गीता मेरे गीतों में …. कविता संख्या – 16 शिथिल करो बंधन

शिथिल करो बंधन

तर्ज : – बचपन की मोहब्बत को ….

माया में रमा मानव ना भगवान से मिल पाता।
सत , रज, तम तीनों के महा-भ्रम में पड़ जाता।। टेक।।

सत , रज , तम – तीनों से माया ने रचा जीवन।
इन से ही जगत बना भोगों का पड़ा बंधन ।।
जो इन में भटक गया , रब से नहीं मिल पाता …..
माया में रमा मानव ना भगवान से मिल पाता ……

पहचान नहीं पाता जब मानव ईश्वर को ।
तब शिथिल करो बंधन देखो जगदीश्वर को ।।
वह सब में व्यापक है , पर नजर नहीं आता …..
माया में रमा मानव ना भगवान से मिल पाता ……

ना पार कोई पाया , इस माया ठगिनी का ।
आ शरण प्रभु की तू और नाश हो बंधन का ।।
कल्याण मिले निश्चय , भवबन्धन कट जाता …..
माया में रमा मानव ना भगवान से मिल पाता ……

मिल पाता ज्ञानी ही और भक्ति भी करता।
‘राकेश’ प्रभु चाहते , कृपा का वरण करता ।।
‘सब कुछ ईश्वर का है’ – हृदय में यही आता …
माया में रमा मानव ना भगवान से मिल पाता …..

गीता मेरे गीतों में से उद्धृत
डॉ राकेश कुमार आर्य
संपादक उगता भारत

डॉ॰ राकेश कुमार आर्य

मुख्य संपादक, उगता भारत

More Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *