Categories
महत्वपूर्ण लेख

आदिवासी महिला द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने से देश का गौरव और बढ़ेगा

ललित गर्ग  उम्मीद है कि देश के संवैधानिक प्रमुख के रूप में उनकी मौजूदगी हर भारतवासी विशेषतः महिलाओं, आदिवासियों को उनके शांत और सुरक्षित जीवन के लिए आश्वस्त करेगी। आदिवासी का दर्द आदिवासी ही महसूस कर सकता है- यानी भोगे हुए यथार्थ का दर्द। द्रौपदी मुर्मू को भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

आखिर कांग्रेस में इतनी बेचैनी क्यों है ?

, क्या नियम-कानूनों से ऊपर है गांधी परिवार ललित गर्ग  तथाकथित क्रांतिकारी विचारों का सैलाब कांग्रेस कार्यकर्त्ता एवं नेताओं में उमड़ा है पर जीने का ईनाम एवं पारदर्शिता गायब है। अपने मंचों से कांग्रेस नेताओं के प्रभावी वायदे जनता के हाथों में सपने, आदर्श थमाते रहे हैं पर जीवन का सच नहीं पकड़ा पाए। यह […]

Categories
आतंकवाद

पंजाब में देश विरोधी गतिविधियों के विरुद्ध अब कठोर कार्रवाई होनी ही चाहिए

ललित गर्ग  स्वर्ण मन्दिर में कट्टरपंथी सिख संगठनों के अलावा शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) ने भी हिस्सा लिया। अकाल तख्त के जत्थेदार ने ‘सिख राज’ की मांग उठाते हुए कहा कि इस बार सिख युवकों को बाकायदा हथियार चलाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। चालीस साल पहले जो पंजाब अलगाववाद एवं आतंकवाद की चपेट में था, […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

हिंदू मुस्लिम विवाद और मोहन भागवत के बोल

ललित गर्ग  संघ प्रमुख भागवत ने नागपुर में संघ के विशिष्ट पदाधिकारी सम्मेलन में दिये गये अपने उद्बोधन में साफ किया कि मुस्लिम भी इसी देश के हैं और उनके पुरखे भी हिन्दू ही रहे हैं। उन्होंने किसी कारणवश इस्लाम धर्म स्वीकार कर पृथक पूजा पद्धति अपनाई। किसी भी देश की माटी को प्रणम्य बनाने, […]

Categories
देश विदेश

रूस यूक्रेन युद्ध को सचमुच बंद करा सकता है भारत

 ललित गर्ग यूक्रेन के साथ कोई अनहोनी होती है तो इसके लिए केवल रूस ही जिम्मेदार होगा। रूस एवं यूक्रेन के बीच इस तरह युद्धरत बने रहना खुद में एक असाधारण और अति-संवेदनशील मामला है, जो समूची दुनिया को विनाश एवं विध्वंस की ओर धकेलने जैसा है। रूस-यूक्रेन युद्ध रुकने का नाम नहीं ले रहा […]

Categories
Uncategorised

समाज चाहे तो सद्भाव बना रह सकता है

 ललित गर्ग अगर प्रांत का सर्वोच्च शासक एवं कानून-व्यवस्था सख्त हो, तो किसी भी तरह का उपद्रव फैलाना आसान नहीं होता। मगर पिछले कुछ दिनों में हुई घटनाओं को देखते हुए यही लगता है कि कुछ उपद्रवी तत्त्व बाकायदा रणनीति बना कर ऐसी घटनाओं को अंजाम देते हैं। धार्मिक व साम्प्रदायिक भावना को धार देकर […]

Categories
मुद्दा

मीडिया की स्वतंत्रता और विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस

  ललित गर्ग भारत में पत्रकारिता लोकतंत्र का चौथा स्तंभ माना गया है। अकबर इलाहाबादी ने इसकी ताकत एवं महत्व को इन शब्दों में अभिव्यक्ति दी है कि ‘न खींचो कमान, न तलवार निकालो, जब तोप हो मुकाबिल तब अखबार निकालो। विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस प्रत्येक वर्ष 3 मई को मनाया जाता है। प्रेस किसी […]

Categories
प्रमुख समाचार/संपादकीय मुद्दा

केजरीवाल का महान संकल्प और देश के दूसरे प्रांतों के मुख्यमंत्री

 ललित गर्ग योग किसी भी धर्म, सम्प्रदाय, जाति या भाषा से नहीं जुड़ा है। योग का अर्थ है जोड़ना, इसलिए यह प्रेम, अहिंसा, करूणा और सबको साथ लेकर चलने की बात करता है। योग, जीवन की प्रक्रिया की छानबीन है। यह सभी धर्मों से पहले अस्तित्व में आया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल देश एवं दुनिया में […]

Categories
समाज

सांप्रदायिक भाईचारे को क्षतिग्रस्त करने वाले लोगों के खिलाफ करनी ही होगी कार्यवाही

 ललित गर्ग यह तो सर्वविदित एवं सामान्य समझ की बात है कि सामाजिक उथल-पुथल देश की आर्थिक तरक्की को प्रभावित करती है। इससे निवेशक बिदकते हैं और राज्य की जो ऊर्जा तरक्की में लगनी चाहिए, वह सामाजिक सौहार्द की बहाली में खर्च करनी पड़ती है। देश लम्बे समय से शांत था, एकाएक एक वर्ग-विशेष एवं […]

Categories
महत्वपूर्ण लेख

जम्मू कश्मीर के लिए खास संदेश देने वाली रही है प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा

 ललित गर्ग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कश्मीर यात्रा इसलिये महत्वपूर्ण मानी जा रही है कि वहां के लोगों ने साम्प्रदायिकता, राष्ट्रीय-विखण्डन, आतंकवाद तथा घोटालों के जंगल में एक लम्बा सफर तय करने के बाद अमन-शांति एवं विकास को साकार होते हुए देखा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हाल ही में की गयी जम्मू-कश्मीर यात्रा पर […]

Exit mobile version