निरंतर चुनौतियां मिलती रहीं। ऐसे ही पश्चिम के राष्ट्रकूट, गंगा और चालुक्य के साथ उनका संघर्ष लगता रहा I हालांकि, इन संघर्षों में जीत-हार का सिलसिला चलता रहा लेकिन कोई भी चोल साम्राज्य की हार्टलैंड यानी सुदूर दक्षिणी इलाके को जीतने में कामयाब नहीं रहा ।

चोल सबसे उत्कृष्ट भारतीय राजवंशों में से एक थे । न केवल युद्ध लड़ने और साम्राज्य विस्तार की क्षमता बल्कि अपनी संवेदनशीलता, शासन प्रणाली, कला और वास्तुकला के संरक्षण, मुख्य रूप से मंदिर वास्तुकला व साहित्य, के लिए भी वे दूसरों से बेहतर रहे । तंजावुर में शानदार बृहदेश्वर मंदिर और दारासुरम में गंगईकोंडाचोला पुरम और ऐरातेश्वर मंदिर उनके द्वारा निर्मित दर्जनों मंदिरों के बेजोड़ उदाहरण हैं।

पल्लव राजाओं की हार के बाद नौवीं शताब्दी में इनका उदय हुआ और अगली तीन शताब्दियों तक चोल वंश अपने गौरव के शिखर पर रहा ।करिकला चोल शुरुआती चोल राजाओं में से थे । इसके बाद उनके उत्तराधिकारी राजराजा चोल, राजेंद्र चोल और कुलोथुंगा चोल ने इस वंश को आगे बढ़ाया ।

अपने चरम पर चोल साम्राज्य ने पूरे दक्षिण भारत को अपने कब्जे में ले लिया। उत्तर में यह साम्राज्य काकतीयों को चुनौती देते हुए तुंगभद्रा नदी तक फैला हुआ था और सुदूर दक्षिण में उन्होंने कुछ समय के लिए श्रीलंका पर भी विजय प्राप्त की थी।

चोलों का शानदार काल
चोलों के अधीन पल्लवों द्वारा शुरू किया गया तमिल सांस्कृतिक आंदोलन अपने चरम पर पहुंच गया और इस साम्राज्य में कला उत्कृष्टता के शिखर पर पहुंच गई । शैव राजाओं ने पूरे दक्षिण भारत में कई शिव मंदिरों का निर्माण करवाया। तंजावुर और गंगईकोंडाचोलपुरम के लुभावने सुंदर मंदिरों को यूनेस्को की विश्व विरासतों में शामिल किया गया है I ऊंची इमारतें, जटिल मूर्तिकला, आकर्षक सौंदर्य, इंजीनियरिंग और गणित का चमत्कार आश्चर्य में डाल देता है।

चोल मंदिरों में कांसे की मूर्तियां, जिन्हें त्योहारों के दौरान निकाला जाता है, गुमनाम कला को दर्शाती हैं. भारत के सांस्कृतिक खजाने में से एक प्रसिद्ध नटराज की मूर्ति चोल साम्राज्य के शानदार उपहारों में से एक है । चोल काल के दौरान ही कदंब रामायण लिखी गई।जो वाल्मीकि रामायण का एक रूप है ।इस साम्राज्य ने नृत्य, संगीत और अन्य कलाओं को उदारता के साथ संरक्षण दिया।

चोलों का प्रशासन
चोल वंश ने उस समय ऐसी शासन प्रणाली की शुरुआत की थी, जो तब अज्ञात थी I राजा एक उदार शासक था. उसके लिखित निर्देशों का पालन करने के लिए मंत्रिपरिषद और नौकरशाही की एक प्रणाली थी ।उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि सामंती प्रमुख और सामंत, प्रशासन में शामिल नहीं हों। उनका काम केवल करों का संग्रह था और राजा को हिस्सा देना था। राजा, जमीदारों या सामंतों के बजाए अपनी नौकरशाही के माध्यम से किसान के लिए काम किया करता था।

चोल राजाओं को अपनी न्याय की भावना पर गर्व था, वे सामाजिक स्थिति के आधार पर अपनी प्रजा में भेद नहीं करते थे।न्याय का विकेंद्रीकरण किया गया था। इसके लिए ग्राम न्यायालयों, शाही अदालतों और जाति पंचायतों की व्यवस्था की गई थी. स्थानीय और छोटे-मोटे विवादों का निपटारा ग्राम स्तर पर किया जाता था. धर्मार्थ उद्देश्य के लिए जुर्माना या दान लिया जाता था । राजा राजद्रोह जैसे अपराधों पर फैसला सुनाता था, और ऐसे दोषियों को मृत्युदंड दिया जाता था और उनकी संपत्ति जब्त कर ली जाती थी।

आज के दौर में जिसकी बहुत अधिक चर्चा की जाती है, यानी कि स्थानीय स्वशासन, उसे चोलों द्वारा शुरू किया गया था । गांवों में प्रशासनिक स्वायत्तता थी, जिसमें अधिकारियों की भूमिका विशुद्ध रूप से सलाहकारी थी I शक्तियों के इस हस्तांतरण ने सुनिश्चित किया कि राजनीतिक उथल-पुथल के दौरान भी ग्राम प्रशासन अप्रभावित रहे। ग्रामसभा को कर देने वाले ग्रामीणों, ब्राह्मणों और व्यापारियों में वर्गीकृत किया गया था । राजा के अधिकारी खातों की जांच और कर देने वाले ग्रामीणों के काम की निगरानी करते थे. ग्रामसभाओं को राजा या उसके अमीर नागरिकों से पैसा मिलता था ।

सुदूर समुद्र के शासक
चोलों के पास एक कुशल सेना और नौसेना थी, जिसका नेतृत्व स्वयं राजा या राजकुमार करते थे ।युद्ध के समय में सरदार भी मदद करते थे । चोल सेना में हाथी, घुड़सवार और पैदल सेना शामिल थी. सेना को 70 रेजिमेंटों में विभाजित किया गया था । चोल साम्राज्य ने ही भारत में नौसेनिक इतिहास की शुरूआत की. चोलों ने दक्षिणी प्रायद्वीप के पूर्वी और पश्चिमी दोनों तटों को नियंत्रित किया और बंगाल की खाड़ी पर निर्विवाद रूप से शासन किया।

नौसेना ने व्यापारिक जहाजों की रक्षा की. ये जहाज दक्षिण-पूर्व एशिया में दूर देशों के लोगों के साथ व्यापार करने के लिए माल ले जाते थे।इन इलाको में मलय प्रायद्वीप, इंडोनेशियाई द्वीपसमूह और यहां तक कि दक्षिण चीन सागर शामिल थे I उन देशों के लोगों के साथ जुड़ाव ने हिंदू संस्कृति को फैलाने में भी मदद की। जिनके अवशेष इंडोनेशिया, थाईलैंड, लाओस और कंबोडिया में देखे जा सकते हैं । 10वीं, 11वीं और 12वीं शताब्दी के दौरान, चोलों का राजनीतिक और सांस्कृतिक प्रभाव दक्षिण-पूर्व एशिया पर हावी रहा।

औपनिवेशिक काल के बाद भारत में सरकारों ने ‘लुक ईस्ट’ और ‘एक्ट ईस्ट’ की नीतियां शुरू कीं, लेकिन चोलों ने यह काम एक सहस्राब्दी पहले ही शुरू कर दिया था I और लेकिन हमें इन सबके बारे में बहुत ही कम जानकारी है जो हमारे इतिहास की हमारी समझ के बारे में एक दुखद टिप्पणी है ।

Comment: Cancel reply

Exit mobile version