रहिमन पीछे क्या रहा गही पकड़ी जब मूल

रहीम दास का कितना सुंदर दोहा है।
सब आए इस एक में
डाल पात फल फूल।
रहिमन पीछे क्या रहा
गहि पकड़ी जब मूल।।

यदि कोई व्यक्ति किसी वृक्ष के शाखा,डाल , पात, फल और फूल को अलग-अलग पानी देता हो तो उसका ऐसा प्रयास निरर्थक और निष प्रयोज्य है। क्योंकि उसको पेड़ की जड़ को पानी देना चाहिए ।
जड़ को पानी देने से उस पेड़ के प्रत्येक शाखा, डाल, पात ,फल-फूल सभी को पानी की आपूर्ति जड़ों के माध्यम से हो जाती है।
इसी प्रकार से केवल एक परमात्मा को स्मरण करने से उसकी पूजा उपासना और आराधना करने से किसी और की पूजा और आराधना करने की आवश्यकता नहीं रह जाती है।
इसलिए वेदों की ओर लौटो।
इसलिए एकमात्र ईश्वर की पूजा उपासना और भक्ति करके उसी की शरण में आओ।
सभी ऋषियों ने कहा है केवल ईश्वर की उपासना करने योग्य है।

देवेंद्र सिंह आर्य
चेयरमैन उगता भारत

देवेंद्र सिंह आर्य

देवेंद्र सिंह आर्य

लेखक उगता भारत समाचार पत्र के चेयरमैन हैं।

More Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *