सरकारी आवासों पर कुंडली मारकर बैठे राजनेताओं की प्रवृत्ति पर हिंदू महासभा ने जताया रोष : कहा – बने कठोर कानून

नई दिल्ली । अखिल भारत हिंदू महासभा ने अपनी एक विशेष बैठक में कहा है कि सरकारी बंगलों पर राजनीतिज्ञों के कुंडली मारकर बैठने की प्रवृत्ति देश के लिए बहुत ही खतरनाक है । पारित प्रस्ताव में कहा गया है कि राजनीतिज्ञों की यह बहुत ही बुरी आदत है कि वह सरकारी बंगलों और संपत्तियों पर कब्जा करना अपना जन्म सिद्ध अधिकार मानते हैं । यदि कोई जनप्रतिनिधि या राजनीतिक व्यक्ति विधायक , सांसद, मंत्री या किसी और राजनीतिक पद पर रहते हुए किसी सरकारी आवास का लाभ प्राप्त कर लेता है तो उसे छोड़ना उसे बहुत ही बुरा लगता है ।

राजनीतिज्ञों की देखा देखी यही प्रवृत्ति सरकारी अधिकारियों के भीतर भी बढ़ती जा रही है । कितने ही उदाहरण ऐसे मिल जाएंगे जब कोई नया विधायक, सांसद या सरकारी कर्मचारी ,अधिकारी सड़क पर इस बात के लिए मारा मारा फिर रहा होता है कि उसे भी सरकारी आवास दिया जाए ।
पार्टी की इस बैठक के बारे में जानकारी देते हुए पार्टी के राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री विपिन खुराना ने बताया कि उक्त बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष बाबा पंडित नंदकिशोर मिश्र , राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष संदीप कालिया , वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ राकेश कुमार आर्य , राष्ट्रीय महासचिव एसडी विजयन ,संगठन मंत्री योगी जयनाथ जी महाराज , रसिया कार्यालय विधिक प्रभारी श्रीनिवास आर्य , संगठन सचिव नीरपाल भाटी महासचिव सहित सभी पदाधिकारी उपस्थित थे। पार्टी का मानना है कि वास्तव में सरकारी बंगलों को न छोड़ने का इन राजनीतिज्ञों और अधिकारियों का यह आचरण जहां दुर्भाग्यपूर्ण है वहीं दूसरों के अधिकारों का अतिक्रमण करने वाला होने के कारण अनैतिक और अवैधानिक भी है । इस पर वर्तमान केंद्र सरकार कठोर होती हुई दिखाई दे रही है अच्छा हो कि यह कठोरता स्थाई बने और नेताओं व अधिकारियों की इस प्रकार की प्रवृत्ति पर रोक लगाने में सफलता प्राप्त करे।
पार्टी ने अपने प्रस्ताव में कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बड़े राजनेता जैसा दिल दिखाते हुए प्रियंका गांधी वाड्रा को यद्यपि 35 लोधी इस्टेट वाले सरकारी बंगले में कुछ और दिन रहने की अनुमति दे दी है , और पार्टी इस प्रकार दिखाई गई प्रधानमंत्री की राजनीतिक सदाशयता का स्वागत भी करती है परंतु इसके उपरांत भी पार्टी चाहेगी कि इस संबंध में कठोर कानून का निर्माण कर भविष्य के लिए यह व्यवस्था सुनिश्चित की जाए की किसी भी राजनीतिक व्यक्ति या सरकारी कर्मचारी अधिकारी को सरकारीआवासों पर कब्जा करने का अवसर ना मिले । पार्टी का मानना है कि ऐसे समय में जब लोग राजनीतिक विद्वेष में गांधी परिवार को परेशान करने के लिए अभियान चलाए जाने का आरोप लगा रहे हैं तब पीएम द्वारा दिखाई गई सदाशयता से उनके उदार मन का पता चलता है।
उल्लेखनीय है कुछ दिन पूर्व सरकार ने प्रियंका को नोटिस जारी कर 35 लोधी इस्टेट बंगला पहली अगस्त से पहले खाली करने को कहा था। एसपीजी सुरक्षा हटने के कारण नियमत: प्रियंका इस बंगले में रहने की हकदार नहीं रह गई थीं। चर्चा यह भी आई की प्रियंका अपना बंगला खाली कर लखनऊ में बसने जा रही हैं। इस बीच प्रियंका की ओर केंद्र से इस बंगले में कुछ दिन और रुकने की मोहलत मांगी गई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *