ताज़ा लेख

इतिहास के पन्नों से

संपादकीय

धर्म-अध्यात्म

धर्म सत्य गुणों के धारण और वेद अनुकूल आचरण को कहते हैं

मनुष्य की प्रमुख आवश्यकता सद्ज्ञान है जिससे युक्त होकर वह अपना जीवन सुखपूर्वक व्यतीत कर सके और संसार व जीवन विषयक सभी शंकाओं व प्रश्नों...

सत्यार्थ प्रकाश अविद्या दूर करने और विद्या वृद्धि करने वाला ग्रंथ है

सत्यार्थप्रकाश ऋषि दयानन्द द्वारा सन् 1874 में लिखा गया ग्रन्थ है। ऋषि दयानन्द ने सन् 1883 में इसको संशोधित किया जिसका प्रकाशन उनकी मृत्यु के...

आत्मा की उन्नति के बिना सामाजिक और देशोन्नती संभव नहीं

मनुष्य मननशील प्राणी को कहते हैं। मनन का अर्थ सत्यासत्य का विचार करना होता है। सत्यासत्य के विचार करने की सामथ्र्य मनुष्य को विद्या व...

संसार की सभी अपौरुषेय रचनाएं ईश्वर के अस्तित्व का प्रमाण

अधिकांश मनुष्यों को यह नहीं पता कि संसार में ईश्वर है या नहीं? जो ईश्वर को मानते हैं वह भी ईश्वर के पक्ष में कोई...

महर्षि मनु की सामाजिक व्यवस्था और कर्माशय

मनुस्मृति में उल्लेख मिलता है कि गुरुजन वृद्धजन, माता-पिता और सज्जन के चरण स्पर्श कर आशीर्वाद प्राप्त करने से व्यक्ति की आयु ,विद्या ,यश और...

ऋषि दयानंद ने सच्चे धर्म के बारे में मानवता को कराया था परिचय

महर्षि दयानन्द (1825-1883) ने देश में वैदिक धर्म के सत्यस्वरूप को प्रस्तुत कर उसका प्रचार किया था। उनके समय में धर्म का सत्यस्वरूप विस्मृत हो...