Categories
महत्वपूर्ण लेख

‘बुलडोजर बाबा’ ने पदभार संभालते ही लिए जनहितकारी फैसले

गाजियाबाद।  (ब्यूरो डेस्क ) डबल इंजन की सरकार के नाम से विख्यात रही योगी आदित्यनाथ की सरकार ने जहां अपने पहले कार्यकाल में मजबूत निर्णय लिए वहीं मुख्यमंत्री के रूप में दूसरी बार शपथ लेते ही योगी आदित्यनाथ फिर मजबूत निर्णय लेते हुए सक्रिय हो गए है। बुलडोजर बाबा के नाम से विख्यात हो चुके योगी आदित्यनाथ अपने आपको एक मजबूत मुख्यमंत्री दिखाने के मूड में हैं। उनके प्रशंसक उन्हें अब मुख्यमंत्री से आगे भी देखने लगे हैं मोदी के बाद कौन का प्रश्न लोगों के जेहन में  कौंधता रहा है, लेकिन अब योगी आदित्यनाथ के प्रशंसक उनमें मोदी का उत्तराधिकारी खोजने लगे हैं ।
  शपथ ग्रहण के अगले दिन ही मुख्यमंत्री ने अपनी नई कैबिनेट के साथ पहली बैठक की. इस बैठक में योगी मंत्रिमंडल ने बड़ा फैसला किया. कोरोना काल में शुरू की गई फ्री राशन योजना को तीन महीने के लिए बढ़ा दिया गया है।

कैबिनेट मीटिंग के बाद सीएम योगी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मंत्रिमंडल ने निर्णय लिया है कि अगले 3 महीने के लिए मुफ्त राशन योजना को फिर से हम लागू करेंगे. इससे राज्य के 15 करोड़ लोगों को फायदा होगा. कोरोना महामारी के दौरान ये योजना शुरू की गई थी. 

वहीं, कैबिनेट बैठक के बाद दोनों डिप्टी सीएम एक साथ बाहर निकले. डिप्टी सीएम बृजेश पाठक ने कहा कि सरकार लगातार गरीबों का ध्यान रख रही है और करोड़ों परिवार को इसका सीधे लाभ मिलेगा.

योगी सरकार में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कार्यकर्ताओं का धन्यवाद दिया और कहा कि हम संकल्प पत्र के हर वादे को पूरा करेंगे. 2024 में 75 से अधिक लोकसभा सीटें जीतने के संकल्प के साथ काम करेंगे. उन्होंने विपक्ष को निशाने पर लेते हुए कहा कि अखिलेश यादव समझ लें कि बीजेपी कैसे काम करती है. 15 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन देना जनता की सेवा है. केशव मौर्य ने कहा कि जो दोबारा मंत्री नहीं बने उनका लाभ भी मिलेगा. मंत्रिमंडल में समाज हर हिस्से को जगह देना चुनावी नहीं है. ऐसा कहने वाले आंख का इलाज कराएं. अपने विभाग को लेकर उन्होंने कहा कि ये मुख्यमंत्री का विषय है. जो भी विभाग मिलेगा, हम जनकल्याण का कार्य करेंगे.

कैबिनेट बैठक से पहले उत्तर प्रदेश के राज्यमंत्री संदीप सिंह ने कहा था कि योगी 2.0 की आज पहली कैबिनेट बैठक है और आज की इस बैठक में संभव है कि कोई महत्वपूर्ण निर्णय लिया जाएगा और विभागों के वितरण को लेकर भी इस बैठक में चर्चा हो सकती है. 

बता दें कि शुक्रवार को योगी आदित्यनाथ ने इकाना स्टेडियम में दोबारा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी. शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित तमाम बड़े नेता मौजूद रहे. सीएम और डिप्टी सीएम सहित योगी कैबिनेट में 53 दिग्गज हैं. उत्तर प्रदेश की सियासत के कई मिथक तोड़ते हुए योगी आदित्यनाथ ने लगातार दूसरी बार उत्तर प्रदेश की कमान संभाल ली है. 

डिप्टी सीएम- केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक

कैबिनेट मंत्री- सूर्य प्रताप शाही, सुरेश कुमार खन्ना, स्वतंत्र देव सिंह, बेबी रानी मौर्य, लक्ष्मी नारायण चौधरी, जयवीर सिंह, धर्मपाल सिंह, नंद गोपाल गुप्ता नंदी, भूपेंद्र सिंह चौधरी, अनिल राजभर, जितिन प्रसाद, राकेश सचान, अरविंद कुमार शर्मा,  योगेंद्र उपाध्याय, आशीष पटेल, संजय निषाद

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)- नितिन अग्रवाल, कपिलदेव अग्रवाल, रवीन्द्र जायसवाल, संदीप सिंह, गुलाब देवी, गिरीश चंद्र यादव, धर्मवीर प्रजापति, असीम अरुण, जेपीएस राठौर, दयाशंकर सिंह, नरेंद्र कश्यप, दिनेश प्रताप सिंह, अरुण कुमार सक्सेना, दयाशंकर मिश्र दयालु

राज्य मंत्री- मयंकेश्वर सिंह, दिनेश खटिक, संजीव गौड़, बलदेव सिंह ओलख, अजीत पाल, जसवंत सैनी, रामकेश निषाद, मनोहर लाल मन्नू कोरी, संजय गंगवार, बृजेश सिंह, केपी मलिक, सुरेश राही, सोमेंद्र तोमर, अनूप प्रधान, प्रतिभा शुक्ला, राकेश राठौर, रजनी तिवारी, सतीश शर्मा, दानिश आजाद अंसारी, विजय लक्ष्मी गौतम

Comment: Cancel reply

Exit mobile version