चीन कर रहा है मुसलमानों का जनसांख्यिकीय नरसंहार

:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::;
बीजिंग, एपी। चीनी अधिकारी ने सोमवार को इस बात से इनकार किया कि बीजिंग ने शिंजियांग में मुस्लिम महिलाओं को जबरन बर्थ कंट्रोल के लिए मजबूर किया है। दरअसल, चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी देश में मुस्लिम आबादी पर अंकुश लगाने के लिए अब कठोरता पर उतर आई है। इस क्रम में उइगर और दूसरे अल्पसंख्यकों के बीच जन्म दर को घटाने के लिए सख्त कदम उठाए जा रहे हैं।


चीन के इस क्रूर कदम को विशेषज्ञों ने ‘जनसांख्यिकीय नरसंरहार’ करार दिया है। इंटरव्यू और आंकड़ों से पता चलता है कि यह प्रांत अल्पसंख्यक समुदाय की महिलाओं को नियमित तौर पर गर्भावस्था जांच कराने को कहता है, उन्हें अंतर्गर्भाशयी उपकरण (Intrauterine Device, IUD) लगवाने के अलावा नसबंदी करवाने और लाखों महिलाओं को गर्भपात कराने के लिए भी मजबूर करता है।
वाशिंगटन में चीनी दूतावास द्वारा किए गए ट्वीट पर हंगामे के बाद चीन के अधिकारी ने यह सफाई दी है। इस ट्वीट में लिखा गया कि सरकारी पुलिस ने उइगर समुदाय की महिलाओं ‘बेबी मेकिंग मशीन’ होने से आजादी दिलाई। शिनजियांग क्षेत्रीय सरकार के लिए उप प्रवक्ता शू गुईशियांग ( Xu Guixiang) ने सोमवार को बताया कि बर्थ कंट्रोल के फैसले शख्स की अपना व्यक्तिगत निर्णय है और इसमें कोई संगठन या दूसरा शख्स हस्तक्षेप नहीं कर सकता है। शू ने कहा, ‘उइगर जनसंख्या का वृद्धि दर न केवल शिनजियांग की पूरी जनसंख्या से अधिक है बल्कि अल्पसंख्यक जनसंख्या की तुलना में भी अधिक है।’
बता दें कि उइगर मुस्लिमों का उत्पीड़न करने के जिम्मेदार चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाने वाले कानून को अमेरिका में भारी बहुमत से मंजूरी मिल चुकी है। सीनेट ने इस बिल को सर्वसम्मति से पास किया था जिससे मानवाधिकारों का हनन करने पर चीन पर प्रतिबंध लगाया जा सके
…… *प्रस्तुतकर्ता…..*
…. *Vishnu Gupt*
….. M … 9315206123

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *