जमाना नही मानव की सोच बदली है

जमाना नही मानव की सोच बदली है

मनुष्य को नही ज्ञात कि उच्च शिखर पर पहुंचने में दृढ़ संकल्प व प्रबल इच्छाशक्ति की आवश्यकता होती है। इसके लिए मानवीय मूल्य और नैतिक सिद्घांत हमारी जीवन नैया की पतवार बनते हैं-साहस और लक्ष्य के प्रति निष्ठा हमारे नाविक बनते हैं। पहाड़ों से नदियों का निकलना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है, लेकिन लगातार बहती इस धार के विपरीत बहने वाले ही  इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में अपना नाम अंकित करवाते हैं। समाज के साथ न बहने वाले, समाज को नई सोच, नया दर्शन, नई गति, नई ऊर्जा और नई दिशा देने वाले ही ऐतिहासिक पुरोधा बनते हैं। मानव अक्सर अपनी कमजोरियों को यह कहकर ढांपने की कोशिश करता है कि जमाना बदल गया है किंतु वास्तविकता यह है कि जमाना नही बदला है, मानव की सोच बदल गयी है, उसका चिंतन दूषित हो गया है, उसकी मन: स्थिति में आमूल चूल परिवर्तन हो गया है। अन्यथा तो वही दिन है, वही रातें हैं, वही घडिय़ां और पल हैं। सूरज वही, चांद वही, धरती वही और ऋतुएं वही हैं। किंतु यह मानव वही नही है जिसके लिए वेद ने आदर्श उपस्थित किया था कि तू मानव ही बने रहना, ...

Read More

क्या आपने भी देखा गूगल का नया लोगो

गूगल का पिछले लोगो को तो सब अच्छी तरह जानते है और पहचानते भी है। लेकिन क्या आपने ध्यान दिया की गूगल ने इस महीने की पहली तारीख को अपना लोगो चेंज किया है। इसका नया रूप बहुत ही आकर्षित है. यह गूगल के लाभार्थियों को बहुत लुभाने वाला है । इसमे गूगल ने वॉइस कंट्रोल के लोगो को भी नया रूप दिया है। इसका नया design देखकर आपकी क्या राय है। अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें। यह है वो नया logo जो गूगल ने अभी update किया है। ये हैं गूगल के अब तक के logo

Read More

कहर बरसा था दिल्ली में उन दिनों

प्रस्तुति रोहताश सिंह आर्य- बादशाह बहादुर शाह जफर के कैद हो जाने के बाद अंग्रेजों के जासूसों ने खबर दी कि बादशाह के बेटे हुमायूं के मकबरे में ही छिपे हुए हैं और इन लोगों ने भी बगावत के दौरान अंग्रेजों का कत्ल करने में हिस्सा लिया था। अंग्रेज अधिकारी हडसन यह खबर पाकर झूम उठा। उसने जनरल विल्सन से बादशाह के बेटों को गिरफ्तार करने की इजाजत ली और निकल पड़ा।  उसके साथ सौ के करीब घुड़सवार सैनिक थे। दिल्ली पर कंपनी का पूरी तरह  नियंत्रण हो गया था। जासूस मुंशी रज्जबअली और मिर्जा इलाहीबख्श भी उसके साथ थे। तीनों शहजादे मिर्जा मुगल, खिजर सुलतान और मिर्जा अबूबकर मकबरे के भीतर ही मौजूदद थे। हडसन बाहर की रूक गया और उसने शहजादों को आत्मसमर्पण करने का संदेश भिजवाया। शहजादों ने शर्त रखी कि अगर उनकी जान बख्श दी जाए तो वे बिना लड़े आत्मसमर्पण करने को तैयार है। इस पर हडसन ने अपनी असमर्थता जताई और कहा कि इसका अधिकार मात्र जनरल विल्सन को ही है। शहजादों की समझ में कुछ नही आ रहा था। कुछेक लोगों ने सलाह दी कि उन्हें तैमूरी खानदान की इज्जत की लाज रखते हुए ...

Read More

‘वन रैंक-वन पैंशन’ की मांग

‘वन रैंक-वन पैंशन’ की मांग

हम शांति पाठ करते समय ‘ओ३म् द्यौ: शांतिरंतरिक्षं शांति : पृथिवी:....’ के मंत्र से द्यौलोक से लेकर पृथ्वी तक और जलादि प्राकृतिक पदार्थों से लेकर वनस्पति जगत तक में शांति शांति भासने का वर्णन करते हैं, और अंत में इन सबमें व्याप्त इस शांति के लिए प्रार्थना करते हैं कि यही शांति मुझे भी प्राप्त कराइये। क्योंकि शांति और प्रगति का अन्योन्याश्रित संबंध है, जहां शांति है वहीं प्रगति है। जहां शांति नही वहां प्रगति नही। मनुष्य सृष्टि प्रारंभ से ही शांति की खोज में रहा है। क्योंकि उसका अभीष्ट परमशांति (मोक्ष) को प्राप्त करना है, इसलिए वह चाहता है कि सर्वत्र व्याप्त शांति की भावना का वास उसके अंत:करण में हो जाए। संसार के क्लेशों के कारण उसके हृदय में आया कलुष भाव मिटे और वह शांत निभ्र्रांत होकर अपने अभीष्ट की साधना में मग्न रहे। शांति की खोज में लगे मानव समाज को कुछ कालोपरांत उसी के मध्य से निकले लोगों ने अपने उपद्रवों और उत्पातों से दुखी करना आरंभ कर दिया तो राज्य की उत्पत्ति का प्रश्न सामने आया। राज्य की उत्पत्ति होने पर राज्य ने अपनी प्रजा की सुखशांति को अपना राजधर्म घोषित किया, अर्थात ...

Read More

परिकर की टिप्पणी स्वागतयोग्य

परिकर की टिप्पणी स्वागतयोग्य

भारत भूमि वीरों की भूमि है। 1947 में आजादी मिलने के बाद भी इस देश के रणबांकुरों ने जब-जब दुश्मन ने चुनौती दी तब-तब उसे धूल चटाने में अपनी अप्रतिम वीरता का परिचय दिया। अब से पचास वर्ष पूर्व 1965 में पाकिस्तान को धूल चटाने वाले भारत के वीर जवान ही थे और 1971 में भारत-पाक युद्घ के समय पाकिस्तान की तिरानवे हजार सेना को आत्मसमर्पण के लिए विवश कर देने वाले जवान भी भारतीय ही थे। 1965 का युद्घ इसलिए और भी अधिक महत्वपूर्ण था कि 1962 में राजनीतिक नेतृत्व के कारण भारत की सेना को निशस्त्र होने के बावजूद इस युद्घ में सफलता मिली थी। अब रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर ने ठीक ही कहा है कि 1965 की लड़ाई के नायकों एवं प्रमुख घटनाओं के बारे में स्कूली पाठ्यक्रम में पढ़ाया जाना चाहिए। नई पीढ़ी को यह बताए जाने की जरूरत है कि किस प्रकार हमारे जवानों ने देश की रक्षा की खातिर अपनी जान कुर्बान की। इस मौके पर पार्रिकर ने पाकिस्तान को भी चेताया कि भारतीय सेनाएं उसे उसी की भाषा में जवाब देने में सक्षम हैं। हम पार्रिकर की इस बात से भी ...

Read More


जमाना नही मानव की सोच बदली है

मनुष्य को नही ज्ञात कि उच्च शिखर पर पहुंचने में दृढ़ संकल्प व प्रबल इच्छाशक्ति की आवश्यकता होती है। इसके लिए मानवीय मूल्य और नैतिक सिद्घांत हमारी जीवन नैया की पतवार बनते हैं-साहस और लक्ष्य के प्रति निष्ठा हमारे नाविक बनते हैं। पहाड़ों से नदियों का निकलना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है, लेकिन लगातार बहती इस धार के विपरीत बहने वाले

» Read more

मोदी हैं हुशियार -एक तीर से कई शिकार

हरिहर शर्मा सरकार की नीतिगत घोषणाएं सीधे जनता के बीच करने की अनोखी पहल प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने की है। कल 11 वीं बार जनता से मन की बात करते हुए उन्होंने यह घोषणा की कि विवादास्पद भूमि अधिग्रहण को अब दोबारा नहीं लाया जायेगा। स्मरणीय है कि उक्त अध्यादेश की अवधि 31 अगस्त को पूरी हो रही है।

» Read more

आय बढऩे से ही मिटेगी देश की गरीबी

डॉ. भरत झुनझुनवाला केन्द्रीय आवास एवं शहरी, गरीबी उन्मूलन मंत्रालय ने गरीबों के लिये मकान बनाने को राज्य सरकारों से आग्रह किया है। मंत्रालय ने तीस लाख घर प्रति वर्ष बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इस योजना को राज्य सरकारों के माध्यम से लागू किया जायेगा। योजना के अंतर्गत गरीब परिवारों को ब्याज पर 6.5 प्रतिशत की सब्सिडी दी

» Read more

अब नामों पर भी तुष्टीकरण की राजनीति का खेल

मृत्युंजय दीक्षित भारतीय राजनीति वाकई में बहुत ही कलरफुल हो गयी है। इस देश में अब ऐसा कोई भी मुददा नही बच रहा है जोकि तुष्टीकरण की राजनीति की भेंट न चढ जाये। नई दिल्ली नगर महापालिका ने औरंगजेब रोड का नाम पूर्व राष्ट्रपति  भारतरत्न स्व. डा. ए पी जे अब्दुल कलाम क्या रख दिया इस पर भी मुयिलम तुश्अीकरण

» Read more

क्या आपने भी देखा गूगल का नया लोगो

गूगल का पिछले लोगो को तो सब अच्छी तरह जानते है और पहचानते भी है। लेकिन क्या आपने ध्यान दिया की गूगल ने इस महीने की पहली तारीख को अपना लोगो चेंज किया है। इसका नया रूप बहुत ही आकर्षित है. यह गूगल के लाभार्थियों को बहुत लुभाने वाला है । इसमे गूगल ने वॉइस कंट्रोल के लोगो को भी नया

» Read more
1 2 3 708