मोदी सरकार की 8 साल की कार्य शैली पर कांग्रेस के सवाल

 नीरज कुमार दुबे

प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि हमारी माताएं-बहनें सम्मान से जी सकें इसके लिए हमने उनके जन धन बैंक खाते में सीधे पैसे जमा किए। किसानों और मज़दूरों के बैंक खाते में पैसे जमा किए। हमने मुफ्त गैस सिलेंडरों की भी व्यवस्था की ताकि गरीब के घर की रसोई हमेशा चलती रहे।

केंद्र में मोदी सरकार के आठ साल पूरे हो रहे हैं। इस अवसर पर भाजपा जहां मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत कर रही है तो कांग्रेस आरोपपत्र जारी कर रही है। कांग्रेस समेत विपक्ष आरोप लगा रहा है कि इन आठ सालों में मोदी सरकार ने युवाओं, किसानों, सशस्त्र बलों के जवानों, छोटे व्यापारियों, अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़े वर्गों, अल्पसंख्यकों और अन्य सभी वर्गों के साथ छल किया है। तो वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि पिछले आठ वर्षों में मैंने ऐसा कोई काम नहीं किया जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कह रहे हैं कि पिछले आठ वर्षों में हमने महात्मा गांधी और सरदार पटेल के सपनों का भारत बनाने की कोशिश की तो वहीं कांग्रेस का आरोप है कि सरकार अपनी विफलताओं पर से ध्यान भटकाने के लिए छल, कपट, झूठ और नफरत का सहारा ले रही है। प्रधानमंत्री मोदी कह रहे हैं कि हमने विभिन्न योजनाओं के माध्यम से देश के गरीबों की सेवा की और उनके जीवन को बेहतर बनाने की कोशिश की तो कांग्रेस का आरोप है कि मोदी सरकार के आठ वर्ष सिर्फ ‘कुशासन’ और वादाखिलाफी के लिए जाने जाएंगे।

प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि हमारी माताएं-बहनें सम्मान से जी सकें इसके लिए हमने उनके जन धन बैंक खाते में सीधे पैसे जमा किए। किसानों और मज़दूरों के बैंक खाते में पैसे जमा किए। हमने मुफ्त गैस सिलेंडरों की भी व्यवस्था की ताकि गरीब के घर की रसोई हमेशा चलती रहे। तो वहीं कांग्रेस ने कहा है कि अच्छे दिनों का वादा करने वाली सरकार के कार्यकाल में रसोई गैस सिलेंडर 1000 रुपये से अधिक और सरसों का तेल 200 रुपये से अधिक मूल्य पर मिल रहा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कह रहे हैं कि जब हर नागरिक तक सुविधाएं पहुंचाने का लक्ष्य होता है तो भेदभाव भी खत्म होता है, भ्रष्टाचार की गुंजाइश भी नहीं रहती, ना भाई-भतीजावाद रहता है ना जात-पात का भेद रहता है, इसलिए हमारी सरकार मूलभूत सुविधाओं से जुड़ी योजनाओं को नागरिकों तक पहुंचाने में जी जान से जुटी हुई है। तो वहीं कांग्रेस का कहना है कि सरकार ने देश में नफरत फैलाकर देश के साथ एक और छल किया है। कांग्रेस का आरोप है कि देश के चुनाव में अब ‘80 बनाम 20’, श्मशान-कब्रिस्तान, लाउडस्पीकर, बुलडोजर, मंदिर बनाम मस्जिद बनाम गिरजाघार बनाम गुरुद्वारा, सड़कों के नाम बदलना, खाने-पहनने के नाम पर बंटवारा ही मुख्य मुद्दे हो गये हैं। कांग्रेस का यह भी आरोप है कि धार्मिक बंटवारा कर वोट बटोरने के लिए अल्पसंख्यकों को बार-बार निशाना बनाया जाता है और अब सिर्फ मुस्लिम अल्पसंख्यक ही नहीं, बल्कि ईसाई तथा सिख अल्पसंख्यक भी इस धार्मिक तुष्टीकरण का निशाना बन रहे हैं।
प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि गरीबों की सरकार होती है तो कैसे उसकी सेवा करती है, उन्हें सशक्त करने के लिए काम करती है, ये आज पूरा देश देख रहा है। उन्होंने कहा है कि 100 साल के सबसे बड़े संकट काल में भी देश ने ये लगातार अनुभव किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि महामारी शुरू हुई तो गरीब के सामने खाने-पीने की समस्या हुई, तो हमने देश के अन्न भंडार खोल दिए। तो वहीं कांग्रेस का आरोप है कि नारा दिया गया था कि अच्छे दिन आने वाले हैं। लेकिन मोदी आये तो महंगे दिन लाये। कांग्रेस ने नारा दिया है कि ‘किसानों की आमदनी भी नहीं हुई दोगुना, बल्कि उन्हें दर्द मिला सौ गुना’। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मोदी आये तो मंदी के दिन लेकर आए। अब अच्छे दिनों की फ्लॉप फिल्म उतर चुकी है।
हम आपको बता दें कि कांग्रेस ने मोदी सरकार के आठ साल पूरे होने के मौके पर “आठ साल-आठ छल, भाजपा सरकार विफल” शीर्षक वाली एक पुस्तिका भी जारी की है। कांग्रेस ने जो पुस्तिका जारी की है उसमें सरकार के कथित ‘छल’ का विस्तृत उल्लेख करते हुए आंकड़ों के साथ सरकार पर निशाना साधा गया है। पेट्रोल, डीजल और कई खाद्य वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी का उल्लेख करते हुए कांग्रेस ने इस पुस्तिका में कहा है कि भाजपा की अहंकारी सत्ता में डायन महंगाई अब घर जमाई बन गई है। कांग्रेस ने मोदी सरकार के आठ साल पूरे होने पर आरोप लगाया है कि देश में बढ़ती बेरोजगारी की समस्या का हल खोजने में सरकार नाकाम रही है। कांग्रेस ने दावा किया है कि मोदी सरकार के कार्यकाल में अर्थव्यवस्था गर्त में पहुँच गयी है। भाजपा पर हमलावर रुख बरकरार रखते हुए कांग्रेस का यह भी आरोप है कि सरकार ने किसानों के साथ ही देश के जवानों के साथ भी छल किया है क्योंकि ना तो किसानों की आय दोगुनी हुई ना ही ‘वन रैंक, वन पेंशन’ को सही से क्रियान्वित किया गया।

दूसरी ओर, प्रधानमंत्री और मंत्रीगण कह रहे हैं कि पिछले आठ सालों में देश की सीमाएं सुरक्षित हुई हैं और देश के दुश्मनों को उनकी नापाक हरकतों का मुंहतोड़ जवाब दिया गया है तो वहीं कांग्रेस का आरोप है कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर आंख मूंद ली गयी है। कांग्रेस का दावा है कि चीन ने लद्दाख में, गोगरा हॉट स्प्रिंग में भारत मां की सरजमीं पर कब्जा कर रखा है। लेकिन मोदी सरकार भारत मां की रक्षा करने में पूर्णतया विफल रही है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आरोप लगा रहे हैं कि परिवारवाद और परिवारवादी राजनीति देश की सबसे बड़ी दुश्मन हैं तो दूसरी ओर परिवारवादी दलों के नेता पलटवार करते हुए कह रहे हैं कि साम्प्रदायिक राजनीति देश की असली दुश्मन है।
बहरहाल, इसमें कोई दो राय नहीं कि आठ सालों से देश के प्रधानमंत्री पद पर रह कर सेवा कर रहे मोदी की लोकप्रियता में निरन्तर वृद्धि हुई है। आज मोदी देश के ही नहीं बल्कि विश्व के भी सर्वाधिक लोकप्रिय नेताओं में शुमार किये जाते हैं। मोदी को सिर्फ देश को तरक्की के रास्ते पर ले जाने का श्रेय ही नहीं बल्कि इस बात का भी श्रेय जाता है कि उन्होंने देश को गठबंधन राजनीति के युग तथा भ्रष्टाचार और नीतियों में शिथिलता के वातावरण से भी निकाला। मोदी ने इन आठ सालों में देश की दशकों पुरानी कई समस्याओं को जड़ से खत्म किया है तो साथ ही पिछली सरकारों की तरह पंचवर्षीय योजना बनाने की बजाय देश के लिए अगले 25 सालों के लक्ष्य तय कर उन्हें हासिल करने की दिशा में भी तेजी से काम शुरू कर दिया है। तभी तो मोदी आज गर्व से कह रहे हैं कि पिछले आठ सालों में गलती से भी कोई ऐसा काम नहीं किया जिससे देश का या देशवासियों का सिर झुक जाये।

Comment: