काशी, मथुरा के हिन्दू धार्मिक स्थलों के लिए हमारी सांस्कृतिक लड़ाई जारी ही रहेगी ! *- अधिवक्ता मदन मोहन यादव

विशेष संवाद : ‘ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वेक्षण : न्यायालय का आदेश सर्वोच्च
कि मुस्लिम भीडतंत्र ?’*

न्यायालय के आदेशानुसार वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वेक्षण का वहां के मुसलमानों ने विरोध करते हुए आयुक्त और अधिवक्ताओं को मस्जिद में प्रवेश नहीं करने दिया । यह इनकी दुष्टता और दुस्साहस है । वे बार बार न्यायालय की अवहेलना कर रहे हैं । स्वयं को न्यायालय की अपेक्षा बडा मान रहे हैं । मुसलमानों की प्रत्येक मांग देश में स्वीकार की गई । न्यायालय के निर्णयानुसार अयोध्या का राम मंदिर यद्यपि हमने प्राप्त कर लिया है, तथापि काशी,मथुरा के हिन्दू धार्मिक स्थलों के लिए हमारी सांस्कृतिक लड़ाई जारी ही रहेगी, ऐसा स्पष्ट प्रतिपादन *वाराणसी स्थित जिला न्यायालय के अधिवक्ता मदन मोहन यादव ने किया ।* हिन्दू जनजागृति समिति द्वारा आयोजित *’ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वेक्षण: न्यायालय का आदेश सर्वोच्च कि **मुस्लिम* *भीड़तंत्र **?’* इस ऑनलाइन विशेष संवाद में वे बोल रहे थे ।
इस समय *’काशी ज्ञानवापी अभिमुक्त न्यास’ के अध्यक्ष पंडित हरिहर पांडेय ने कहा कि**,* ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वेक्षण को मुसलमान घबरा क्यों रहे हैं ? वहां हमारा शिवलिंग है और देवताओं की प्रतिमाएं हैं, यह सत्य सामने आने का भय है
क्या ? यदि वह सत्य है, तो सर्वेक्षण होने देना चाहिए !न्यायालय का निर्णय अंतिम और सर्वमान्य होता है; परंतु उन्होंने यह स्वीकार नहीं किया । धर्मांधों की भीड का यहां कुछ चलने नहीं दिया जाएगा । काशी का मंदिर हमारा ही था और हम
उसे अवश्य प्राप्त करेंगे ।

*हिन्दू जनजागृति समिति के उत्तर प्रदेश और बिहार राज्य समन्वयक श्री. **विश्‍वनाथ
कुलकर्णी ने कहा कि*, ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वेक्षण मुसलमानों द्वारा रोके
जाने के उपरांत तथाकथित धर्मनिरपेक्षतावादी अब मौन हैं । अब वे यह नहीं कहेंगे
कि, देश का संविधान और कानून संकट में है । मुसलमानों के भीड़तंत्र का यदि ऐसा
ही वर्चस्व बना रहा, तो लोगों का न्यायतंत्र पर से विश्वास उठ जाएगा । जिस
प्रकार उत्तर प्रदेश में दंगाखोरों के अवैध अतिक्रमण पर योगी सरकार ने बुलडोजर
चलाकर उन्हें सबक सिखाया, उसी प्रकार इस भीड़तंत्र को सबक सिखाना चाहिए । इस
समय *विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री**. विनोद बंसल ने कहा कि*,
ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वेक्षण क्यों रोका जा रहा है ? इस मस्जिद में ऐसा क्या
है, जो छिपाया जा रहा है ? सबके सामने सत्य आना आवश्यक है । जिन्होंने इस
मस्जिद का सर्वेक्षण रोका, उनपर न्यायालय का अपमान करने के प्रकरण में
कार्यवाही की जाए ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *