वाराणसी के पास यह है खूबसूरत पर्यटक स्थल – चंद्रप्रभा, राजदारी,सारनाथ, चुनर फोर्ट  ,विंध्याचल

 

प्रिया मिश्रा

प्राचीन मंदिरों और ऐतिहासिक स्थलों के लिए प्रसिद्ध वाराणसी शहर, भारतीय और अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के बीच एक लोकप्रिय गंतव्य है। वाराणसी के पास कई धार्मिक स्थलों, ट्रेकिंग स्पॉट और वन्यजीव अभयारण्यों हैं जो इस जगह की सुंदरता को प्रदर्शित करते हैं।

वाराणसी, उत्तर प्रदेश के सबसे प्राचीन शहरों में से एक है। यह शहर भगवान शिव की नगरी के नाम से मशहूर है। प्राचीन मंदिरों और ऐतिहासिक स्थलों के लिए प्रसिद्ध वाराणसी शहर, भारतीय और अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के बीच एक लोकप्रिय गंतव्य है। वाराणसी के पास कई धार्मिक स्थलों, ट्रेकिंग स्पॉट और वन्यजीव अभयारण्यों हैं जो इस जगह की सुंदरता को प्रदर्शित करते हैं। अगर आप भी वाराणसी के आसपास की जगहों पर घूमने का प्लान बना रहे हैं तो इन जगहों पर जरूर जाएं-

चंद्रप्रभा वाराणसी से लगभग 70 किमी दूर स्थित है और वाराणसी के पास लोकप्रिय पिकनिक स्थलों में से एक है। यह उत्तर प्रदेश के दक्षिण-पूर्व में एक वन्यजीव अभयारण्य है। यह नौगढ़ और चकिया के बीच स्थित है। यहाँ तक पहुँचने के लिए आप टैक्सी या ऑटो जैसे परिवहन चुन सकते हैं। खासतौर पर वीकेंड में यहाँ बहुत भीड़ होती है। स्थानीय लोगों और पर्यटकों के बीच यह जगह पिकनिक मानाने के लिए लोकप्रिय है।  वहाँ आते हैं। यहाँ आप तैराकी कर सकते है।

राजदारी, वाराणसी के पास स्थित लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। यह वाराणसी से लगभग 70 किमी दूर है और यहाँ सुंदर झरने हैं जो पर्यटकों को आकर्षित करता है। वीकेंड पर लोग यहाँ परिवार के साथ पिकनिक मानाने और झरनों का आनंद लेने के लिए आते हैं। यह जगह प्रकृति प्रेमियों और फोटोग्राफी के शौक़ीन लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय है। यहाँ आप सुंदर परिदृश्यों के बीच फोटो खिंचवा सकते हैं।

सारनाथ, बौद्ध धर्म में चार सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों में से है। वाराणसी के उत्तर-पूर्व में स्थित यह भारत के प्रसिद्ध बौद्ध तीर्थ स्थानों में से एक है। यह वह स्थान है जहां गौतम बुद्ध ने सबसे पहले धर्म की शिक्षा दी थी और कोंडाना के ज्ञान के माध्यम से बौद्ध संघ अस्तित्व में आया था। अशोक स्तंभ, मूलंगंधा कुटी विहार, पुरातत्व संग्रहालय, चीनी और थाई मंदिर और मठ यहां के आसपास देखने लायक अन्य चीजों के अलावा हैं।

विंध्याचल, वाराणसी से 76 किमी की दूरी पर स्थित है। और एक प्रसिद्ध हिंदू तीर्थस्थल है। शास्त्रों के अनुसार, इसे देवी दुर्गा का निवास माना जाता है। किंवदंती है कि देवी ने महिषासुर राक्षस का वध करने के बाद विंध्याचल को अपने निवास स्थान के रूप में चुना था। विंध्याचल में अनेक मंदिर हैं, जहाँ सालभर भक्तों का तांता लगा रहता है।

यह वाराणसी के बाहरी इलाके में स्थित है और वाराणसी के पास लोकप्रिय पिकनिक स्थलों में से एक है। यह वाराणसी शहर के पास स्थित एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थल है। वाराणसी के पास कई प्राचीन ऐतिहासिक स्थान हैं, जो स्थानीय लोगों और पर्यटकों के लिए वाराणसी के पास पवित्र स्थानों की यात्रा करने के लिए अच्छे हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *