अपनों के द्वारा किया गया अपमान सहा नही जाता

बिखरे मोती

एक आख्यायिका है कि किसी शहर में लुहार और सुनार की दुकानें पास पास थीं। सुनार सोने के तार को लकड़ी की हथौड़ी से पीटता था किंतु आवाज बहुत कम होती थी। इधर लुहार जब लोहे को लोहे की हथौड़ी से पीटता था तो आवाज बहुत दूर दूर तक जाती थी।
सहसा, सोने ने लोहे से एक दिन पूछा, मेरे मित्र पिटाई तो मेरी भी होती है किंतु मैं इतनी आवाज नही निकालता जितना कि तुम्हारी आवाज का शोर होता है। तुम्हारी चीख तो कलेजे को बींध देती है। रोंगटे खड़े vijender-singh-arya2कर देती है, आखिर इसका कारण क्या है? लोहे ने गंभीर होकर उत्तर दिया-मित्रवर! तुम्हें तो गैर (अर्थात लकड़ी की हथौड़ी) पीटते हैं किंतु रहम के साथ, जबकि मुझे तो जो मेरी अपने लोहे की हथौड़ी है, वो बड़ी बेरहमी से पीटती है।
तब मेरा हृदय फूट फूटकर रोता है और हृदय को बींधने वाली चीख निकल जाती है, क्योंकि अपनों द्वारा पहुंचायी गयी चोट बडी घातक होती है जो सही नही जाती। इस संदर्भ में कवि कहता है-
गैरों से चोट खाई तो,
बर्दाश्त हो जाता है। लेकिन जब अपने चोट पहुंचाते हैं, तो बर्दाश्त नही होता।।
आंखें तो रोती ही हैं।
दिल भी फूट फूटकर रोता है।।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *