नोएडा से ग्रेटर नोएडा जाना और हुआ आसान

 

 

विशेष संवाददाता

नोएडा।जगह-जगह उड़ती धूल-मिट्टी और टूटी हुई सड़क से गुजरकर लोग नोएडा (Noida) से ग्रेटर नोएडा जा रहे थे।उन्हें खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था, लेकिन अब नोएडा अथॉरिटी ने इस परेशानी का दूर करने में जुट गया है।नोएडा से ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) जाने वाले रास्ते को आसान बना दिया गया है।लोगों की तकलीफ को दूर करते हुए अथॉरिटी ने फरीदाबाद-नोएडा-गाजियाबाद (FNG) को बिसरख पुल से जोड़ने वाली सड़क बनाने का काम शुरू कर दिया गया है। इतना ही नहीं इस सड़क से गुजरने पर लोगों को प्रदूषण (Pollution) का सामना भी नहीं करना होगा।

गौरतलब रहे बिसरख पुल से जोड़ने के लिए नोएडा की तरफ से सड़क बना ली गई थी, लेकिन एफएनजी से इस सड़क को जोड़ने वाला कनेक्टिंग रोड नहीं बना था। सड़क के पास ही कलवर्ट बनाने का काम काफी समय से बंद है. पहले वाली कंपनी ब्लैक लिस्ट कर दी गयी है और दूसरी कंपनी अभी तक मिली नहीं है।यह कलवर्ट एफएनजी को बिसरख पुल से जोड़ने वाली सड़क को जोड़ेगा।

2 साल से परेशानी उठा रहे थे नोएडा से ग्रेटर नोएडा जाने वाले
बीते कई महीने से एफएनजी का काम अटका हुआ है. गौरतलब रहे बिसरख पुल से होते हुए नोएडा-ग्रेटर नोएडा को जोड़ने के लिए बनी 900 मीटर की सड़क तो शुरू हो गई, लेकिन फरीदाबाद-नोएडा-गाजियाबाद (एफएनजी) हाइवे से सीधी कनेक्टिविटी नहीं हो पाई।इस सड़क से सीधे एफएनजी पर आने के लिए दोनो तरफ बनाए जा रहे 15-15 मीटर के कलवर्ट (ड्रेन) के अभी तक सिर्फ स्लैब ही डाले गए थे, इसके बाद काम रुक गया।
बिजली के तार और पेड़ बीच में आने की वजह से भी यह काम रुक गया था. नोएडा सेक्टर-115 और 112 के सामने से बिसरख पुल के जरिए ग्रेटर नोएडा के सेक्टर-1 और टेक जोन 4 को जोड़ने के लिए करीब 900 मीटर लंबी और 60 मीटर चौड़ी यह सड़क 22 करोड़ की लागत से बनाई गई है।

दरअसल, फरवरी 2019 में यह प्रॉजेक्ट शुरू हुआ था. इसे जून तक पूरा होना था।जून में सड़क तो शुरू हो गई, लेकिन दोनों तरफ के कलवर्ट का काम बेहद धीमी गति से चला।इसका फायदा यह है कि सेक्टर-74, 75, 76, 77, 78, 79 और आसपास के इलाकों से ग्रेटर नोएडा जाने वाले लोग सीधे इसी रोड से बिसरख पुल होते हुए जा सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *