अंसल गोल्फ लिंक – 2 में किया गया योग दिवस पर विशेष कार्यक्रम

ग्रेटर नोएडा। ( अजय कुमार आर्य) यहां स्थित अंसल गोल्फ लिंक टू सोसाइटी में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर विभिन्न प्रकार के प्राणायाम और योग आसनों का प्रदर्शन करके लोगों ने योग के प्रति अपनी निष्ठा व्यक्त की।


इस अवसर पर सोसायटी के चेयरमैन श्री जितेंद्र डेढ़ा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि योग हमें निरोग रखता है जिसको अपनाकर हम शांति और आनंद की प्राप्ति कर सकते हैं। मैंने कहा कि यह हमारे लिए गर्व की बात है कि हमारे ऋषि यों ने इस परंपरा को संसार में सबसे पहले प्रकट किया था।
डॉ राकेश कुमार आर्य ने कहा कि हितभुक, मितभुक और ऋतभुक होकर अपने स्वास्थ्य की रक्षा करनी चाहिए। यह सूत्र स्वास्थ्य के लिए सबसे उपयुक्त हो सकता है। उन्होंने योग के बारे में बताते हुए कहा कि योग आत्मा परमात्मा के मिलन पर जाकर पूर्ण होता है। श्री आर्य ने अष्टांग योग के आठों अंगों पर भी सूक्ष्म रूप में प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि आसन और प्राणायाम ही योग नहीं है बल्कि यह योग के एक अंग हैं।


इस अवसर पर श्री राजेंद्र शर्मा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि योग सब को जोड़ने का काम करता है। क्योंकि इससे हमारी सात्विक वृत्तियों में वृद्धि होती है। जो एक दूसरे के साथ मिलने के लिए प्रेरित करती हैं। श्री शर्मा ने इस अवसर पर एक भजन की भी प्रस्तुति दी, जिससे सबको आनंद की अनुभूति हुई। इसी क्रम में अपने विचार रखते हुए संदीप गर्ग ने कहा कि योग ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत को एक विशेष पहचान दी है। इसके लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी और बाबा रामदेव जी के योगदान पर प्रकाश डालते हुए श्री गर्ग ने कहा कि आज भारत के उदय का काल चल रहा है जिसमें हम सबको भारतीय संस्कृति के प्रति समर्पित होकर कार्य करने की आवश्यकता है।
जबकि महावीर सिंह आर्य ने अपने संबोधन में कहा कि हमे प्रधानमंत्री श्री मोदी का इस बात के लिए विशेष धन्यवाद ज्ञापित करना चाहिए कि उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर योग को स्थापित करा दिया है। उन्होंने कहा कि हमें प्रतिदिन नियम से योग को अपनाकर अपने जीवन में लाभ प्राप्त करना चाहिए।
योग अध्यापक श्री दिनेश कुमार ने एक एक क्रिया को बहुत बेहतरीन ढंग से करवाया और उसके लाभ पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि यदि प्रत्येक क्रिया को नित्य नियम से किया जाएगा तो इसके आशातीत लाभ होंगे। उन्होंने कहा कि हमारा शरीर रोगों का घर है लेकिन योग के निरंतर प्रयोग से जिससे शरीर को रोग मुक्त किया जा सकता है। शरीर को रोग मुक्त किया जा सकता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *