ये आखरी मौका …

#* *ये आखरी मौका**#

बंद है आंखें निरंतर अश्रु की
धारा बहती चली जा रही हो —-

खोल आंखें देख अपने ही
हाथों से इस धरा को
कितनी क्षति कर रहे हो —–
विकास के नाम______?
पहाड़ों को ———;
नदियों को——-;
जंगलों को ———;
नुकसान पर नुकसान
करते चले जा रहे हो ——

रोक लो इस होड़ को मान
लो मेरी बातें,
नुकसान अपना ही ज्यादा
कर रहे हो ———-

इस पर्यावरण को बचाना हो

प्रण करो अपने आप से
जब- जब खुशी हो ——-

एक पेड़ जरूर इस धरातल
पर लगा हो ——-
दूसरे को भी प्रेरित कर
पेड़ लगाने हो——–

इस सूनी- सूनी राहों का हम
सब को ही उपाय करना हो ——-
ये आखरी मौका है इस धरती
को बचाना हो ——–

पेड़ लगा उसकी
सेवा करना
पेड़ लगाकर उसकी
सेवा करना
🌳🌳🌳🌳


प्रमोद खीरवाल
#टाटानगर#
🕶️🙏🕶️

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *