पश्चिम बंगाल और केरल में है हिंदुओं के अस्तित्व को गहरा संकट

 

पश्चिम बंगाल और केरल भारत के दो ऐसे राज्य है जहां वामपंथ का पिछले 60 वर्षों से वर्चस्व रहा है। यहां पहले ईसाई मिशनरियों के चलते हिन्दू आबादी में बढ़े पैमाने पर सेंधमारी हुई जिसके बाद मुस्लिम-वामपंथी गठजोड़ ने राज्य में हिन्दुओं के अस्तित्व को संकट में डाल दिया। हिन्दू संगठन और धार्मिक संस्थानों पर लगातर हमलों का इन राज्यों में लंबा इतिहास रहा है। आधुनिक भारत में इस तरह के सामाजिक परिवर्तन और राजनीतिक स्वार्थ के चलते हिन्दुओं में तनाव का बढ़ना चिंता का विषय है।

पश्चिम बंगाल में हिन्दू :
भारत में ईसाइयों की आबादी लगभग 2.78 करोड़ हो चली है, जो कि कुल जनसंख्या का 2.3 फ़ीसद है। जहां ईसाई मिशनरी सक्रिय है उन राज्यों में पश्चिम बंगाल, केरल, उड़ीसा, पूर्वोत्तर के राज्य, मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़, तमिनाडु, बिहार और झारखंड का नाम प्रमुखता से लिया जाता है। आने वाले समय में नागालैंड, मेघालय और मिजोरम की तरह और भी राज्यों में हिन्दू आबादी का विघटन होगा। जहां तक पश्‍चिम बंगाल का सवाल है यह ईसाई धर्म का अंग्रेज काल से ही केंद्र रहा है। हालांकि यह ईसाई धर्म यहां इ‍तना सफल नहीं हो पाया जितना की केरल, मिजोरम और नगालैंड में।

बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल को मिलाकर पहले हिन्दू बहुसंख्यक हुआ करता था। अब बंगाल का एक बहुत बड़ा हिस्सा बांग्लादेश बन गया है, जहां मुस्लिम बहुसंख्यक है और अब जहां हिन्दू मात्र 6 प्रतिशत बचे हैं। इधर पश्‍चिम बंगाल में मुस्लिम आबादी 2001 में 25 प्रतिशत थी, जो 2011 में बढ़कर 27 प्रतिशत हो गई। वर्तमान में भारत-बांग्लादेश के सीमावर्ती इलाकों से कट्टरपंथियों द्वारा हिन्दुओं को मार-मारकर भगाया जा रहा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बांग्लादेश की सीमा से सटे प. बंगाल, बिहार और असम के अधिकतर क्षेत्रों का राजनीतिक व सांस्कृतिक परिदृश्य बदल गया है?

40 वर्षों से अधिक वामपंथी वर्चस्व के राज्य में हिन्दुओं की आबादी कुछ क्षेत्रों में लगातार घटती गई जहां से हिन्दुओं को पलायन करने के लिए मजबूर कर दिया गया। 24 परगना, मुर्शिदाबाद, बिरभूम, मालदा आदि ऐसे कई उदाहरण सामने हैं। हालात तब ज्यादा बिगड़ने लगे हैं जबकि बांग्लादेशी और रोहिंग्या शरणार्थी भी राज्य में डेरा जमाए हुए हैं। राज्य में हिन्दू आबादी का संतुलन बिगाड़ने की साजिश लगातार जारी है। हिन्दुओं का ईसाईकरण करने से भी राज्य की आबादी का संतुलन बिगड़ा है।

2011 की जनगणना के अनुसार पश्‍चिम बंगाल में हिन्दुओं की आबादी में 1.94 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई, जो कि बहुत ज्यादा है। राष्ट्रीय स्तर पर मुसलमानों की आबादी में 0.8 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है जबकि सिर्फ बंगाल में मुसलमानों की आबादी 1.77 फीसदी की दर से बढ़ी है, जो राष्ट्रीय स्तर से भी कहीं दुगनी दर से बढ़ी है। इस आंकड़े से ही पता चलता है कि पश्‍चिम बंगाल में क्या चल रहा है? 2013 में बंगाल में हुए सुनियोजित दंगों में सैकड़ों हिंदुओं के घर और दुकानें लूटे गए। साथ ही कई मंदिरों को तोड़ दिया गया था इस पर अभी तक कोई संज्ञान नहीं लिया गया।

बंगाल के 3 जिले ऐसे हैं, जहां पर मुस्लिमों ने हिन्दुओं की जनसंख्या को फसाद और दंगे के माध्यम से पलायन के लिए मजबूर किया। वर्तमान में मुर्शिदाबाद में 47 लाख मुस्लिम और 23 लाख हिन्दू, मालदा में 20 लाख मुस्लिम और 19 लाख हिन्दू और उत्तरी दिनाजपुर में 15 लाख मुस्लिम और 14 लाख हिन्दू हैं। हिन्दू यहां कभी बहुसंख्यक हुआ करते थे। प. बंगाल के सीमावर्ती उपजिलों की बात करें तो 42 क्षेत्रों में से 3 में मुस्लिम 90 प्रतिशत से अधिक, 7 में 80-90 प्रतिशत के बीच, 11 में 70-80 प्रतिशत तक, 8 में 60-70 प्रतिशत और 13 क्षेत्रों में मुस्लिमों की जनसंख्या 50-60 प्रतिशत तक हो चुकी है।

प. बंगाल की 9.5 करोड़ की आबादी में 2.5 करोड़ से अधिक मुसलमान हैं। 1951 की जनगणना में प. बंगाल की कुल जनसंख्या 2.63 करोड़ में मुसलमानों की आबादी लगभग 50 लाख थी, जो 2011 की जनगणना में बढ़कर 2.50 करोड़ हो गई। प. बंगाल में 2011 में हिन्दुओं की 10.8 प्रतिशत दशकीय वृद्धि दर की तुलना में मुस्लिम जनसंख्या की वृद्धि दर दोगुनी यानी 21.8 प्रतिशत है।

केरल में हिन्दू :
केरल एक ऐसा राज्य है जहां देश में सबसे पहले ईसाई धर्म और बाद में मुस्लिम धर्म ने दस्तक दी। देश का पहला चर्च और पहली मस्जिद केरल में ही है। दोनों ही धर्मों के बीच हिन्दू आबादी को धर्मान्तरित करने का लक्ष्य था, जो अब तक जारी है। केरल में हिन्दू आबादी के विघटन के बाद यहा मिलिजुली संस्कृति निर्मित हो गई। इसके चलते ही इस भारतीय राज्य में वामपंथी वर्चस्व बढ़ गया। केरल को भारत का सबसे गरीब लेकिन सबसे क्षिक्षित राज्य माना जाता रहा है।

केरल में 300 वर्ष पहले तक 99 प्रतिशत हिन्दू रहते थे। वर्तमान में केरल की कुल 3.50 करोड़ आबादी का 54.7 प्रतिशत भाग ही हिन्दू हैं जबकि 26.6 फीसदी मुस्लिम और 18.4 प्रतिशत ईसाई हैं। केरल में आबादी का संतुलन खासकर ईसाई मिशनरियों ने बिगाड़ा। हिन्दुओं का धर्मांतरण कर वहां की आबादी में कट्टरपंथी मुस्लिमों और वामपंथियों को वर्चस्व की भूमिका में ला खड़ा किया। 2011 की धार्मिक जगनणना के आंकड़ों अनुसार हिन्दुओं की आबादी 16.76 प्रतिशत की दर से तो मुस्लिमों की आबादी 24.6 प्रतिशत की दर से बढ़ी। पहली बार हिन्दुओं की आबादी वहां 80 प्रतिशत से नीचे आ गई। 2001 में हिन्दू 80.5 प्रतिशत थे, जो घटकर 79.8 प्रशित रह गए जबकि मुस्लिमों की आबादी 13.4 प्रतिशत से बढ़कर 14.2 प्रतिशत हो गई।

एक छोटा-सा गुट कट्टर सुन्नी इस्लाम को मानता है जिसे सलफी मुस्लिम कहते हैं, लेकिन इसकी गतिविधि ने राज्य के अन्य धर्मों के लोगों की जिंदगी मुश्किल में डाल दी है। इस राज्य में राज्य सरकार की नीति के तहत अरब और खाड़ी देशों का दखल ज्यादा है। बाहरी दखल के चलते केरल के शांतिप्रिय मुस्लिम भी अब कट्टरता की राह पर चल पड़े हैं। वर्तमान में केरल के मल्‍लापुरम, कासरगोड, कन्‍नूर और पलक्‍कड़ ऐसे क्षेत्र हैं, जहां मुस्लिमों का जोर चलता है। यहां हिन्दू और ईसाई दबाव में रहते हैं।

आंकड़ों के मुताबिक राज्य में साल 2015 में जन्मे कुल 5,16,013 जिंदा बच्चों में से 42.87 प्रतिशत हिन्दू समुदाय से, 41.45% मुस्लिम समुदाय और ईसाई समुदाय से 15.42% थे। साल 2006 में मुसलमानों की जन्म दर 35 प्रतिशत से बढ़कर 2015 में बढ़कर 41.45 हो गई। 2006 में हिन्दू समुदाय ने 46 प्रतिशत की जन्म दर दर्ज की, जो 10 वर्षों में घटकर 42.87 प्रतिशत रह गई। ईसाई जन्म दर, जो हमेशा 20 प्रतिशत से नीचे थी, 2006 में 17 प्रतिशत से 2015 में 15.42 प्रतिशत हो गई। 9 साल की अवधि के दौरान मुस्लिम जन्म दर में केवल 2 बार गिरावट आई है। 2007 में यह 35 प्रतिशत (2006) से 33.71% तक फिसल गई।

(सोशल मीडिया से साभार)

देवेंद्र सिंह आर्य

लेखक उगता भारत समाचार पत्र के चेयरमैन हैं।

More Posts

1 thought on “पश्चिम बंगाल और केरल में है हिंदुओं के अस्तित्व को गहरा संकट

  1. FOR PROTECTING ARYA VEDIC AND HINDUS IN INDIA IT IS MUST TO CHANGE THE PRESENT CONSTITUTION OF INDIA PERMANENTLY AND IT MUST BE REPLACED BY A TOTAL NEW ARYA VEDIC CONSTITUTION OF INDIA IN WHICH THERE WILL BE TWO PARTS. FIRST PART WILL BE TOTAL WIPE OUT OF ALL NON VEDIC FAITHS PAST PRESENT AND FUTURE FROM INDIA BY ALL MEANS BY TAKING INSPIRATION OF SATYARTHA PRAKASH AND DECLARE INDIA AS ARYA VEDIC RASHTRA WHEREIN ONLY ARYA VEDIC PEOPLE WILL LIVE IN INDIA AND IN THE SECOND PART BASED ON VISHWA DHAROHAR MANUSMRUTI TOTAL ARSHA VEDIC CONSTITUTION WILL BE IMPLEMENTED WHICH WILL BE MANDATORY TO ALL WITHOUT ANY DISCUSSION. THIS IS THE ONLY WAY TO SAVE ARYAVARTA BHARAT AND THIS IS GOING TO HAPPEN WITHIN NEXT 20 YEARS AND I AM PREPARING THIS CONSTITUTION TO REMEMBER THAT ONLY SATYA SANATAN VEDIC DHARMA EXISTS AND ONLY VEDIC VIGYAN IS TRUE AND THIS ALONE WILL SAVE OUR BHARAT

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

%d bloggers like this: