हिन्‍दू जनजागृति समिति द्वारा वाराणसी में जिलाधिकारी को ज्ञापन !*

*देश की युवापीढी को गर्त में ले जानेवाले ‘वेलेंटाइन डे’ पर रोक लगाने हेतु
सरकार ठोस कदम उठाए ! – राष्‍ट्रप्रेमियों की मांग*
वाराणसी – पूरे विश्‍व में सर्वाधिक युवाशक्‍ति भारत में है | किंतु कई वर्षों
से १४ फरवरी ‘वेलेंटाइन डे’ के रूप मे मनाने की पाश्‍चात्‍यों की कुप्रथा भारत
में भी प्रचलित हो गई है | व्‍यवसायिक लाभ के लिए प्रेम के नाम पर
पाश्‍चात्‍यों की इस विकृत संकल्‍पना के कारण युवा पीढी भोगवाद और अनैतिकता की
गर्त में जा रही है | इस दिन होनेवाली पार्टियों में युवक-युवतियों में
मद्यपान, धूम्रपान, मादक पदार्थों का सेवन, एक पक्षीय प्रेम में लडकियों की
छेडछाड और हिंसक कृत्‍यों आदि अनुचित प्रकारों में प्रचंड वृद्धि हुई है | इस
दिन संतति प्रतिबंधक साधनों की बिक्री में बडी मात्रा में होती वृद्धि अनैतिक
संबंधों की वृद्धि दर्शाती है | लडकियों को प्रभावित करने के लिए तेज गति से
वाहन चलाने से दुर्घटनाएं होना तथा ‘लव जिहाद’ की घटनाएं भी होती है | इन सभी
अनुचित कृत्‍यों पर प्रतिबंधात्‍मक उपाय प्रशासन करे, इस दृष्‍टि से हिन्‍दू
जनजागृति समिति द्वारा आज जिलाधिकारी तथा पुलिस प्रशासन को ज्ञापन दिया गया |
ज्ञापन देते समय अधिवक्ता अरूण कुमार मौर्य, अधिवक्ता संजीवन यादव, अधिवक्ता
अमोद प्रकाश त्रिपाठी, अधिवक्ता विनोद पांडेय, अधिवक्ता के.के. सिंह, अधिवक्ता
अजय मिश्रा तथा हिन्‍दू जनजागृति समिति के श्री. प्रमोद गुप्‍ता, श्री. धीरज
सेठ तथा अन्‍य उपस्‍थित थे |

संक्षेप में ‘वेलेंटाइन डे’ के कारण विद्यालय-महाविद्यालय के परिसर में
कानून-व्‍यवस्‍था तथा शैक्षणिक वातावरण बिगाडनेवाली स्‍वैराचारी और भोगवादी वृत्ति
दिनोंदिन बढते जा रही है | इसके कारण होनेवाली घटनाओं का अतिरिक्‍त तनाव पुलिस
और प्रशासन पर भी आ रहा है | वर्तमान स्‍थिति में भारत में प्रति १८ मिनट पर
एक बलात्‍कार हो रहा है | महिलाओं पर हो रहे अत्‍याचारों के भयानक आंकडे इस
संदर्भ में प्रतिबंधात्‍मक उपायों की नितांत आवश्‍यकता दर्शाते हैं | भारतीय
समाजव्‍यवस्‍था उत्तम बनी रहे तथा अनैतिक कृत्‍यों के कारण होनेवाले अनाचारों
पर रोक लगाने के लिए कानून व्‍यवस्‍था बनाए रखने सहित युवापीढी का उद़्‍बोधन
करने की भी आवश्‍यकता है |

*इस *
*दृष्‍टि से समिति की ओर से आगे दी मांगें की गईं – *
१. १४ फरवरी को पुलिस के विशेष दल गश्‍ती दल नियुक्‍त कर महाविद्यालय परिसर
में अनाचार करनेवाले असामजिक तत्‍वों को नियंत्रण में लेना, द्रुत गति से वाहन
चलानेवालों पर कार्यवाही करना आदि उपाययोजनाएं की जाए |
२. ‘वेलेंटाइन डे’ के निमित्त महिलाओं पर होनेवाले अत्‍याचारों की मात्रा को
देखते हुए ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए विद्यालय-महाविद्यालय के परिसर में
‘मार्गदर्शक सूचनाएं’ निर्देशित की जाए |

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *