प्रकृति के पांच तत्व और हमारे द्वारा फैलाया जा रहा प्रदूषण


हेमा हरि उपाध्याय

प्रकृति के पांच तत्व धरती , आकाश, जल, वायु और अग्नि को मानव मात्र ने प्रदूषित किया है इन पांच तत्वों की पूजा कर इनका संवर्धन व संरक्षण करना हमारा प्रथम कर्तव्य है । लेकिन हमने अपनी अति आवष्यकताओं की पूर्ति के लिए इन सभी साधनों को प्रदूषित कर दिया हैं । मानसून भी इन पांच तत्वों के आधार पर काम करता है । महात्मा गांधी ने कहा है कि प्रकृति का दोहन उचित साधनों के लिए होना चाहिए ना कि अनुचित कार्य के लिए । हमने धरती को ना केवल वनोंं से विहीन किया है बल्कि रासायनिक पदार्थों के द्वारा उसको बंजर बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है । उससे वन्य जीव जंतु सभी प्रभावित हो रहे हैं । साथ ही हमने जहरीले धुएं के द्वारा वायु को प्रदूषित कर आकाश की ओजोन परत को भी नष्ट करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है ।
अतः देखा जा सकता है कि आज प्राकृतिक असंतुलन पैदा हो गया है । इसके परिणाम मानव मात्र को ही भोगने होंगे । एक तरफ अंधेरे में टिमटिमाते ऐसे दिए हैं जो तन मन धन खर्च कर पृथ्वी की हरीतिमा को बढ़ाने में लगे हैं वहीं दूसरी तरफ वे लालची लोग हैं जो दिन-ब-दिन पेड़ पौधों को काटकर हरीतिमा को लील रहे हैं । इस हरीतिमा की कमी की वजह से आज वन्य जीव जंतुओं पर संकट पैदा हो गया हैं और कई मानसून को प्रभावित करने वाले जीव जंतु भी धीरे-धीरे विलुप्ति के कगार पर पहुंच गए हैं ।ऐसे माहौल में हम कैसे अपेक्षा करें कि मानसून भी हमारा पूरी तरह से साथ दें । यही कारण है कि वर्षा असंतुलित हो रही है । इतनी बाढें आने के बाद भी भारत की अधिसंख्य आबादी पानी के लिए तरस रही है । इन सबके लिए हम धरा वासी ही जिम्मेदार हैं ।
हमने अपनी सुविधा भोगी व भौतिक आवश्यकताओं की अंधी दौड़ में प्रकृति के सभी तत्वों को दूषित करके रख दिया व करते जा रहे हैं । न केवल प्रकृति बल्कि सेहत के लिए भी ये पांच तत्व जिम्मेदार है। पांचो तत्वों में शेष चार तत्वों के अंश होते हैं। हमारे शरीर में ये तत्व तीन प्रकार के दोष के रूप में प्रकट होते हैं- वात, पित्त और कफ। हर व्यक्ति को ये दोष अलग तरह से प्रभावित करते हैं। जन्म के समय व्यक्ति की जो प्रकृति होती है, उसी के अनुसार उसे अन्य तत्व प्रभावित करते हैं। ज्यादातर लोगों की प्रकृति दो दोषों के योग से बनी होती है। जब ये दोष संतुलित रहते हैं, तो शरीर सामान्य रूप से कार्य करता है, लेकिन दोषों में असंतुलन स्थापित होने पर पाचन क्रिया प्रभावित होती है और शरीर में टॉक्सिन्स पैदा होने लगते हैं। परिणामस्वरूप शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है और तरह-तरह की बीमारियां होने लगती हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *