चुनावों के मद्देनजर हिंदू मतदाताओं को खुश करने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लिया अहम फैसला

पश्चिमी बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हिन्दू मतदाताओं को साधने के लिए अब चुनावी चाल चलकर एक नया फैसला लिया है । बनर्जी सरकार ने घोषणा की है कि अब मंदिरों में काम करने वाले पुजारियों को प्रत्येक महीने ₹1000 दिए जाएंगे । इस योजना के तहत 8 हजार पंडितों को ये लाभ मिलेगा. ये उसी तरह है, जैसे वक्‍फ बोर्ड सभी इमामों को हर महीने वजीफा देता है। इसके अलावा ऐसे पंडित जिनके पास घर नहीं है, उन्हें बंगाल आवास योजना में शामिल किया जाएगा। राज्‍य के पुरोहितों ने सरकार से जमीन की मांग की थी। जिसमें वे राजरहाट में एक संस्था की स्थापना करेंगे।
मुख्यमंत्री बनर्जी की इस घोषणा को चुनावों के दृष्टिगत की गई घोषणा मानते हुए भी हम इसका समर्थन करते हैं , परंतु इसके उपरांत भी बड़ा प्रश्न यही है कि उनके राज में जिस प्रकार हिंदू महिलाओं के साथ अत्याचार होते रहे हैं और हिंदुओं का धर्मांतरण करने की मुस्लिमों की कोशिशें खुलेआम होती रही हैं उनके बारे में ममता बनर्जी सरकार का क्या दृष्टिकोण है ? यह सर्वमान्य है कि ममता बनर्जी के राज्य पश्चिम बंगाल में हिंदुओं के साथ घोर अत्याचार होते रहे हैं। इतना ही नहीं उनके राजनीतिक दल के लोग अन्य राजनीतिक दलों के लोगों के साथ भी दुर्व्यवहार करते हैं ,और यदि दाव चल जाए तो जान से भी मार देते हैं ।ऐसी तानाशाही प्रवृत्ति को जारी रखते हुए कुछ पुजारियों को यदि ₹1000 देकर ममता बनर्जी प्रदेश के हिंदू मतदाताओं को बहका रही हैं तो उन्हें समझ लेना चाहिए कि लोग अब बहकते नहीं है बल्कि चुनावों में मतदान के माध्यम से अपना विरोध प्रकट कर सत्ता परिवर्तन कर चुपचाप क्रांति कर देते हैं।
एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने ये अहम घोषणा की. इसके अलावा उन्‍होंने कोविड-19, हिंदी दिवस पर भी बात की. उन्‍होंने कहा, ‘कोविड पर ग्‍लोबल एडवाइजरी बोर्ड ने महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की है. वे राज्य में बढ़ती टेस्‍ट की संख्‍या, बेड की संख्‍या से खुश हैं. हम पहले से ज्‍यादा संख्‍या में मुफ्त एंबुलेंस उपलब्‍ध करा रहे हैं. उन्‍होंने दुर्गा पूजा को लेकर भी सुझाव दिए हैं और कहा है कि पूजा के पंडाल खुले हों, ताकि वेंटिलेशन अच्‍छा रहे.’ 
पश्चिम बंगाल में बीजेपी के अध्‍यक्ष दिलीप घोष पर निशाना साधते हुए बनर्जी ने कहा,  ‘कुछ लोग कह रहे हैं कि कोरोना खत्म हो गया है. आपको बता दें, कोरोना खत्म नहीं हुआ है. यह कोरोना का पहला चरण है और इसका दूसरा चरण भी हो सकता है. इसीलिए कोविड के सभी प्रोटोकॉल का सख्‍ती से पालन करें, सैनिटाइजर का उपयोग करें, मास्क पहनें, हाथ धोएं.’ 
बता दें कि दिलीप घोष ने कहा था कि कोरोना खत्‍म हो गया है, इसी को लेकर ममता ने उन पर टिप्‍पणी की।

डॉ॰ राकेश कुमार आर्य

डॉ॰ राकेश कुमार आर्य

मुख्य संपादक, उगता भारत

More Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *