जब ब्रिटेन ने व्हाइट हाउस को कब्जा कर लगा दी थी आग

अभिनय आकाश

संयुक्त राज्य अमेरिका की राष्ट्रीय राजधानी का नाम है। यहां ‘डीसी’ का अर्थ है डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया। वॉशिंगटन डीसी की स्थापना 16 जुलाई 1790 को हुई। उन दिनों अमेरिका के लिए काव्यमय नाम ‘कोलंबिया’ प्रचलित था इसलिए इस नए नगर का नाम ‘टेरिटरी ऑफ कोलंबिया’ रखा गया था।
दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डीसी। जिसका इतिहास करीब दो सौ साल पुराना है। ये जगह न केवल अमेरिकी राजनीति बल्कि पूरे विश्व की राजनीति का केंद्र है। यहां बनाई गई पॉलिसी का असर पूरे विश्व पर किसी न किसी वजह से पड़ता है। इस शहर को 17 जुलाई 1790 में बनाया गया। इस शहर का नाम अमेरिका के संस्थापक और अमेरिका के पहले राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन के नाम पर रखा गया। उन्होंने ही इस खूबसूरत शहर को अमेरिकी राजधानी बनाने का फैसला किया था। अमेरिकी कांग्रेस के सदस्यों द्वारा सात साल की बातचीत के बाद एक समझौते के परिणामस्वरूप वाशिंगटन को संयुक्त राज्य की राजधानी के रूप में स्थापित किया गया था। 17 जुलाई, 1790 को, कांग्रेस ने निवास अधिनियम पारित किया, जिसने संघीय सरकार के लिए एक स्थायी सीट बनाई।

वर्ष 1790 में न्यूयॉर्क और फिर 1791 में फिलाडेल्फिया अमेरिका की राजधानी हुआ करते थे। ये बात उस समय की है जब अमेरिका को ब्रिटेन से आजादी मिले लगभग 15 साल ही हुए थे और अमेरिका के राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन थे। जॉर्ज वाशिंगटन चाहते थे कि अमेरिका की राजधानी पोर्टोमैक नदी के किनारे बसाई जाए। इसी के लिए तब वर्जिनिया और मैरीलैंड जैसे राज्यों से जमीन ली गई। बाद में इसी जगह को राजधानी वाशिंगटन डीसी का नाम दिया गया। ये सन 1800 की बात है जब व्हाइट हाउस भी बनकर तैयार हो गया था। लेकिन साल 1812 में ब्रिटेन ने एक बार फिर अमेरिका पर हमला कर दिया और ये युद्ध दो साल तक चला। इस युद्ध के दौरान ब्रिटेन ने वाशिंगटन डीसी पर कब्जा कर लिया था और व्हाइट हाउस को भी आग लगा दी थी। इस युद्ध के बाद साल 1815 में ब्रिटेन तो अमेरिका से लौट गया। लेकिन वाशिंगटन डीसी को इस युद्ध में जो जख्म मिले वो कभी नहीं भर पाए। इसी युद्ध के बाद वाशिंगटन डीसी में कई संग्रहालय बने। व्हाइट हाउस का भी फिर से निर्माण किया गया।

संयुक्त राज्य अमेरिका की राष्ट्रीय राजधानी का नाम है। यहां ‘डीसी’ का अर्थ है डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया। वॉशिंगटन डीसी की स्थापना 16 जुलाई 1790 को हुई। उन दिनों अमेरिका के लिए काव्यमय नाम ‘कोलंबिया’ प्रचलित था इसलिए इस नए नगर का नाम ‘टेरिटरी ऑफ कोलंबिया’ रखा गया था। देश के प्रथम राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन के नाम पर इस नगर का नामकरण हुआ ‘वॉशिंगटन डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया’ या संक्षेप में वॉशिंगटन डीसी। वाशिंगटन का नाम अमेरिका के पहले राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन के नाम पर और इसके साथ जुड़ा डीसी अमेरिका की खोज करने वाले क्रिस्टोफर कोलंबस के नाम पर पड़ा।

अमेरिका-ब्रिटेन युद्ध और जल उठा शहर

अमेरिका के इस सबसे ताकतवर शहर को मैरीलैंड और वर्जिनिया की जमीन पर बसाया गया था। अपनी स्थापना के बाद से ही इसकी सीमाएं लगातार बढ़ती रही और ये शहर और ज्यादा खूबसूरत बनता गया। वर्ष 1812 में अमेरिका और ग्रेट ब्रिटेन के बीच दो साल तक चले युद्ध में इंग्लैड का वाशिंगटन पर कब्जा हो गया था। युद्ध की आग में ये शानदार शहर जल उठा था। इसी आग में विश्व की राजनीति का केंद्र माने जाने वाली इमारत व्हाइट हाउस भी धधक उठी थी। ब्रिटेन से हुई इस जंग में कांग्रेस लाइब्रेरी और कैुपिटल बिल्डिंग को भी काफी नुकसान हुआ था। जंग खत्म होने के बाद इन सभी इमारतों को दोबारा तैयार किया गया।

नगर पालिका डीसी का प्रशासन संभालती

दिलचस्प बात ये है कि वाशिंगटन डीसी का नाम तो जॉर्ज वाशिंगटन के नाम पर है लेकिन वो कभी भी व्हाइट हाउस में रहे ही नहीं। इस नगर का क्षेत्रफल लगभग 177 वर्ग किलोमीटर है। स्मारकों के भरे इस नगर का 5वां भाग उद्दान क्षेत्र है। एक मेयर के नेतृत्व में एक 13 सदस्यीय नगर पालिका डीसी का प्रशासन संभालती है। लेकिन केंद्र सरकार इस नगर पालिका के के किसी भी निर्णय को पलट सकती है। संयुक्त राष्ट्र अमेरिका की राष्ट्रीय संसद में डीसी से एक नामित सांसद के अतिरिक्त कोई चुना हुआ प्रतिनिधि नहीं होता है। 1961 में हुए 23वें संविधान संशोधन से पहले यहां के नागरिकों को राष्ट्रपति चुनाव में मतदान का अधिकार तक नहीं था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *