लाल बहादुर शास्त्री जी को विनम्र श्रद्धांजलि

था लाल बहादुर भारत का, भारत का ऊँचा भाल किया।
‘धरती का पुत्र’ कहाता है, जन-जन को स्वाभिमान दिया।।

देश के हित जीना सीखा , देशहित  मृत्यु का वरण किया।
चेतना में रहा देश धड़कता, ना ध्वज देश का झुकने दिया।।

अपमान सहा और कष्ट सहे,   जेलें  सहीं  और  मस्त  रहे।
सर्वोच्च शिखर को पाकर के भी अहंकार भाव से दूर रहे ।।

दार्शनिक भाव से राज किया और दर्शन को जीवन में खोजा।
लोकतंत्र को दर्शन भाव दिया, ऊंचा किया और ऊंचा सोचा।।

विनम्र रहे पर झुके नहीं और सिद्धांतों के पथ पर रुके नहीं।
आदर्श के लिए संघर्ष किया ना थमे कहीं ना ही थके कहीं।।

दो अक्टूबर को जन्मे थे , जनवरी ग्यारह को प्रस्थान किया।
निष्काम भाव से जीते रहे , योगी की  भांति  प्रयाण  किया ।।

सत्ता के स्वार्थी लोगों ने  उपेक्षा की  और  अपमान  किया।
राकेश’ देश के लोगों ने राष्ट्रपुरुष का हृदय से सम्मान किया।।

डॉ राकेश कुमार आर्य
संपादक उगता भारत

डॉ॰ राकेश कुमार आर्य

मुख्य संपादक, उगता भारत

More Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *