जब गुजरात की भूमि ने कुतुबुद्दीन ऐबक को चटाई थी धूल

गुजरात का प्राचीन काल से ही भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान रहा है। यह प्रांत वीर गुर्जर जाति का निवास स्थान रहा है। गुर्जर जाति ने इस प्रांत से देश विदेश के बहुत बड़े भूभाग पर शासन किया और मां भारती के यश और शौर्य की गाथा का डिण्डिम घोष किया।

Continue Reading

सूफी परंपरा ने हमें पराजित घोषित कराया

प्रसिद्घ दार्शनिक सुकरात को शीशा देखने का बड़ा चाव था। नित्य की भांति वह उस दिन भी शीशा देख रहे थे, तो उन्हें शीशा देखते हुए उनके एक शिष्य ने देख लिया। शिष्य अपने कुरूप गुरू को शीशा देखते हुए देखकर मुस्कराने लगा। उसकी मुस्कुराहट ने दार्शनिक सुकरात को समझा दिया कि वह क्यों हंस […]

Continue Reading

गंग, हांसी, तरावड़ी और विजयराव के वो अविस्मरणीय बलिदान

जब विदेशियों ने भारत के इतिहास लेखन के लिए लेखनी उठाई तो उन्होंने भारतीय समाज की तत्कालीन कई दुर्बलताओं को दुर्बलता के रूप में स्थापित ना करके उन्हें भारतीय संस्कृति का अविभाज्य अंग मानकर स्थापित किया। जैसे भारत में मूर्तिपूजा ने भारत के लोगों को भाग्यवादी बनाने में सहयोग दिया, यद्यपि मूलरूप में भारत भाग्यवादी […]

Continue Reading

जब भाग्यवादिता भी हमारे लिए वरदान बन गयी

तुर्कों के भारत में आकर यहां के कुछ क्षेत्र पर बलात अपना नियंत्रण स्थापित कराने में इस्लाम की धार्मिक (पंथीय या साम्प्रदायिक कहना और भी उचित रहेगा) मान्यताओं ने प्रमुख भूमिका निभाई। इन मान्यताओं के अनुसार इस्लाम संपूर्ण मानवता को दो भागों में विभाजित करके देखता है, सर्वप्रथम है-‘दारूल-इस्लाम’ अर्थात वो देश जिनका इस्लामीकरण किया […]

Continue Reading

हमारी ‘पराजय’ के कुछ अवर्णित सैनिक कारण

जिस प्रकार  हमारे पतन के राजनैतिक कारणों में कुछ काल्पनिक कारण समाहित किये गये हैं और वास्तविक कारणों को वर्णित नही किया गया है, उसी प्रकार हमारे पतन  के लिए कुछ काल्पनिक सैनिक कारण भी गिनाये जाते हैं। पर इन सैनिक  कारणों को गिनाते समय भी हमारे अतीत का ध्यान नही रखा जाता है और […]

Continue Reading

भयंकर झंझावातों के मध्य भी हमारी जीवन्तता बनी रही

जब तुर्कों के सामने राजपूतों की पराजय के कारणों का उल्लेख किया जाता है, तो सामान्यतया भारतीयों की जातिगत सामाजिक व्यवस्था को भी हर इतिहासकार दोषी मानता है। डा. ईश्वरी प्रसाद लिखते हैं :-”इन दोनों जातियों का संघर्ष दो भिन्न सामाजिक व्यवस्थाओं का संघर्ष था। एक पुरानी व्यवस्था (हिन्दुत्व) पतनोन्मुख थी, और दूसरी यौवनपूर्ण तथा […]

Continue Reading

अंतिम विजय के लिए सतत संघर्ष का प्रवाह ‘पराजय’ में भी बना रहा

राजपूतों की पराजय के राजनीतिक कारणों पर विचार करते हुए हमें प्रचलित इतिहास में जो कारण पढ़ाए जाते हैं, उनमें प्रमुख कारण निम्न प्रकार हैं :- -भारत में राजनीतिक एकता का अभाव होना। -मुसलमानों में एकता की प्रबलता का पाया जाना। -तुर्कों की हिंदुओं से अच्छी शासन व्यवस्था का होना। -राजपूतों की लोक कल्याण की […]

Continue Reading

महारानी संयोगिता व हजारों बलिदानियों के बलिदान का स्मारक-लालकिला

राकेश कुमार आर्यसज्जन और सप्तपदीकहा जाता है कि ”सतां सप्तपदी मैत्री” अर्थात सज्जनों में सात पद चलते ही मैत्री हो जाती है। ये सात पद मानो सात लोक हैं, प्रत्येक पद से एक लोक की यात्रा हो जाती है। अत: सात पद किसी के साथ चलने का अर्थ है कि मैंने आपकी मित्रता स्वीकार की। […]

Continue Reading

राजकुमारी कल्याणी और बेला का वो अविस्मरणीय आत्मबलिदान

राकेश कुमार आर्य मनु महाराज ने मनुस्मृति (7/14) में लिखा है :- दण्ड: शास्ति प्रजा: सर्वा दण्ड एवाभिरक्षति। दण्ड: सुप्तेषु जागर्ति दण्डं धर्मम बिदुर्बुधा:। अर्थात दण्ड ही है जो सब प्रजा पर शासन करता है, दण्ड ही जनता का संरक्षण करता है, सोते हुओं में दण्ड ही जागता है, अर्थात दण्ड के भय से चोरी-जारी […]

Continue Reading

कानपुर के किसोरा राज्य की आत्मबलिदानी राजकुमारी ताजकुंवरी

राकेश कुमार आर्यभारत पर आक्रमण करने के पीछे मुस्लिम आक्रांताओं का उद्देश्य भारत में लूट, हत्या, बलात्कार, मंदिरों का विध्वंस और दांव लगे तो राजनीतिक सत्ता पर अधिकार स्थापित करना था। अत: भारतीयों ने भी इन चारों मोर्चों पर ही अपनी लड़ाई लड़ी। जहां मुस्लिमों ने केवल लूट मचायी वहां कितने ही लोगों ने लूट […]

Continue Reading