ताज़ा पोस्ट

इतिहास के पन्नों से

संपादकीय




धर्म-अध्यात्म

किस वेद में स्त्रियों और शूद्रों के वेद अधिकार का निषेध है ?

  हम बड़ी नम्रतापूर्वक इन धर्माचार्यों से पूछना चाहते हैं कि ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद इन चारों संहिताओं में कहीं एक भी मन्त्र या...

ऋषि दयानंद वेद ज्ञान द्वारा सब मनुष्यों को परमात्मा से मिलाना चाहते थे

ओ३म् ========== महाभारत के बाद ऋषि दयानन्द ने भारत ही नहीं अपितु विश्व के इतिहास में वह कार्य किया है जो संसार में अन्य किसी...

अभय होने का वरदान देती है सनातन संस्कृति

उज्ज्वल मिश्रा सनातन संस्कृति हज़ारों वर्षों से मनुष्यों का मार्गदर्शन करती आ रही है। इस संस्कृति को सनातन इसलिए कहते हैं कि इसका ना आदि...

सर्व प्राचीन वैदिक धर्म का आधार ईश्वर और उसका निज ज्ञान वेद

ओ३म् =========== संसार में अनेक मत-मतान्तर प्रचलित हैं जो अपने आप को धर्म बताते हैं। क्या वह सब धर्म हैं? यह मत-मतान्तर इसलिये धर्म नहीं...

कथनी व करनी की कसौटी में खरे उतरने वाले गुरु ही असली उपदेशक

दिनेश चमोला 'शैलेश' उपदेश देना जितना सरल है, आचरण करना उतना ही कठिन है। कोई भी बात कहने व सुनने में जितनी सहज दिखाई व...

जीवात्मा के भीतर और बाहर व्यापक परमात्मा को जानना हमारा मुख्य कर्तव्य

ओ३म् ========== संसार में अनेक आश्चर्य हैं। कोई ताजमहल को आश्चर्य कहता है तो कोई लोगों को मरते हुए देख कर भी विचलित न होने...

हमारे क्रांतिकारी / महापुरुष

राम प्रसाद बिस्मिल के परिजनों की हो गई थी ऐसी दुर्दशा

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के इस्लाम के बारे में विचार

पंडित राम प्रसाद बिस्मिल का क्रांतिकारी दर्शन और आजाद भारत की सरकारें

नम्रता व धैर्य के शिखर थे श्री गुरू हरिगोबिंद जी

गुरु अर्जुन देव जी का ऐतिहासिक बलिदान