चुनाव नजदीक आते ही पार्टी से जुड़ना और छोड़ना शुरू

राकेश दत्त मिश्र

फैजाबाद। बीकापुर के विधायक जितेंद्र कुमार सिंह ‘बब्लू’ के पार्टी छोड़ते ही बसपा नए सिरे से अपना कुनबा सहेजने में जुट गई है।

पार्टी ने बब्लू सिंह के विरोधी माने जाने वाले अशोक सिंह को न सिर्फ पार्टी में वापस ले लिया है, बल्कि उन्हें क्षत्रिय भाईचारा बनाओं कमेटी का जोन कोआर्डिनेटर भी नियुक्त कर दिया है। इसके साथ ही बीकापुर से श्री पांडेय का टिकट कटने की संभावना है। उन्हें इस आशय के संकेत दे दिए गए है।

बबलू सिंह के पार्टी छोड़ते ही बसपा सक्रिय हो गई। बीते दिनों अचानक पार्टी के जोनल कोआर्डिनेटर एवं राज्यसभा सदस्य जुगल किशोर यहां पहुंचे। उन्होने सर्किट हाउस में जिला कमेटी के अलावा बीकापुर के सेक्टर प्रभारियों के साथ बैठक की। पार्टी ने क्षत्रिय मतों को सहेजने के लिए एक बार फिर अशोक सिंह पर ही भरोसा जताया। छह माह बाद पार्टी ने उन्हें वापस ले लिया।

बसपा से निष्कासन और वापसी के बीच के अंतराल के दौरान पार्टी के प्रति निष्ठा और धैर्य का परिणाम रहा कि पार्टी ने न सिर्फ उन्हें वापस लिया बल्कि उन्हें बसवा क्षत्रिय समाज का जोन कोआर्डिनेटर भी बना दिया। जोनल कोआर्डिनेटर ने उनके पार्टी में वापसी और उन्हें पद सौपने की घोषणा की।

इस दौरान जिलाध्यक्ष अनिल गौतम व जिला प्रभारी राम दुलारे के अलावा पार्टी के कई पदाधिकारी भी मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि विधायक बब्लू सिंह के विरोध के कारण ही करीब छह माह पूर्व अशोक सिंह को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था।

अशोक सिंह ने नेतृत्व के फैसले को यह कहते हुए स्वीकार कर लिया था कि पार्टी के प्रति उनकी निष्ठा कम नहीं होगी। अशोक सिंह जिले के कद्दावर नेता माने जाते हैं।

पिछला चुनाव उन्होंने रुदौली से बसपा के टिकट पर लड़ा था और बहुत कम मतों के अंतर से हारे थे। यही कारण रहा कि पार्टी ने उन्हें उपचुनावों में फैजाबाद सहित आसपास के जिलों में क्षत्रिय मतदाताओं को सहेजने की जिम्मेदारी सौंपी थी।

पार्टी में उनकी दोबारा वापसी से उनके समर्थकों में उत्साह की लहर दौड़ गई। उनके समर्थकों की मानें तो अशोक सिंह को विधानसभा चुनाव लड़ने का मौका भी मिल सकता है। हालांकि अभी तय नहीं है।

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *