शराब_शैतान_का_पानी_है

*शराब_शैतान_का_पानी_है*____________________________________🥃❌🧟‍♂️🧌

लेखक आर्य सागर खारी🖋️🖋️🖋️🖋️

ऐ शराब तूने अक्सर कोमो को खाके छोड़ा |
जिस घर से सर उठाया ,उसको मिटा के छोड़ा|
राजाओं के राज छीने, शाहो के ताज छीने|
गर्दनकशो को अक्सर नीचा दिखाके छोड़ा |

बहनों की मांग छीनी , माताओं के लाल छीने|
जिस घर में घुसी, उस घर को मिट्टी में मिलाके छोड़ा||

“मैं मद्यपान को चोरी ,यहां तक की वेश्यावृत्ति से भी अधिक निंदनीय कर्म मानता हूं| मैं आप सभी साथियों के साथ मिलकर आबकारी राजस्व को उखाड़ फेकने और शराब की दुकानों को खत्म करने में योगदान देने को कहता हूं|” ( *महात्मा_गांधी*)

“शराब मनुष्य को, राक्षस बना देती है|”
( *महर्षि_दयानंद #सरस्वती* )

“जहां शैतान खुद नहीं पहुंच पाता ,वहां शराब को भेज देता है” | ( *यहूदी_कहावत*)

“तन मन धन और अकल हरे तू ,करती बहुत खता दारू| फिर भी लोग तने पीवे, तु कारण हमको बता दारू|
स्वाद में कड़वी भाव में महंगी ,अनर्थ का भंडार तू
फिर भी लोग तने पीवे ,तू कारण हमको बता दारू||”
( *पंडित_लख्मीचंद*)

“मांडा नशा शराब का ,उतर जाए प्रभात
नाम खुमारी नानका ,चढ़ी रहे दिन रात”
( *गुरु_नानक*)

“ना रहा दूध -दही का खाना
बिगड़ गए यूपी और हरियाणा”

प्यारे दोस्तों शराब राक्षसनी है |आत्मा ,शरीर ,समाज सभी को खोखला कर देती है |मनुष्य को जीते जी राक्षस बना देती है |शराबी का घर शमशान के तुल्य हो जाता है जिसमें उसके बच्चे रोते बिलखते रहते हैं सदैव| संसार के सभी कुकर्म ,पाप ,अपराधों ,हत्याकांड, भयंकर सड़क हादसों पीछे शराब एक केवल एक कारण है| यह सहारा देती नहीं सहारा छीन लेती है| *अपराध_शास्त्र में शराब को सभी अपराधों के पीछे प्रमुख कारण माना गया है| शराबी को सामान्य व्यक्ति नहीं *साइकोपैथ* माना गया है|
सरकारों के लिए चाहे कांग्रेस की सरकार हो या भाजपा की शराब आमदनी ,राजस्व बढ़ोतरी बढ़ाने का जरिया मात्र है |उसे उसमें कोई बुराई नजर नहीं आती चाहे यह देश बलात्कारी ,वहशी दरिंदों विधवा अनाथ बच्चों का देश ही क्यों ना बन जाए | आजादी के बाद *जस्टिस टेकचंद समिति* शराब की बुराइयों के संबंध में गठित की गई थी,जिसमें यह नतीजा निकला था कि संपन्न राष्ट्रों का ऐश्वर्या को मिट्टी में मिला दिया है इस शराब ने | पराक्रमी यादव जाति जिसमें श्री कृष्ण ने जन्म लिया था इसी बुराई के कारण नष्ट हो गई| रोमन साम्राज्य के पतन का एक कारण निसंदेह शराब ही थी| 100 ml पीने वाला भी शराबी है 1000ml पीने वाला भी शराबी है |कुछ लोगों में भ्रांतियां रहती है रोज रोज पीने वाला भी शराबी है साल में एक बार पीने वाला भी शराबी है| शराबी कोई भी हो चाहे हमारा रिश्तेदार पड़ौसी समाज का प्रतिष्ठित व्यक्ति वह सम्मान का नहीं निंदा का पात्र है| उसके दोष उसके मुख के सामने कहो| उसे समझाओ चाहे कुछ भी हो |तब जाकर यह व्यापक बुराई हमारे समाज ,राष्ट्र से खत्म हो पाएगी| सामाजिक कार्यक्रमों में शराब के सेवन करने वाले व्यक्तियों को पिछली पंक्ति में बैठाने की व्यवस्था करें | जो इस बुराई से रहित है ,उसका सम्मान करें| ऐसे वैवाहिक ,सामाजिक ,सार्वजनिक कार्यक्रमों का बहिष्कार करें जहां शराब पिलाई जाती है, परोसी जाती है जाती | शराबियों के सर्किल को *फ्रेंड सर्किल* ना माने राक्षसों *दुष्टों_का_सर्किल* माने| जब हम दृढ़ता से इन चीजों पर अमल करेंगे, तब जाकर यह देश अतीत का वही विश्व गुरु भारत बन पाएगा जिसके बारे में दुनिया फिर से कहेगी…………………………………….
*कहेगा_जगत_एक_स्वर_में_सारा*|
*वही_वृद्ध_भारत गुरु_है_हमारा*______________________________|

आर्य सागर खारी🖋️🖋️🖋️

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *