ड्रेस, कॉपी किताबों के संबंध में नहीं चलेगी स्कूलों की मनमानी

विजय सिंह राजपूत/ इंदौर/ इंदौर जिले में ड्रेस, कॉपी-किताबों के संबंध में अब कुछ निजी स्कूलों की मनमानी नहीं चलेगी। इस बारे में एकाधिकार को समाप्त करने के लिये दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अंतर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये गये हैं। इस आदेश का उल्लंघन करने पर प्राचार्य, निदेशक के साथ ही स्कूलों के प्रबंधक और बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के सभी सदस्यों को दोषी मानकर कार्रवाई की जायेगी। अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी सुधीर कुमार कोचर के अनुसार स्कूल संचालक स्कूल में संचालित प्रत्येक कक्षा के लिये अनिवार्य पुस्तकों की सूची अपने स्कूल की वेबसाइट पर अनिवार्य रूप से अपलोड करेंगे। स्कूल परिसर में भी यह सूची चस्पा करेंगे। जिन स्कूलों की अपनी कोई वेबसाइट नहीं है वे पुस्तकों की सूची स्कूल परिसर में चस्पा करते हुये उसकी एक सूची प्रवेशित छात्र-छात्रा के अभिभावकों को नया शिक्षण सत्र प्रारंभ होने के पूर्व उपलब्ध करायेंगे। स्कूल संचालक किसी भी विद्यार्थी एवं उनके अभिभावकों ...

Read More

क्या अम्बेडकरनगर नगर में भी स्कूलों प्रबन्धन की मनमानी पर लग सकेगा नियंत्रण?

कान्वेण्ट स्कूलों के प्रबन्धतंत्र होशियार! शोषण के विरूद्ध अभिभावक जा सकते हैं अदालत अम्बेडकरनगर। दिनों-दिन बढ़ती महंगाई, प्राकृतिक आपदाओं से त्रस्त आम आदमी, साथ ही अनेकानेक समस्याओं से घिरा हर आम-खास ऐसे में कुकुरमुत्तों की मानिन्द फैले निजी कान्वेण्ट स्कूलों के प्रबन्धतन्त्रों द्वारा हर सत्र में बढ़ाई जा रही फीस, बदले जा रहे ड्रेस और किताबों से अभिभावकों की डगमगाती अर्थव्यवस्था। कहाँ से आये पैसे, कैसे पढ़ाये जाएँ नौनिहाल... आदि चिन्ताओं से घिरा अभिभावक। ऐसे हालात मात्र यहीं नहीं हैं अपितु इसका संक्रमण देश के हर प्रान्त एवं जनपदों में है, जहाँ हिन्दी, इंग्लिश मीडियम स्कूलों द्वारा मनमानी करके प्रतिमाह फीस वसूली जाती है, और हर सत्र में ड्रेस व किताबें बदलकर अप्रत्याशित ढंग से फीस भी बढ़ाई जाती है, जिससे अभिभावकों का मानसिक संतुलन बिगड़ने के साथ-साथ महंगाई के बोझ तले दबकर उनकी कमर टूटने लगी है। ऐसा इसलिए होता है कि इसमें अच्छी कमीशनखोरी का सुअवसर मिलता है, जिसके चलते ...

Read More

अमेरिका के ओरेगॉन का रहस्यमयी श्रीयंत्र

सुरेश चिपलुनकर इडाहो एयर नेशनल गार्ड का पायलट बिल मिलर 10 अगस्त 1990 को अपनी नियमित प्रशिक्षण उड़ान पर था. अचानक उसने ओरेगॉन प्रांत की एक सूखी हुई झील की रेत पर कोई विचित्र आकृति देखी. यह आकृति लगभग चौथाई मील लंबी-चौड़ी और सतह में लगभग तीन इंच गहरे धंसी हुई थी. बिल मिलर चौंका, क्योंकि लगभग तीस मिनट पहले ही उसने इस मार्ग से उड़ान भरी थी तब उसे ऐसी कोई आकृति नहीं दिखाई दी थी. उसके अलावा कई अन्य पायलट भी इसी मार्ग से लगातार उड़ान भरते थे, उन्होंने भी कभी इस विशाल आकृति   के निर्माण की प्रक्रिया अथवा इसे बनाने वालों को कभी नहीं देखा था. आकृति का आकार इतना बड़ा था, कि ऐसा संभव ही नहीं कि पायलटों की निगाह से चूक जाए. सेना में लेफ्टिनेंट पद पर कार्यरत बिल मिलर ने तत्काल इसकी रिपोर्ट अपने उच्चाधिकारियों को दी, कि ओरेगॉन प्रांत की सिटी ऑफ बर्न्स से ...

Read More

बम-बम भोले : राहुल बाबा

बम-बम भोले : राहुल बाबा

राहुल गांधी को इस उम्र में भी क्या सूझी? केदारनाथ की यात्रा! यह उनके खेलने-खाने की उम्र है या केदार-बदरीनाथ जाने की? आज से 40—50 साल पहले जो भी इन तीर्थों पर जाता था, वह यह मानकर चलता था कि वहां से लौटे तो अच्छा और न लौट पाएं तो और भी अच्छा! क्यों और भी अच्छा? इसलिए कि वहां से वे सीधे स्वर्ग सिधारेंगे। लेकिन अब यह दूसरा विकल्प खत्म सा हो गया है, क्योंकि इन तीर्थों की यात्रा काफी सरल और सुरक्षित हो गई है। इन तीर्थों से सीधे स्वर्ग पहुंचने की बात भी कोरा अंधविश्वास ही है। ये तीर्थ तो स्वयं स्वर्ग है। साक्षात स्वर्ग की तरह सुंदर है। यदि राहुलजी इस सौन्दर्य पान के लिए केदार गए हैं तो सारा देश उनकी पीठ ठोकेगा, क्योंकि बेरहम कांग्रेसियों ने उन्हें एक दिन भी चैन नहीं लेने दिया। वे 56 दिन की साधना और मौन व्रत के बाद ...

Read More

गजेंद्र की मौत पर मगर के आंसू

गजेंद्र की मौत पर मगर के आंसू

आम आदमी पार्टी की रैली के दौरान गजेंद्र सिंह की मौत से सारा देश स्तब्ध रह गया। हजारों किसानों की मौत वैसी खबर नहीं बना पाई, जैसी कि यह बन गई। यदि गजेंद्र सिंह वाला हादसा नहीं होता तो शायद ‘आप’ की उस रैली को उतना महत्व भी नहीं मिलता, जितना कांग्रेस की रैली को मिला था। ‘आप’ की रैली किसानों की कम, शहरियों की ज्यादा थी लेकिन गजेंद्र ने उस रैली पर सारे देश का ध्यान टिका दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री राजनाथ सिंह से लेकर राहुल गांधी और सीताराम येचुरी ने भी आंसू बहाने में कोई कोताही नहीं की। गजेंद्र ने प्राणांत के पहले जो पर्ची लिखी और पेड़ पर से नीचे फेंकी, उसमें यह नहीं लिखा कि वह आत्महत्या कर रहा है। हां, उसने यह जरूर लिखा कि उसके पिता ने उसे घर से निकाल दिया है। उसकी खेती उजड़ गई है। उसके तीन बच्चे हैं। अब ...

Read More


ड्रेस, कॉपी किताबों के संबंध में नहीं चलेगी स्कूलों की मनमानी

विजय सिंह राजपूत/ इंदौर/ इंदौर जिले में ड्रेस, कॉपी-किताबों के संबंध में अब कुछ निजी स्कूलों की मनमानी नहीं चलेगी। इस बारे में एकाधिकार को समाप्त करने के लिये दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अंतर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये गये हैं। इस आदेश का उल्लंघन करने पर प्राचार्य, निदेशक के साथ ही स्कूलों के प्रबंधक और बोर्ड ऑफ

» Read more

क्या अम्बेडकरनगर नगर में भी स्कूलों प्रबन्धन की मनमानी पर लग सकेगा नियंत्रण?

कान्वेण्ट स्कूलों के प्रबन्धतंत्र होशियार! शोषण के विरूद्ध अभिभावक जा सकते हैं अदालत अम्बेडकरनगर। दिनों-दिन बढ़ती महंगाई, प्राकृतिक आपदाओं से त्रस्त आम आदमी, साथ ही अनेकानेक समस्याओं से घिरा हर आम-खास ऐसे में कुकुरमुत्तों की मानिन्द फैले निजी कान्वेण्ट स्कूलों के प्रबन्धतन्त्रों द्वारा हर सत्र में बढ़ाई जा रही फीस, बदले जा रहे ड्रेस और किताबों से अभिभावकों की डगमगाती

» Read more

अमेरिका के ओरेगॉन का रहस्यमयी श्रीयंत्र

सुरेश चिपलुनकर इडाहो एयर नेशनल गार्ड का पायलट बिल मिलर 10 अगस्त 1990 को अपनी नियमित प्रशिक्षण उड़ान पर था. अचानक उसने ओरेगॉन प्रांत की एक सूखी हुई झील की रेत पर कोई विचित्र आकृति देखी. यह आकृति लगभग चौथाई मील लंबी-चौड़ी और सतह में लगभग तीन इंच गहरे धंसी हुई थी. बिल मिलर चौंका, क्योंकि लगभग तीस मिनट पहले

» Read more

बम-बम भोले : राहुल बाबा

राहुल गांधी को इस उम्र में भी क्या सूझी? केदारनाथ की यात्रा! यह उनके खेलने-खाने की उम्र है या केदार-बदरीनाथ जाने की? आज से 40—50 साल पहले जो भी इन तीर्थों पर जाता था, वह यह मानकर चलता था कि वहां से लौटे तो अच्छा और न लौट पाएं तो और भी अच्छा! क्यों और भी अच्छा? इसलिए कि वहां

» Read more

गजेंद्र की मौत पर मगर के आंसू

आम आदमी पार्टी की रैली के दौरान गजेंद्र सिंह की मौत से सारा देश स्तब्ध रह गया। हजारों किसानों की मौत वैसी खबर नहीं बना पाई, जैसी कि यह बन गई। यदि गजेंद्र सिंह वाला हादसा नहीं होता तो शायद ‘आप’ की उस रैली को उतना महत्व भी नहीं मिलता, जितना कांग्रेस की रैली को मिला था। ‘आप’ की रैली

» Read more

भूकम्प शांति हेतु यज्ञ

     नई दिल्ली। अप्रेल 26, 2015। विहिप की प्रेरणा से आज दक्षिणी दिल्ली के आर्य समाज मंदिर संत नगर में दो दिनों से लगातार आ रहे भूकम्प की शांति हेतु यज्ञ का आयोजन किया गया। यज्ञ के उपरान्त शान्ति प्रार्थना करते हुए विहिप दिल्ली के प्रवक्ता श्री विनोद बंसल ने कहा कि नेपाल सहित भारत के अनेक राज्यों में

» Read more
1 2 3 576