अफगानिस्तान : औरतों को लेकर तालिबान के नए फरमान

अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान का शासन लौटने के बाद से ही कट्टरपंथी कानून लोगों पर थोपे जा रहे हैं। खासकर, औरतों पर तरह-तरह के प्रतिबंध लग रहे। अब तालिबान (Taliban) ने औरतों द्वारा सार्वजनिक हमाम (Bathroom) का इस्तेमाल करने पर रोक लगा दी है। उज्बेकिस्तान (Uzbekistan) से सटे बल्ख प्रांत में इस तरह के हमाम चलन में हैं।

आदेश के मुताबिक औरतें अब सार्वजनिक बाथरूमों यानी स्नानघरों में नहीं नहा सकेंगी। वह घर के बाथरूम में ही नहा सकती हैं और इस दौरान भी उन्हें हिजाब पहन कर रखना होगा। इससे पहले पश्चिमी हेरात प्रांत में स्थानीय अधिकारियों ने औरतों के कॉमन स्नानघर को अस्थायी रूप से बंद कर दिया था।

डायरेक्टोरेट ऑफ प्रमोशन ऑफ वर्च्यू एंड प्रिवेंशन ऑफ वाइस के मुखिया ने कहा कि उलेमाओं से बातचीत के बाद यह फैसला लिया गया है। यह औरतों के हित के लिए उठाया गया कदम है ताकि इस्लाम के अनुसार नियम लागू हो सकें। खामा प्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक मुखिया ने कहा, “चूँकि लोगों के पास घरों में आधुनिक स्नानघर नहीं हैं, इसलिए पुरुषों को सामान्य स्नानघर में जाने की अनुमति है। लेकिन महिलाओं को हिजाब पहनकर निजी स्नानघर में जाना चाहिए।”

बॉडी मसाज पर भी बैन

रिपोर्ट में कहा गया कि कम उम्र के लड़कों को भी सामान्य स्नानघर में जाने से प्रतिबंधित कर दिया गया है। इसके अलावा लड़कों पर बॉडी मसाज को लेकर भी प्रतिबंध लगाया गया है।

महिला मॉडल के पुतले के काटे सिर

एक अन्य घटना में तालिबान ने दुकान पर लगाए गए मॉडल्स के पुतलों को गैर इस्लामी बता उनका सिर कलम कर दिया। तालिबान का कहना है कि दुकानों पर जो पुतले लगे हैं, वे इस्लाम के खिलाफ हैं, लिहाजा उनका सिर कलम कर दिया गया। तालिबान ने कहा कि दुकान पर लगे पुतले, इस्लाम और शरिया का उल्लंघन करते हैं।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि एक शख्स दुकान पर रखे मॉडल्स के पुतलों का आरी से सिर कलम कर रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि कम से कम 10 पुतलों के सिर पहले ही काटे जा चुके हैं जो उस शख्स के पैरों के पास पड़े हुए हैं।

पिछले हफ्ते, पश्चिमी प्रांत हेरात में दुकानदारों से दुकानों से पुतलों को पूरी तरह से हटाने के लिए कहा गया था, जिसका विरोध दुकानदारों की तरफ से किया गया था। दुकानदारों की तरफ से कहा गया था कि दुकानों से पुतला हटाने के बाद उनके व्यवसाय पर असर पड़ेगा, जिसके बाद तालिबानी मंत्रालय के प्रमुख शेख अजीज रहमान ने अपने पुतलों का सिर कलम करने का आदेश दिया। शेख अजीज रहमान ने इसे ‘मूर्ति’ माना और मूर्ति पूजा इस्लाम में एक गंभीर पाप माना जाता है।

कार की आगे की सीट पर नहीं बैठ सकतीं दो महिलाएँ

उल्लेखनीय है कि इससे पहले तालिबान ने देश भर में महिलाओं की यात्रा को 45 मील तक सीमित कर दिया था। अब कोई भी ड्राइवर महिलाओं को अपनी कारों की अगली सीट पर नहीं बैठाएगा। अगर कोई ऐसा करता है तो उसके लिए सजा का भी प्रावधान है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest Posts