उगता भारत एक मिशन : जुड़ें हमारे साथ

उगता भारत समाचार पत्र के अनेक पाठक जब हमें ऐसी प्रतिक्रिया देते हैं कि यह समाचार पत्र एक मिशन है, जो मां भारती की सच्ची सेवा कर रहा है तो निश्चय ही वैसी ही प्रसन्नता होती है जैसी किसी किसान को अपनी लहलहाती फसल को देखकर प्रसन्नता होती है।
राष्ट्रवाद की बयार को और भी तेज कर आंधी में परिवर्तित करने के लिए समर्पित यह समाचार पत्र भारतीय धर्म, संस्कृति और इतिहास के प्रति एकनिष्ठ होकर कार्य कर रहा है। इसके यशस्वी संपादक डॉ राकेश कुमार आर्य द्वारा लिखित इतिहास के बड़े-बड़े ग्रन्थ इस समय देश विदेश में विमर्श का विषय बन चुके हैं।
विदेशों के विश्वविद्यालयों में भी डॉक्टर आर्य के लिखे इतिहास संबंधी ग्रंथों पर चर्चाएं आयोजित हुई हैं।
भारतीय इतिहास के पन्नों पर पड़ी धूल को झाड़ने में डॉक्टर राकेश कुमार आर्य का कार्य निश्चित रूप से आने वाली पीढ़ियों को सही मार्ग दिखा सकेगा, ऐसा हमें पूर्ण विश्वास है।
देश के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न कार्यक्रमों में डॉ राकेश कुमार आर्य के साथ रहकर कार्य करने का मुझे सौभाग्य प्राप्त हुआ है। वह देश की राजनीति का हिन्दूकरण करके अर्थात वेद और आर्ष ग्रंथों के माध्यम से शासन प्रशासन को संचालित होते हुए देखना चाहते हैं।
उगता भारत को विश्व गुरु के रूप में प्रतिष्ठित करने के लिए संकल्पित है। इसी दृष्टिकोण से इस यज्ञ का आयोजन भी किया गया। इस यज्ञ में भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री भाटी द्वारा 51 हजार रुपए और कोलकाता से रमेश चंद्र अग्रवाल जी द्वारा ₹5000 दान के रूप में पत्रिका के प्रकाशन हेतु प्रदान किए गए। हमारे इस मिशन को दोनों दानदाताओं ने अपनी पवित्र कमाई में से दान देकर आगे बढ़ाने का सराहनीय कार्य किया, जिसके लिए हम हृदय से धन्यवाद ज्ञापित करते हैं।
उगता भारत का लक्ष्य है कि एक भव्य विशाल उगता भारत राष्ट्र मंदिर देश में स्थापित किया जाए । जिसमें भारत के सांस्कृतिक, राजनीतिक व धार्मिक इतिहास की भव्य झांकी प्रस्तुत की जाए। इसके लिए जो भी सज्जन हमारे साथ जुड़े हैं हम उनका हृदय से अभिनंदन करते हैं।
जमशेदपुर से श्री राजेंद्र कुमार अग्रवाल जी भारत के इतिहास पुनर्लेखन समिति के संरक्षक के रूप में कार्य कर रहे हैं । जिसके लिए समय-समय पर वह आर्थिक सहयोग भी देते रहे हैं। इसी प्रकार कटक उड़ीसा से श्री श्याम सुंदर पोद्दार जी इस मिशन की एक महत्वपूर्ण कड़ी के रूप में अपना वरदहस्त बनाए हुए हैं। जमशेदपुर से ही श्री धर्मचंद पोद्दार, श्री हरि बल्लभ आरसी जी,
राजस्थान से श्री राजेंद्र कुमार जांगिड़ जी, मध्य प्रदेश से श्री दिनेश कुमार शर्मा जी, गुजरात से श्री प्रेम कुमार जी, आसाम से
श्री संत कुमार जी, जम्मू कश्मीर से श्री आरसी शर्मा जी,हिमाचल से श्रीमती उमा घिल्डियाल जी, दिल्ली से बाबा पंडित नंदकिशोर मिश्र जी, श्री एस डी विजयन जी, श्रीमती सपना दत्ता जी सहित अन्य प्रांतों से भी कई महान विचारक, साथी व सहयोगी इस मिशन को आगे बढ़ा रहे हैं। पदार्थ उनका भी हृदय से धन्यवाद ज्ञापित करते हैं।
हम आशा और अपेक्षा करते हैं कि उगता भारत की अगली योजनाओं को फलीभूत करने में भी हमें आप सबका इसी प्रकार सहयोग और आशीर्वाद प्राप्त होता रहेगा।

श्रीनिवास आर्य
सह संपादक : उगता भारत

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *