अपनी कोख में पलती अम्मा

अग्नि कोख में पलती अम्मा
़ संजय पंकज

 

चूल्हा हो या हो घर आँगन
सब में खटती जलती अम्मा !
धूप संग दिन रात उसी के
जिसमें जलती गलती अम्मा !

खुली देहरी हवा बाहरी
जब भी घर के प्रतिकूल गई
असमय देख पसीने माथे
अम्मा अपना दुख भूल गई

बिस्तर से बिस्तर तक पहुँची
तब तक केवल चलती अम्मा !

कभी द्वार से लौट न पाए
कोई भी अपने – बेगाने
घर भर में हिम बोती है जो
उसके हिस्से झिड़की ताने

गोमुख की गंगा होकर भी
अग्नि-कोख में पलती अम्मा !

कैसी भी हो विपदा चाहे
उम्मीद दुआओं की उसको
बिना थके ही बहते रहना
सौगंध हवाओं की उसको

चंदा-सा उगने से पहले
सूरज जैसी ढलती अम्मा !

पीर-पादरी-पंडित-मुल्ला
मंदिर-मस्जिद औ’ गुरुद्वारे
हाथ उठाए आँचल फैला
माँग रही क्या साँझ-सकारे

वृक्ष-नदी-गिरि शीश झुकाती
जितना झुकती फलती अम्मा !

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *