Categories
कविता

गीता मेरे गीतों में, गीत संख्या — 9, क्षत्रिय धर्म

क्षत्रिय – धर्म

माधव बोले पार्थ सुन – क्षत्रिय धर्म आख्यान ।
राष्ट्रधर्म समाविष्ट है, इसके बनकर प्राण ।।

क्षत्रिय धर्म सबसे बड़ा – इससे बड़ा न कोय।
जो इसका पालन करे – वह ना कायर होय ।।

क्षत्रिय क्षरण को रोकता – पतन से लेत उबार ।
दुर्बल का सहायक बने , करें दुष्ट संहार ।।

क्षत्रिय तेरा धर्म है , तू जान सके तो जान ।
अर्जुन ! धर्म से भाग मत, तू कहना मेरा मान ।।

आर्यों को भूमि मिली , तू भोग सके तो भोग।
अपना धर्म निभायकर, तू कर प्रभु से योग।।

ऐश्वर्याभिलाषी हो वही जो धर्म मार्ग अपनाय।
बल – वीर्य – युक्त ही , जगत में सिद्धि पाय ।।

सर्व – जन हितकारी बने – वही राजा हो योग्य।
व्यवस्था दे संसार को, वही जन राज के योग्य ।।

जो जन धर्म को छोड़ दें, जीवन हो अभिशाप।
ऐसा मत कर पार्थ ! तू , तेरा जीवन है निष्पाप ।।

जैसा जिसका स्वभाव है, हो वैसा उसका धर्म ।
स्वभाव से तू है क्षत्रिय , समझ धर्म का मर्म ।।

निज धर्म को छोड़कर – जो अपनाता पर धर्म।
कभी नहीं आगे बढ़े – बिगड़ते उसके कर्म ।।

युद्ध करना धर्म है , और तेरा यही स्वभाव ।
इसको मत कभी भूलना क्यों लावे भटकाव ।।

यदि क्षत्रिय जन सहने लगे दुष्टों का व्यवहार।
धर्म नष्ट होगा यहां और मचेगी हाहाकार ।।

उठ खड़ा हो बावरे , और निज धर्म पहचान।
पाप का भागी क्यों बने घटती तेरी शान।।

इतिहास तुझे कायर कहे यदि छोड़ गया मैदान।
हथियार उठाकर हाथ में कर शत्रु शरसंधान।।

डॉ राकेश कुमार आर्य

Comment: Cancel reply

Exit mobile version