गीता मेरे गीतों में….. गीत संख्या – 8, जीवात्मा है अमर

माधव समझाने लगे, अर्जुन को रण बीच।
आत्मा अविनाशी अमर सीख सके तो सीख।।

अविनाशी तलवार से कभी न काटा जाय ।
पानी से ना गल सके, आग से ना जल पाय।।

अविनाशी के मारने की जो कहते बात।
अज्ञानी वे हैं निरे ना समझें गहरी बात।।

मर नहीं सकता आत्मा और न मारा जाय ।
जो नर ऐसा मानता वह ज्ञानी कहलाय ।।

आत्मा और शरीर का विलय करना नहीं ठीक।
आत्मा ही सर्वोच्च है , वेदों की बात सटीक।।

शरीर को सब कुछ मानना वेद विरुद्ध यह बात।
मरणधर्म्मा होता यह – है वेदों का सिद्धांत ।।

आत्मा ‘गोपा’ वेद ने कही है मेरे मीत ।
यदि इसे समझना है तुझे तो ले इंद्रियों को जीत ।।

जब तक शरीर में आत्मा, तब तक इंद्रियां साथ।
प्रस्थान करे जब आत्मा – छोड़ें इंद्रियां साथ ।।

यदि इंद्रियां दूषित हो गईं, तो आत्मा का हो नाश ।
रहता अपने भाव में, पा ईश्वर का प्रकाश।।

अविनाशी किसी तत्व का, ना हो सकता उच्छेद।
ज्ञानी जन यह जानते , ना जाने मूरख भेद।।

किए का फल भोगना, निश्चित है सुनो पार्थ।
वेद का सिद्धांत है , फल भोगे हर पात्र ।।

जो तेरे सम्मुख खड़े , सब भोगें अपना भोग।
तू क्यों चिंता में पड़ा और क्यों करता है शोक।।

डॉ राकेश कुमार आर्य

डॉ॰ राकेश कुमार आर्य

मुख्य संपादक, उगता भारत

More Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *