मांझी सरकार के रिपोर्ट कार्ड में उपलब्धियाँ कम वादे ज्यादा

ब्रज किशोर सिंह मित्रों,जैसा कि नाम से ही जाहिर होता है कि रिपोर्ट कार्ड में सरकार की उपलब्धियाँ होनी चाहिए,सरकार द्वारा किए गए कार्यों का जिक्र होना चाहिए लेकिन बिहार की मांझी सरकार की वार्षिक रिपोर्ट को देखकर यह दुःखद आश्चर्य हुआ कि रिपोर्ट कार्ड में रिपोर्ट थी ही नहीं बल्कि थी तो सिर्फ वादों की भरमाऱ। नौ साल से बिहार पर राज कर रही जदयू सरकार ने एक बार फिर से राज्य के लोगों के साथ प्रति वर्ष एक के हिसाब से 9 वादे कर दिए कि हम सभी किसानों को छह माह में बिजली कनेक्शन देंगे, धान के क्रय पर प्रति क्विंटल 300 रुपये बोनस देंगे, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक व दिल्ली की तर्ज पर 70 हजार सिपाही-हवलदारों को 13 महीने का वेतन देंगे, एससी-एसटी आवासीय विद्यालयों में आवासन क्षमता 20 हजार से बढ़ाकर अब एक लाख करेंगे, एक लाख से अधिक आबादी के शहरों में एक यातायात थाना खोलेंगे, दो लाख से अधिक की आबादी के लिए डीएसपी कार्यालय की स्थापना करेंगे, बिहार उर्दू अकादमी को एक करोड़ के अनुदान को बढ़ाकर तीन करोड़ करेंगे, पर्यावरण की चिंता करेंगे व मुंगेर में वानिकी महाविद्यालय खोलेंगे, अफसरों और कर्मचारियों के प्रशिक्षण की नयी व्यवस्था शुरू करेंगे। वहीं सरकार ने अपनी उपलब्धियों में जाति,आय एवं आवास प्रमाण-पत्र के लिए तत्काल सेवा आरंभ करने के काम को सबसे ऊपर रखा है। बिहार ...

Read More

दक्षेस: नेपाल की अति सक्रियता

दक्षेस का शिखर सम्मेलन आज-कल नेपाल की राजधानी काठमांडो में हो रहा है। जब पिछला सम्मेलन 12 साल पहले हुआ था, तब नेपाल की राजनीतिक दशा बहुत ही विषम थी। राज-परिवार का नर-संहार हो गया था। नए नरेश के विरुद्ध बगावत चल रही थी। सत्तारुढ़ सरकारें अस्थिर थीं। माओवादियों ने युद्ध छेड़ रखा था। जैसे-तैसे वह सम्मेलन संपन्न हो गया लेकिन इस बार नेपाल अति सक्रिय है। यह सम्मेलन काफी गाजे-बाजे के साथ हो रहा है। इसमें अफगानिस्तान की नई सरकार के नेता भी आ रहे हैं। नेपाल की अति सक्रियता के दो उदाहरण हमारे सामने हैं। पहला, भारत-पाक वार्ता कराने का प्रयत्न और दूसरा चीन को दक्षेस का सदस्य बनाने की कोशिश! जहां तक नरेंद्र मोदी और नवाज़ शरीफ की भेंट करवाने का प्रश्न है, नेपाल का उत्साह सराहनीय है लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि दोनों देशों के नेता अपनी-अपनी सरकार के अविवेक पर पछता रहे हैं। हुर्रियत के बहाने विदेश सचिवों की वार्ता भंग करने वाली हमारी सरकार और कश्मीर पर अनाप-शनाप शोर मचाने वाली पाकिस्तानी सरकार को अब समझ में आ रहा है कि उन्होंने जो रास्ता पकड़ा है, वह उन्हें किसी अंधी सुरंग में ही ले जाएगा। यदि नेपाल की मध्यस्थता से दोनों देशों में बात हो जाए तो दक्षिण एशिया की कूटनीति में नेपाल का कद ऊँचा हुए बिना नहीं रहेगा। लेकिन अपना कद ऊंचा ...

Read More

टीचर-स्टूडेंट नहीं गुरु-शिष्य का संबंध जरूरी

बच्चों और शिक्षकों, शिक्षकों और अभिभावकों तथा समाज के मध्य अन्तर्सम्बंधों के मामले में अब पुराने सारे पैमाने बदल गए हैं। शिक्षा और समुदाय के मध्य स्थापित परंपरागत अनुपात और समीकरण भी गड़बड़ा गए हैं। एक वो जमाना था जब गुरु और शिष्य दोनों ही बनना बड़ा ही कठिन था और गुरुत्व स्थापित करने तथा शिष्य होने की पात्रता पैदा करने के लिए बहुत कुछ करना पड़ता था तब जाकर गुरु और शिष्य के संबंध बनते थे और वे संबंध भी कोई सामान्य नहीं हुआ करते थे बल्कि गुरु की सेवा या शरण में जो भी शिष्यत्व की पात्रता पा गया वह शिक्षा-दीक्षा पूरी होने के बाद पूर्णता भरे व्यक्तित्व की अलौकिक प्रतिभा के साथ ही समाज और संसार के सामने आता था। यह किसी भी शिष्य के लिए वह दूसरा जन्म होता था जो समुदाय और दुनिया के लिए समर्पित होने की भावना के साथ आरंभ होता था। उस काल में गुरु निष्काम भाव से अपने शिष्य को दीक्षित करता था, उसे न किसी से मोह था,न और कोई कामना। गुरु सिर्फ अपनी परंपरा के दायित्व को पूरा करने की भावना से अध्यापन करवाते थे और उनका एक ही परम ध्येय होता था कि ज्ञान श्रृंखला का यह प्रवाह सुपात्रों के माध्यम से आगे से आगे पीढ़ियों तक संवहित होता रहे। हर गुरु अपने शिष्य तक ज्ञान पहुंचाकर प्रसन्न होता था और ...

Read More

राई के दानें पर महात्मा गांधी और मदर टैरेसा के उकारें चित्र ........

राजस्थान मंडप में सूक्ष्म चित्रकारी के कलाकार जयपुर के गोपाल प्रसाद शर्मा बने आकर्षण का केंद्र घोड़े की पूंछ के बाल पर पूरी बारात और मूंछ के बाल पर भारत का नक्शे की विस्मयकारी चित्रकारी                 नई दिल्ली, 27 नवम्बर, 2014। नई दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित 34वें अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला में जयपुर, राजस्थान का एक कलाकार श्री गोपाल प्रसाद शर्मा अपनी अति सुक्ष्म चित्रांकन कला के लिए चर्चा और आकर्षण का कंेद्र बना हुआ हैं।                 कहते है कि हथेली पर राई नहीं ठहरती लेकिन श्री शर्मा ने इस कहावत को गलत सिद्ध करते हुए उसी ‘राई के छोटे से दाने पर’ अपनी तुलिका से ‘‘राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और भारत रत्न मदर टैरेसा’’ और अन्य महापुरूषों के चित्रा बनाकर सभी को आश्चर्य चकित कर दिया है।                 इसी प्रकार उन्होने ‘घोड़े की पूंछ के बाल’ पर ‘‘पूरी बारात का दृश्य’’ उकेर कर वाहवाही लूटी है और अपने ‘‘मूंछ के बाल (जो कि सुई के छेद में से निकाला जा सकता है) पर ‘‘भारत का नक्शा और इंडिया’’ लिखकर सभी को विस्मय एवं कौतूहल में डाल दिया है। उनके सुक्ष्म चित्रा लेंस से ही बेहतर ढंग से देखे जा सकते है जिन्हें देख लोगों की आंखे और नजरे विस्मय से फटी रह जाती है।                 श्री गोपाल शर्मा बताते है कि इस प्रकार की असाधारण सुक्ष्म चित्रांकन के लिए ‘‘लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड’’ में ...

Read More

सेंधा नमक के लाभ अधिक आयोडीन से होने वाले नुकसान

प्रसिद्ध वैज्ञानिक और समाज सेवी राजीव भाई दीक्षित का कहना है की समुद्री नमक तो अपने आप में  बहुत खतरनाक है लेकिन उसमे आयोडिन नमक मिलाकर उसे और जहरीला बना दिया जाता है ,आयोडिन की शरीर मे मे अधिक मात्र जाने से नपुंसकता जैसा गंभीर रोग हो जाना मामूली बात है। सैंधा नमक भारत में 10-15 रूपए प्रति किलो मिलता है और विदेशो में 3000 रूपए के करीब खरीद कर वहा के लोग खा रहे है प्रकृतिक नमक हमारे शरीर के लिये बहुत जरूरी है। इसके बावजूद हम सब घटिया किस्म का आयोडिन मिला हुआ समुद्री नमक खाते है। यह शायद आश्चर्यजनक लगे , पर यह एक हकीकत है । नमक विशेषज्ञ एन के भारद्वाज का कहना है कि भारत मे अधिकांश लोग समुद्र से बना नमक खाते है जो की शरीर के लिए हानिकारक और जहर के समान है ।उत्तम प्रकार का नमक सेंधा नमक है, जो पहाडी नमक है । प्रख्यात वैद्य मुकेश पानेरी कहते है कि आयुर्वेद की बहुत सी दवाईयों मे सेंधा नमक का उपयोग होता है।आम तौर से उपयोग मे लाये जाने वाले समुद्री नमक से उच्च रक्तचाप ,डाइबिटीज़,लकवा आदि गंभीर बीमारियो का भय रहता है । इसके विपरीत सेंधा नमक के उपयोग से रक्तचाप पर नियन्त्रण रहता है । इसकी शुद्धता के कारण ही इसका उपयोग व्रत के भोजन मे होता है ।  ऐतिहासिक रूप से पूरे उत्तर ...

Read More



मांझी सरकार के रिपोर्ट कार्ड में उपलब्धियाँ कम वादे ज्यादा

ब्रज किशोर सिंह मित्रों,जैसा कि नाम से ही जाहिर होता है कि रिपोर्ट कार्ड में सरकार की उपलब्धियाँ होनी चाहिए,सरकार द्वारा किए गए कार्यों का जिक्र होना चाहिए लेकिन बिहार की मांझी सरकार की वार्षिक रिपोर्ट को देखकर यह दुःखद आश्चर्य हुआ कि रिपोर्ट कार्ड में रिपोर्ट थी ही नहीं बल्कि थी तो सिर्फ वादों की भरमाऱ। नौ साल से

» Read more

दक्षेस: नेपाल की अति सक्रियता

दक्षेस का शिखर सम्मेलन आज-कल नेपाल की राजधानी काठमांडो में हो रहा है। जब पिछला सम्मेलन 12 साल पहले हुआ था, तब नेपाल की राजनीतिक दशा बहुत ही विषम थी। राज-परिवार का नर-संहार हो गया था। नए नरेश के विरुद्ध बगावत चल रही थी। सत्तारुढ़ सरकारें अस्थिर थीं। माओवादियों ने युद्ध छेड़ रखा था। जैसे-तैसे वह सम्मेलन संपन्न हो गया

» Read more

टीचर-स्टूडेंट नहीं गुरु-शिष्य का संबंध जरूरी

बच्चों और शिक्षकों, शिक्षकों और अभिभावकों तथा समाज के मध्य अन्तर्सम्बंधों के मामले में अब पुराने सारे पैमाने बदल गए हैं। शिक्षा और समुदाय के मध्य स्थापित परंपरागत अनुपात और समीकरण भी गड़बड़ा गए हैं। एक वो जमाना था जब गुरु और शिष्य दोनों ही बनना बड़ा ही कठिन था और गुरुत्व स्थापित करने तथा शिष्य होने की पात्रता पैदा

» Read more

‘’आदिशिल्प’’ का उद्घाटन

जनजातीय कला एवं हस्तशिल्प मेला आदिशिल्प का जुएल ओराम ने किया उदघाटन             केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्री श्री जुएल ओराम ने आज यहां जनजातीय कला एवं हस्तशिल्प मेला ‘’आदिशिल्प’’ का उदघाटन किया। इस अवसर पर उन्‍होंने कहा कि हमारे जनजातीय शिल्‍पी बहुत सुंदर चीजें बनाते है। उनके उत्‍पादों को बाजार उपलब्‍ध कराने की दिशा में इस तरह के मेलों का

» Read more

राई के दानें पर महात्मा गांधी और मदर टैरेसा के उकारें चित्र ……..

राजस्थान मंडप में सूक्ष्म चित्रकारी के कलाकार जयपुर के गोपाल प्रसाद शर्मा बने आकर्षण का केंद्र घोड़े की पूंछ के बाल पर पूरी बारात और मूंछ के बाल पर भारत का नक्शे की विस्मयकारी चित्रकारी                 नई दिल्ली, 27 नवम्बर, 2014। नई दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित 34वें अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला में जयपुर, राजस्थान का एक कलाकार श्री गोपाल

» Read more

सेंधा नमक के लाभ अधिक आयोडीन से होने वाले नुकसान

प्रसिद्ध वैज्ञानिक और समाज सेवी राजीव भाई दीक्षित का कहना है की समुद्री नमक तो अपने आप में  बहुत खतरनाक है लेकिन उसमे आयोडिन नमक मिलाकर उसे और जहरीला बना दिया जाता है ,आयोडिन की शरीर मे मे अधिक मात्र जाने से नपुंसकता जैसा गंभीर रोग हो जाना मामूली बात है। सैंधा नमक भारत में 10-15 रूपए प्रति किलो मिलता

» Read more
1 2 3 465