अखिल भारतीय अंतरजातीय वैवाहिक परिचय सम्मेलन समिति की हुई पहली बैठक संपन्न

जमशेदपुर । ( विशेष संवाददाता ) राजेंद्र कुमार अग्रवाल के सर्किट हाउस एरिया स्थित कार्यालय में आज अखिल भारतीय अंतर्जातीय वैवाहिक परिचय सम्मेलन समिति की पहली बैठक हुई। जिसकी अध्यक्षता शहर के जाने-माने समाजसेवी गिरधारी लाल देबूका ने की ।
इस बैठक में अखिल भारतीय अंतर्जातीय वैवाहिक परिचय सम्मेलन समिति के संयोजक धर्म चंद्र पोद्दार ने कहा कि यह परिचय सम्मेलन जनवरी 2021 में होगा । तब तक हम लोगों को इसकी तैयारियां करते रहनी चाहिए ।
इस सम्मेलन में हिंदू धर्म के अंतर्गत आने वाली विभिन्न जातियों के कोई भी युवक या युवती भाग ले सकते हैं । जिन लड़कियों का विवाह आर्थिक कारणों से नहीं हो पा रहा है , उनका विवाह इस सम्मेलन के माध्यम से कराया जा सकेगा ।

इस परिचय सम्मेलन में प्रथम आओ प्रथम पाओ के आधार पर जिन उम्मीदवारों की इंट्री पहले आएगी वैसे केवल 25 युवक – युवतियों का ही परिचय , परिचय सम्मेलन स्थल में कराया जा सकेगा । इसके बाद आने वाली एंट्री वाले उम्मीदवारों का परिचय , परिचय सम्मेलन स्थल पर कराना संभव नहीं होगा ।
इस परिचय सम्मेलन में परिचय होने के पश्चात आपसी बातचीत से आने वाले 30 दिनों के भीतर अगर रिश्ते तय हो जाते हैं तो उन सभी जोड़ों का सामूहिक विवाह करवाया जा सकेगा ।
समाज के वैसे लड़के जिनका विवाह सजातीय लड़कियों से नहीं हो पा रहा है , वैसे युवक अन्य जातियों की लड़कियों से उनकी सहमति होने पर विवाह कर सकेंगे ।
गायत्री परिवार की पद्धति से विवाह करने पर उनका विवाह संबंधित खर्च भी अत्यंत ही निम्न होगा जो वर पक्ष के द्वारा वहन किया जा सकेगा ।
इसी सब को लेकर इस परिचय सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है ।बैठक में उपस्थित सामाजिक कार्यों में रुचि रखने वाले श्री राजेंद्र कुमार अग्रवाल ने कहा कि इसकी तैयारियों को लेकर हम लोगों को पंपलेट छपवा कर बटवाना चाहिए । पोस्टर भी स्थान – स्थान पर लगाए जाने चाहिए ।
जिससे प्रचार – प्रसार अच्छी तरह हो सके और इसका लाभ हिन्दुओ की विभिन्न जातियों के लोग ले सकें ।
बैठक में उपस्थित सामाजिक कार्यों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने वाली श्रीमती सीमा पांडेय एवं इंजीनियर सरस्वती कुमारी ने भी अपने विचार रखे ।
इन विचारों में यह बात सामने आई कि पोस्टर शहर के आसपास की बस्तियों एवं कस्बों में प्रचुर मात्रा में लगाया जाना हितकर होगा ।
इसके अलावे पुराना सिंहभूम जिला जिसके अंतर्गत वर्तमान के पूर्वी सिंहभूम , पश्चिमी सिंहभूम एवं सरायकेला – खरसावां यह तीन जिला आते हैं , इनमें भी जगह-जगह जाकर हम लोगों को पोस्टर और पंपलेट देना चाहिए । इससे प्रचार – प्रसार को बहुत अच्छा बढ़ावा मिलेगा ।
इसके अलावा हम लोगों को सघन जन संपर्क अभियान भी चलाना चाहिए और लोगों को इसके बारे में अधिकाधिक जानकारी उपलब्ध करानी चाहिए जिससे लोग अंतर्जातीय परिचय सम्मेलन की आवश्यकता को समझ सके ।
इस आयोजन को सफल करने के लिए 15 से 20 कार्यकर्ताओं की आवश्यकता होगी । इन कार्यकर्ताओ के साथ एक बैठक करने का विचार भी किया गया । कार्यकर्ताओं की यह बैठक लॉकडाउन खत्म होते ही अगस्त के प्रथम सप्ताह में करने पर विचार किया गया ।
बैठक की अध्यक्षता कर रहे श्री गिरधारी लाल देबूका ने कहा कि शीघ्र ही पंपलेट और पोस्टर छपवा लेने चाहिए । उन्होंने मीडिया के द्वारा भी प्रचार – प्रसार किए जाने की बात कही ।
अभी सोशल डिस्टेंसिंग का मामला है इसलिए जैसे ही लॉकडाउन पूर्ण रूप से समाप्त होता है , तत्काल एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर हमलोग प्रिंट मीडिया एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से भी अच्छा प्रचार – प्रसार करेगे । उन्होंने आगे कहा कि इस सम्मेलन में जितने भी कन्या पक्ष के लोग सम्मिलित होते हैं , उन्हें अपनी यह समिति पूर्ण रुप से सहयोग करेगी ।
हमारा प्रयास होगा कि कन्या पक्ष के लोगों का कुछ भी खर्च ना हो ।
उम्मीदवारों को जो रजिस्ट्रेशन शुल्क देना है वह भी कन्या पक्ष के लोगों से नहीं लिया जाएगा ।
श्री देबुका ने यह भी कहा कि अगस्त माह के प्रथम सप्ताह में कार्यकर्ताओं की बैठक में परिचय सम्मेलन को सफल बनाने के लिए जो भी नियम वगैरह निर्धारित किए जाएंगे , उनको अंतिम रूप दिया जा सकेगा । बैठक के अंत में धन्यवाद ज्ञापन सामाजिक कार्यों में अग्रणी भूमिका निभाने वाली इंजीनियर सुश्री सरस्वती कुमारी ने किया ।
यह जानकारी अखिल भारतीय अंतर्जातीय वैवाहिक परिचय सम्मेलन समिति के द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में दी गई है ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *