उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के लिए खुशखबरी : एक और सर्वे ने बताया बन रही है फिर से योगी सरकार

2022 जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, सबकी नजरें उत्तर प्रदेश समेत पाँचों राज्यों के विधानसभा चुनावों पर हैं। ऐसे में ओपिनियन पोल ही है जिनके जरिए आम जनता अपने कयास लगा रही है। पिछले दिनों एबीपी के सी वोटर ने 4 राज्यों में कमल खिलता दिखाया था। अब टाइम्स नाऊ पोलस्ट्रैट ओपिनियन पोल ने भी दावा किया है कि इस बार उत्तर प्रदेश की योगी सरकार दोबारा सत्ता में लौटेगी और 403 विधानसभा सीट पर बहुमत से विजय हासिल करेगी।
पोल के मुताबिक इस बार उत्तर प्रदेश के प्रदेश चुनावों में बीजेपी को 239-245 सीटें मिलेंगी। वहीं समाजवादी पार्टी के हिस्से 119-125 सीट आएँगी। बहुजन समाज पार्टी भी 28-32 सीटें जीत सकती है जबकि प्रियंका गाँधी के प्रयासों के बाद भी कांग्रेस उत्तर प्रदेश की जनता को खुश नहीं कर पाएगी।

योगी सरकार की वापसी का मुख्य कारण है कि योगी सरकार से पूर्व हिन्दू अपने तीज-त्यौहार उतनी उत्सुकता से नहीं मना पाते थे, जितनी उत्सुकता से आज मनाते हैं। दूसरे, मुस्लिम समाज भी आज नितरोज के दंगों से अपने आपको मुक्त पा रहा है। तीसरे, योगी सरकार से पूर्व प्रदेश में गुंडागर्दी से हर प्राणी दुःखी था, लेकिन योगी के बाद प्रदेश में गुंडागर्दी से राहत से महिलाओं में सुरक्षा का आभास हो रहा है। यही कारण है कि मुस्लिम कट्टरपंथियों और भाजपा विरोधियों को छोड़ सभी उत्तर प्रदेश में योगी की पुनः वापसी चाहते हैं।

कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर विपक्षियों के साथ-साथ कुछ अस्पताल भी मोदी पर हमलावर थे, तब भाजपा विरोधी चैनल ने बहुत ही हैरानी का समाचार प्रसारित किया था कि यदि आज लोक सभा होते हैं तो मोदी 350+ सीट से वापसी करेगी। लेकिन अन्य चैनलों ने इस ओर तनिक भी ध्यान नहीं दिया और इस समाचार को ऑक्सीजन की कमी का झूठा समाचार निगल गया।

इस कटु सच्चाई को समस्त भाजपा विरोधी भी जानते हैं कि मोदी और योगी की टक्कर का कोई अन्य नेता नहीं। दोनों ही जनहित में कोई कड़ा निर्णय लेने में जरा भी संकोच नहीं करते। इन दोनों के बाद नाम आता है अमित शाह का।

इस सर्वे में क्षेत्र के मुताबिक भी अनुमानित आँकड़े दिए गए हैं। बुंदेलखंड में बीजेपी 15-17 सीट ले सकती है वहीं बसपा को 2-5 सीटें और सपा 0-1 सीट ले पाएगी। डोब क्षेत्र की 71 सीटों में से बीजेपी को 37-40 सीट मिल सकती हैं जबकि सपा को सिर्फ 26-28 सीटें मिलेंगी। पूर्वांचल की 92 सीट में से 47-50 बीजेपी के खाते में आ सकती है और सपा को यहाँ 31-35 सीट मिलेंगी। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 40-42 सीट मिलेगी। संभवत: सपा को 21 से 24 सीट मिलेगी। ऐसे ही अवध में भी 101 सीटों बीजेपी को 69-72 सीट मिल सकती है। सपा को यहाँ भी 23-26 सीट मिलने का अनुमान है। वहीं बसपा को 7-10 सीट मिलेंगी।

टाइम्स नाऊ पोलस्ट्रैट ओपिनियन पोल में 9000 लोगों की प्रतिक्रिया ली गई। ये सर्वे 6-10 नवंबर के बीच में हुआ था। इस सर्वे में समाज के हर तबके की राय ली गई ताकि पता चले कि आखिर कौन क्या चाहता है। पोलस्ट्रैट के निदेशक शिव सेहगल ने कहा, “हमने स्ट्रैटिफाइड सैंपलिंग (एक ऐसी पद्धति जहाँ जनता को छोटे भाग में बाँटा जाता है) पद्धति का प्रयोग किया। जहाँ हमने समाज के हर तबके को शामिल किया। हमें ज्ञात हुआ कि आखिर हर समुदाय क्या महसूस कर रहा है।”

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *