पाकिस्तान और बांग्लादेश के राष्ट्रगान को पढ़ाती मिली शिक्षिका : हिंदू महासभा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा – ऐसे स्कूलों का हो रजिस्ट्रेशन तत्काल समाप्त

जमशेदपुर । ( संवाददाता ) भारत के भीतर भी भारत के साथ छल करने वाले अर्थात भारत का खाकर पाकिस्तान और बांग्लादेश के गीत गाने वाले बहुत से नाग छुपे बैठे हैं । जो समय-समय पर अपने घिनौने कार्य दिखाते रहते हैं । एक ऐसा ही मामला जमशेदपुर में आया है । जहां एक विद्यालय की शिक्षिका पाकिस्तान और बांग्लादेश के राष्ट्रगान को याद करने के लिए बच्चों को होमवर्क देती पाई गई । इस गंभीर प्रकरण को हिंदू महासभा के प्रदेश अध्यक्ष श्री धर्मचंद्र पोद्दार ने गंभीरता से उठाया है ।

इस प्रकरण में उगता भारत को जानकारी देते हुए हिंदू महासभा के प्रदेश अध्यक्ष श्री पोद्दार ने बताया कि जब उनके संज्ञान में यह मामला आया तो वह स्वयं इस मामले को लेकर जिला शिक्षा पदाधिकारी से मिले हैं । उन्होंने कहा कि यह मामला अत्यंत गंभीर है और इस प्रकार के उदाहरण यह बताते हैं कि भारत के भीतर भी भारत द्रोही लोग किस प्रकार सक्रिय होकर हमारे शिक्षा विभाग तक में घुस चुके हैं ?
उन्होंने कहा कि उच्च अधिकारियों से इस प्रकरण में शिकायत दर्ज कराई गई है और उन्हें बताया गया है कि यदि इस प्रकार की घटनाएं भविष्य में जारी रहेंगी तो इनके खिलाफ हिंदू महासभा आंदोलन करेगी। श्री पोद्दार के साथ इंजीनियर सुश्री सरस्वती कुमारी सम्मिलित थी ।
उन्होंने कहा कि उन्होंने स्वयं एक पत्र के माध्यम से अधिकारियों को यह अवगत करा दिया है कि घाटशिला ( पूर्वी सिंहभूम ) स्थित संत नंद लाल स्मृति विद्या मंदिर नामक स्कूल की शिक्षिका के द्वारा यू के जी और एल के जी के बच्चों को मोबाइल में ऑनलाइन पढ़ाने के क्रम में शहला परवीन नामक शिक्षिका ने पाकिस्तान और बांग्लादेश के राष्ट्रगान को याद करने का होमवर्क दिया है ।
इस घटना को लेकर हिंदू महासभा ने अपना भारी क्षोभ प्रकट किया है और इस विद्यालय के प्राचार्य अशफाक एस के मल्लिक एवं शिक्षिका सैफल परवीन या शहला परवीन इन दोनों पर देशद्रोह का मुकदमा चलाने की मांग की है ।
इस पत्र में यह भी मांग की गई है कि इन लोगों से जुड़े तार की पूरी जानकारी प्राप्त करनी चाहिए और इस मामले में सम्मिलित अन्य अनेक लोगों पर भी देशद्रोह का मुकदमा चलाया जाना चाहिए ।
इस पत्र में यह भी मांग की गई है कि इस प्रकार के स्कूलों का रजिस्ट्रेशन तत्काल रद्द किया जाए ।
श्री पोद्दार ने प्रेस को जारी अपने बयान में कहा है कि बच्चों को भारत का राष्ट्रगान तो याद है ही नहीं । वह याद करवाने की जगह पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान किस लिए याद करवाया जा रहा है ।
इनका बहाना है कि हम लोग जनरल नॉलेज पढ़ा रहे हैं जबकि जनरल नॉलेज पढ़ाना है तो पहले अपने देश के राष्ट्रगान को याद करवाइए । उसके बाद राष्ट्रगीत भी याद करवाइए और फिर जनरल नॉलेज के हिसाब से याद करवाना है तो अपने जो मित्र देश हैं उनके राष्ट्रगान को याद करवाइए ।
पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान याद करवाने का मतलब क्या है ? ऐसा प्रतीत होता है कि यह लोग पाकिस्तान के एजेंट के रूप में यहां पर काम कर रहे हैं । इन लोगों को कड़ी से कड़ी सजा दिए जाने की आवश्यकता है ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *