Categories
भयानक राजनीतिक षडयंत्र

उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण से गहराई से जुड़े हैं पीएफआई के तार

शाहरुख खान

पीएफआई प्रदेश में अपनी जड़ें जमा रहा है। उसने सदस्यों की संख्या बढ़ाने के लिए विशेष योजना चलाना शुरू किया है। सुरक्षा एजेंसियों के मुताबिक पीएफआई सदस्यों को खुला ऑफर देता कि हिंदु युवतियों को धर्म बदलने और शादी करने के लिए खुलेआम नकद रुपये देते हैं। वहीं ऐसे लोगों के लिए रोजगार व छत भी मुहैया कराते है।

इसके लिए दुकान खोलने का पूरा इंतजाम और रहने के लिए घर भी देते हैं। यह विदेशों से हो रही फंडिंग से करते हैं। सुरक्षा एजेंसियों के मुताबिक पीएफआई केसदस्यों ने काकोरी, लखनऊ-बाराबंकी सीमा पर कुर्सी गांव में प्रशिक्षण शिविर लगाया था। जहां पर लोगों को लव-जिहाद , धर्मांतरण करने के तरीके के बारे में जानकारी दी।

साथ ही ऐसा करने वालों को संस्थान की तरह से इनामी योजनाओं के बारे में बताया। लखनऊ में पिछले दिनों गिरफ्तार उमर गौतम धर्मांतरण कराता था। वह एसडीपीआई का सक्रिय सदस्य होने के साथ हल-हरम एकेडमी का उपाध्यक्ष था।

वहीं, पिछले दिनों गिरफ्तार अहमद बेग नदवी संगठन के लिए टेरर फंड जुटाता था। वह भी नदवा में पढ़ा था और बतौर शिक्षक भी काम कर चुका है। 2022 में बहराइच के कैसरगंज सीट से सोशल डेमोक्रेटिव पार्टी ऑफ इंडिया के टिकट पर चुनाव लड़ा था।
विज्ञापन

पीएफआई ने लव-जिहाद को बनाया हथियार
पीएफआई ने लव-जिहाद को सबसे बड़ा हथियार बना रखा है। इसके लिए अपने सदस्यों को विशेष प्रशिक्षण देने के लिए केरल भेजते हैं। वहां पर उनको धर्मांतरण व अपनी हकीकत छिपाकर हिंदु युवतियों को अपने जाल में फंसाने का तरीका बताया जाता है।

ग्रामीण इलाकों में जाकर युवतियों को फंसाते हैं
साथ इसके लिए फर्जी पहचान पत्र भी उपलब्ध कराये जाते हैं। जिसके बाद वह अपना टारगेट लेकर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में जाकर युवतियों को फंसाते हैं। उनके निशाने पर गरीब व पिछड़ी जाति के हिंदु युवक और युवतियों होते हैं। उनको भड़काने के बाद मोटी रकम मुहैया कराते हैं। ताकि वह धर्म बदलकर इस्लाम कुबूल कर लें। वहीं युवतियों को हिंदु बनकर फंसाते है। फिर धर्म बदलने के लिए प्रताड़ित करते हैं।

Comment: Cancel reply

Exit mobile version