ताज़ा लेख

इतिहास के पन्नों से

संपादकीय

धर्म-अध्यात्म

वेद मानवता और नैतिक मूल्यों के प्रचारक विश्व के प्राचीनतम ग्रंथ है

ओ३म् “वेद मानवता व नैतिक मूल्यों के प्रसारक विश्व के प्राचीनतम ग्रन्थ हैं” ============ सृष्टि का आरम्भ सर्वव्यापक एवं सर्वशक्तिमान ईश्वर से सभी प्राणियों की...

मांसाहार के दुष्परिणाम

  मांसाहार का दुष्परिणाम विश्व स्तर पर कोरोना वायरस के संक्रमण व मृत्यु दर के माध्यम से समूचे विश्व के सामने आ चुका है कि...

सर्गारम्भ से ही बिना किसी भेदभाव मनुष्यों की अविद्या दूर करते आ रहे हैं वेद

ओ३म् ========== हमारी यह सृष्टि सर्वव्यापक, सर्वशक्तिमान, सर्वज्ञ, सच्चिदानन्दस्वरूप, अनादि व नित्य परमात्मा से बनी है। ईश्वर, जीव तथा प्रकृति तीन अनादि व नित्य सत्तायें...

मनुष्य जीवन की सार्थकता वेदों के अध्ययन और वेदों के आचरण में है

ओ३म् ========== हम मनुष्य है और अपनी बुद्धि व ज्ञान का उपयोग कर हम सत्य और असत्य का निर्णय करने में समर्थ हो सकते हैं।...

आत्मा का जन्म मृत्यु और पुनर्जन्म का सिद्धांत सत्य सिद्धांत है

ओ३म् =========== मनुष्य एक चेतन प्राणी है। चेतन प्राणी होने से प्रत्येक मनुष्य व इतर प्राणियों के शरीर में एक जैसी आत्मा का वास होता...

ईश्वर की न्याय व्यवस्था सर्वज्ञता पर आधारित होने के कारण निर्दोष है

ओ३म् ========= संसार में अनेक देश हैं जिनमें अपनी अपनी न्याय व्यवस्था स्थापित वा कार्यरत है। सभी देशों की न्याय व्यवस्थायें एक समान न होकर...

हमारे क्रांतिकारी / महापुरुष

कालजयी रचनाकार प्रेमचंद की कृतियां भारत के सर्वाधिक विशाल और विस्तृत वर्ग की कृतियां रही

अद्भुत प्रतिभा के धनी थे,भारत रत्न डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम 

समाज के पथप्रदर्शक थे, महान कवि गोस्वामी तुलसीदास

“स्वराज्य म्हारो जन्मसिद्ध हक्क छे” – लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक

दुश्मन की गोलियों का,सामना करेंगे। आजाद ही रहे हैं,आजाद ही मरेंगे॥ – चंद्रशेखर आजाद