कविता : नव वर्ष मंगलमय तुमको कहता

सत्य सनातन सर्वहितकारी
आएगा जब चैत्र माह।
नूतनता सर्वत्र दिखेगी
हर्ष का होगा प्रवाह।।

तब आप करेंगे अभिनंदन
और मैं बोलूंगा नमन नमन।
पसरेगी नूतनता कण-कण में
मुस्काएंगे नयन नयन।।

प्रतीक्षा करो उसकी बंधु
अभी शरद यहां डोल रहा।
अभी नूतनता का बोध नहीं
अभी यहाँ पुरातन बोल रहा।।

अभी इच्छा नहीं गले मिलन की ,
अभी ठिठुरन ने है जकड़ा हुआ।
अभी फाग नहीं कहीं मस्ती का
अभी तन रोगों ने पकड़ा हुआ।।

अभी मंगलमय नववर्ष कहना
नहीं उचित मुझको लगता।
फिर भी रीत निभाते हुए
नववर्ष मंगलमय तुमको कहता।।

डॉ राकेश कुमार आर्य
संपादक : उगता भारत

डॉ॰ राकेश कुमार आर्य

मुख्य संपादक, उगता भारत

More Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *