किम जोंग उन धकेल सकता है दुनिया को महायुद्ध में , कोरियाई बॉर्डर पर युद्ध जैसे हालात

 

नई दिल्ली: उस समय से अज्ञातवास में चल रहे उत्तरी कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन जैसे ही अज्ञातवास से बाहर निकला है वैसे ही उसने दुनिया को आतंकित करने का काम शुरू कर दिया है । उसकी वर्तमान गतिविधियां से लगता है कि वह किसी महायुद्ध की तैयारी कर रहा है और दुनिया जब पूर्व राज्य से महा संकट से गुजर रही है तब वह दुनिया के लिए कोई नई आफत का षड्यंत्र रचता को दिखाई दे रहा है । यदि वह अपने ही खतरनाक इरादों में सफल होता है तो निश्चय ही दुनिया के लिए किम जोंग उन का अस्तित्व बहुत ही खतरनाक साबित होगा । ऐसे में भारत को भी बहुत अधिक सावधानी के साथ आगे बढ़ना होगा क्योंकि भारत जिस प्रकार उभरती हुई एक शक्ति के रूप में दुनिया में स्थापित होता जा रहा है उससे भारत के दुश्मन बहुत अधिक बेचैन है उनकी बेचैनी हमारे लिए किसी भी प्रकार का कोई संकट खड़ा कर सकती है जिसके लिए राजनीतिक नेतृत्व को हर दृष्टिकोण से सावधान रहना होगा।
तानाशाह किम जोंग उन  को लेकर नॉर्थ कोरिया ने सस्पेंस खत्म कर दिया है. 20 दिन बाद जब तानाशाह किम फिर से दुनिया के सामने आ गया है तब उसके पास तबाही का नया फॉर्मूला है. तानाशाह किम जोंग ने अपने अज्ञातवास में कई सा​जिशों को सिरे चढ़ाया है । उसने सबसे बड़ी मुसीबत तो अपने कट्टर दुश्मन साउथ कोरिया के लिए खड़ी कर दी है. तानाशाह की वापसी के साथ ही कोरियाई बॉर्डर पर तनाव बढ़ गया है. जो एक बड़े संकट का संकेत दे रहा है ।दुनिया इस सस्पेंस में थी कि नॉर्थ कोरिया का सनकी तानाशाह किम जोंग उन जिंदा है या मर गया. दुनिया रहस्यमयी देश उत्तर कोरिया के अंदर ये पता लगाने की कोशिश कर रही थी कि आखिरकार किम जोंग उन का क्या हुआ. 20 दिन की गुमशुदगी के बाद उत्तर कोरिया से एक फैक्ट्री के उद्घाटन का वीडियो सामने आया और दावा किया गया किम जोंग उन पूरी तरह से स्वस्थ है।
इधर, तानाशाह का सस्पेंस खत्म हुआ उधर कोरिया में एक्शन शुरू हो गया. किम जोंग उन के 20 दिन तक गायब रहने के बाद लौटने के साथ ही नॉर्थ और साउथ कोरिया के बीच माहौल बिगड़ने लगा है. जोंग की वापसी के साथ नॉर्थ कोरिया की ओर से आक्रामकता दिखाई जा रही है ।
अमेरिका और दुनिया की दूसरी ताकतों को यह ध्यान रखना चाहिए कि वह कोरोनावायरस से जूझ रहे विश्व समुदाय को सही नेतृत्व देने का प्रयास करें । चीन से युद्ध की जल्दी करने का अभिप्राय होगा कि महाविनाश को आमंत्रित करना । क्योंकि इसी समय किम जोंग उन भी अपने खतरनाक इरादों को प्रकट कर रहा है ।ऐसे में दुनिया को कोरोना संकट से उबरना तो इन शक्तियों का काम होना ही चाहिए साथ ही विश्व शांति भी कायम रहे ऐसे प्रयास भी न करने चाहिए।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *